घर को पेंट कराने से पहले इसे जरूर पढ़ें

कई बार एक कमरा कम सजावट के बावजूद काफी लुभावना लगता है और दूसरे कमरे में काफी सजावट के बाद भी बोरियत सी लगती है। दरअसल ये रंगों का खेल है। कई बार हम दीवारों के लिए रंगों का सही चुनाव नहीं कर पाते हैं, जो परेशानी का मुख्य कारण होता है। कैसे दीवारों के लिए करें सही रंगों का चुनाव, आइए जानें
छोटे कमरे से करें शुरुआत : अगर आप इस बात को लेकर परेशान हैं कि पेंटिंग की शुरुआत कहां से करनी है तो आपकी यह समस्या हम दूर कर देते हैं। बाथरूम या घर के सबसे छोटे हस्सिे से दीवार की पेंटिंग शुरू करें। इंटीरियर डिजाइनर प्रज्ञा कहती हैं, ह्यअगर आप खुद ही पेंटिंग में हाथ आजमाने वाली हैं तो चुनी थीम के अनुसार घर के एक हस्सिे को पेंट करें। इससे आपको परिणाम जल्दी दिख जाएगा। इसके बाद आप अपनी पसंद-नापसंद के हिसाब से घर के अन्य हस्सिों में फेरबदल भी कर पाएंगी। दीवारों की पेंटिंग शुरू करने से पहले अपने पसंदीदा रंग और आर्ट वर्क का चयन अच्छे से करें।
पेस्टल रंगों में करें यह प्रयोग : भारतीय घरों की दीवारों पर अमूमन पेस्टल रंगों के हल्के शेड का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है। अगर आपको पेस्टल रंग उबाऊ लगने लगे हैं और बहुत ज्यादा प्रयोग से आप डरती हैं तो आपकी परेशानी का एक समाधान हमारे पास है। दीवारों को पेस्टल शेड से रंगने के बाद एक दीवार पर उसी रंग से एक टोन गहरे रंग वाली चीजें सजाएं। कमरा खिल उठेगा।
लाइटिंग से तालमेल : अकसर रंगों की असलियत सही रोशनी में ही समझ आती है। सूरज की रोशनी में ही कोई रंग सही दिखाई देता है। कुछ खास तरह की रोशनी में गहरे रंग खिल जाते हैं। आपकी दीवार खूबसूरत दिखे, इसके लिए रंग और रोशनी का तालमेल जरूरी है। नीले टोन वाली लाइट लगाने से फ्लोरोसेंट रंग में निखार आता है। वहीं, गाढ़े रंगों की दीवारों के साथ तेज रोशनी का तालमेल ठीक नहीं लगता है। अगर दीवार पर गाढ़ा रंग है तो वहां रोशनी हल्की रखें।
मूड के अनुसार करें चुनाव : रंगों को चुनने के दौरान कमरे के मूड का भी ध्यान रखें। बेडरूम के लिए आंखों को सुकून देने वाली थीम बेहतर मानी जाती है। यहां चटक रंगों के इस्तेमाल से बचें। वहीं, डाइनिंग एरिया में उजले रंग चुनें और बाकी सजावट उसी आधार पर करें। बच्चों के कमरे में ऊर्जा से भरे रंगों का इस्तेमाल करें। इंटीरियर डिजाइनर वात्सल्या कहती हैं, ह्यकई बार हम बच्चों के कमरे में इतना ज्यादा गहरे रंगों का इस्तेमाल कर देते हैं कि वो आंखों को चुभने लगती है। संतुलन यहां भी जरूरी है।
नयेपन को स्वीकारें : ऑलिव, चॉकलेट ब्राउन, पीला आदि कुछ ऐसे रंग हैं, जिनके इस्तेमाल से हम बचते हैं। इस बारे में इंटीरियर डिजाइनर प्रज्ञा कहती हैं, ह्यअगर सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए तो ये रंग भी अपने आप में काफी आकर्षक लगते हैं। इन रंगों को डिजाइनर वॉल या मिरर वर्क से भी आप निखार सकती हैं। कई रंग ऐसे होते हैं, जो दीवारों को बेहद ही आकर्षक फिनिश देते हैं। घर को शाही अंदाज देने के लिए मेटल शेड को इन दिनों काफी पसंद किया जा रहा है।
विपरीत रंगों से आएगा निखार : घर के किसी हस्सिे में आप कलर व्हील थीम के अनुसार भी पेंट करवा सकती हैं। विपरीत रंगों को सही तरह से इस्तेमाल कर के बेजान कमरों में भी जान डाली जा सकती है। इंटीरियर डिजाइनर वात्सल्या कहती हैं, ह्यकमरे की एक दीवार पर कोई गाढ़ा रंग इस्तेमाल करें और बाकी दीवारों पर उसी रंग या विपरीत रंग का हल्का टोन उपयोग में लाएं। इससे पूरे कमरे की खूबसूरती निखर जाएगी। अगर इस तरह के प्रयोग से आप डरती हैं तो पहले घर के किसी छोटे हस्सिे में इसे उपयोग में लाकर देख लें।
रंगों के बारे में जानें : हर रंग अपने आप में खूबसूरत है लेकिन शर्त यह है कि उसका सही रंगों के साथ तालमेल किया जाए। जैसे पीले रंग के साथ अगर वैसे ही दूसरे रंग का तालमेल कर दिया जाए तो दोनों रंग आकर्षक लगेंगे। घर की खूबसूरती निखारने के लिए रंगों की जानकारी होना भी जरूरी है। अगर आपको रंगों की ज्यादा समझ नहीं है तो आप इसके लिए इंटीरियर एक्सपर्ट की सलाह भी ले सकती हैं। काफी मदद मिलेगी।
कई बार एक कमरा कम सजावट के बावजूद काफी लुभावना लगता है और दूसरे कमरे में काफी सजावट के बाद भी बोरियत सी लगती है। दरअसल ये रंगों का खेल है। कई बार हम दीवारों के लिए रंगों का सही चुनाव नहीं कर पाते हैं, जो परेशानी का मुख्य कारण होता है। कैसे दीवारों के लिए करें सही रंगों का चुनाव, आइए जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *