उत्तराखंड के मुनस्यारी में भारी बारिश से 2 दर्जन से अधिक मकान प्रभावित

 

पिथौरागढ़, 2 जुलाई (एजेंसी)। उत्तराखंड में पिथौरागढ़ जिले के बागापानी और मुनस्यारी क्षेत्रों में आधी रात के बाद हुई भारी बारिश से दो दर्जन से अधिक मकान बुरी तरह प्रभावित हुए। पिथौरागढ़ के जिलाधिकारी सी रविशंकर ने बताया कि बारिश के कारण मुनस्यारी जाने वाले मार्ग क्षतिग्रस्त हो गये, लकड़ी के कुछ पुल बह गये तथा बागापानी और मुनस्यारी क्षेत्रों में कई मकान प्रभावित हुए और उन्हें नुकसान पहुंचा।हालांकि, उन्होंने कहा कि इस बारिश में कहीं से किसी जान—माल के नुकसान की खबर नहीं है। जिलाधिकारी के अनुसार, पिछले दो दिनों से हो रही लगातार बारिश के बाद कल आधी रात को स्थानीय बरसाती नदियों, जैसे बालूखोल्टा और सिडनली में उफान आ गया और मुनस्यारी शहर में मकानों को क्षति पहुंची। उन्होंने कहा कि कल रात आधी रात के बाद 1:50 बजे से हमारी टीमें सक्रिय हैं और वे राहत और बचाव कार्य में लगी हैं।हालांकि, नुकसान के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि नुकसान का आकलन किया जा रहा है और जल्द ही उसकी रिपोर्ट आ जायेगी। मुनस्यारी के उपजिलाधिकारी एसएन गोस्वामी ने बताया कि बारिश के कारण खराब हुए हालात से निपटने के लिए 17 से ज्यादा टीमें राहत और बचाव अभियान में लगी हैं और इनमें से नौ टीमें अकेले मुनस्यारी में ही हैं। गोस्वामी ने कहा कि हमने मुनस्यारी—थल मोटर मार्ग पर सड़क साफ करने के लिए रात ढाई बजे से दो जेसीबी लगा दी हैं और आज शाम तक यह मार्ग साफ हो जायेगा। उन्होंने बताया कि बारिश से एक निजी कंपनी के पांच मेगावाट के पनबिजली घर को भी कुछ नुकसान हुआ है जबकि भारी बारिश से उफनाई गौरी नदी में स्थानीय व्यापारियों के दो वाहन भी बह गये। मुनस्यारी में प्रभावित हुए लोगों ने बताया कि स्थानीय नदी—नालों में आधी रात के बाद अचानक आये उफान से उनके घरों में पानी और मलबा घुस गया। मुनस्यारी क्षेत्र के मल्ला घोरपटटा गांव के निवासी प्रकाश बृजवाल ने बताया कि कल आधी रात के करीब निकटवर्ती नदी—नाले का पानी मेरे घर में घुस गया जिसके बाद हमें अपने पड़ोसी के घर शरण लेनी पड़ी। इसी गांव के एक दुकानदार खुशाल सिंह ने बताया कि बारिश के पानी में उनकी दुकान पर रखे लैपटॉप, यूपीएस सहित अन्य इलैक्ट्रानिक उपकरण बह गये।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *