सोते समय गलत तरीके से तकिया लगाएंगे तो होगी परेशानी

कुछ लोगों की आदत होती है कि वे रात को सोते समय तकिया अवश्य लगाते हैं। यहां तक कि ऐसे लोगों को तो बिना तकिए के नींद ही नहीं आती। आमतौर पर लोग मानते हैं कि तकिया लगाने से कोई नुकसान नहीं होता, जबकि वास्तव में ऐसा नहीं होता। अगर आप लगातार गलत तरह से या गलत तकिया लगाते हैं तो इससे आपको कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ समस्याओं के बारे में-
नींद की समस्या
कुछ शोध इस ओर इशारा करते हैं कि आपकी नींद और सोने के तरीके का सीधा संबंध होता है। बहुत से शोधों में इस बात का खुलासा हुआ है कि जो लोग रात में बिना तकिया लगाए सोते हैं, वे लोग बेहतर तरीके से नींद ले पाते हैं। साथ ही इससे आपको इनसोमनिया और रात में बार-बार उठने की समस्या नहीं होती।
कमर दर्द और गर्दन में दर्द
जो लोग रात में तकिया लगाकर सोते हैं, उन्हें अक्सर कमर और गर्दन में दर्द की शिकायत होती है। दरअसल, ऐसा आपके गलत पाश्चर के कारण होता है। जब आप तकिया लगाते हैं तो आपका सिर ऊंचा हो जाता है, जिससे आपकी गर्दन पर दबाव पड़ता है। साथ ही इससे आपकी रीढ़ की हड्डी भी प्रभावित होती हैं और कमर दर्द की शिकायत पैदा होती है।
प्रभावित होती है रचनात्मकता
आपको शायद जानकर हैरानी हो लेकिन तकिया आपकी रचनात्मकता को भी काफी हद प्रभावित करता है। जी हां, कुछ अध्ययन के अनुसार, जब आप रात में बेहतर तरीके से सोते हैं, इससे आपकी स्मृति और रचनात्मकता बेहतर होती है। लेकिन तकिए के इस्तेमाल से आपकी नींद बार-बार टूटती हैं और आपका रचनात्मक स्तर उतना बेहतर नहीं हो पाता, जितना वास्तव में उसे होना चाहिए।
तरीका भी करता है प्रभावित
आपको यह समझना होगा कि तकिया लगाने का तरीका आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। अमूमन अगर आप बहुत हार्ड तकिया लगाकर सोते हैं तो इससे सिर पर दबाव पडऩे के कारण सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस जैसी समस्या हो सकती है। वहीं साफ्ट तकिए का इस्तेमाल करने से गर्दन में दर्द की शिकायत हो सकती है। ठीक इसी तरह, अगर आप ज्यादा ऊंचे तकिए का प्रयोग करते हैं तो इससे आपका ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित होता है और आपको स्किन और पेट से जुड़ी समस्या हो सकती है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *