यूरिन इंफेक्शन से बचाता है अनानास

अनानास में थाइमिन, राइबोफ्लेविन, सुक्रोज, ग्लूकोज, कैफीक और सिट्रिक अम्ल, कार्बोहाईड्रेट तथा प्रोटीन पाया जाता है। जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने से लेकर यूरिन के रास्ते का इंफेक्शन तक दूर करता है। अनानास का रस मुंह से लेकर गले तक के जीवाणुओं मारने का काम करता है।
अनानास खाने के जाने पांच फायदे
गर्मियों में अनानास का रस या शर्बत पीने से तेज गर्मी व पसीने की समस्या दूर होती है।
शरीर में सूजन हो जाने की स्थिति में अनानास फायदेमंद साबित होता है।
अनानास से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। हड्डी को मजबूत बनाने और ऊर्जा प्रदान करने का काम करता है।
मांसपेशियों में होने वाली दर्द को भी यह कम करता है
शरीर में कमजोरी या खून की मात्रा कम होने पर अनानास फायदेमंद रहता है।
अगर तेज प्यास लग रही है तो अनानास का इस्तेमाल प्यास तो बुझाता ही है। साथ ही ताकत भी देता है।
अनानास खाने के लिए उसका छिलका उतारना भले ही मुश्किल भरा हो लेकिन खाने में यह स्वादिष्ट तो लगता ही है इसके खाने के कई लाभ भी हैं। अनानास खाने से होंगे ये लाभ :
1. ताजे अनानास का सौ ग्राम रस बच्चे को पिलाने से उसके कृमि (बारीक कीड़े) नष्ट हो जाते है। अनानास का रस खाली पेट नहीं पिलाना चहिए।
2. अनानास का रस या शर्बत पीने से तेज गर्मी व पसीने की समस्या दूर होती है।
3. अनानास पर काली मिर्च और काले नमक का चूर्ण डालकर सेवन करने से बदहजमी की समस्या दूर होती है।
4. रोजाना दो सौ ग्राम अनानास का रस पीने से मोटापा कम होता है क्योंकि अनानास का रस चर्बी को कम करता है।
5. अनानास का रस गले तथा मुंह के जीवाणुजन्य रोगों में लाभकारी होता है।
6. अनानास के सेवन से मूत्र में रूकावट नहीं आती है।
7. अनानास,जायफल, पीपल, काला नमक व जीरा सभी चीजें बराबर मात्रा में लेकर कूट-पीसकर चूर्ण बना लें। तीन ग्राम चूर्ण जल के साथ सुबह-शाम सेवन करने से बहुमूत्र की समस्या में बहुत लाभ होता है।
8. बुखार में भी अनानास के रस का सेवन करना चाहिए।
9. अजीर्ण के रोगी को अनानास पर काली मर्च का चूर्ण छिड़ककर, सेंधा नमक डालकर सेवन करना चाहिए।
10. विटामिन सी व अन्य पौष्टिक खाद्य पदार्थों के अभाव के कारण स्कर्वी रोग होने पर अनानास खाने व रस पीने से बहुत लाभ होता है।
11.अनानास शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाने और शरीर को ऊर्जा प्रदान करने का काम करता है।
12.शरीर में खून की कमी में अनानास का रस बहुत ही लाभदायक होता है।
13.अल्प मात्रा में ऋतुश्राव होने पर रोजाना अनानास का रस पीने से ऋतुश्राव उचित रूप में होने लगता है।
14.गर्मियों में ह्रदय की घबराहट बढ़ जाने व अधिक बेचैनी होने पर अनानास का रस या शर्बत पीने से बहुत लाभ होता है।
15.अनानास का गूदा फोड़े-फुन्सियों पर लेप करने से बहुत फायदा होता है।
16.गले में शोथ होने पर और टांसिल होने की स्थिति में अनानास खाने से बहुत फायदा होता है।
17.अनानास से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *