डायरेक्टर ने प्रियंका के सामने रखी ऐसी शर्त, जब नहीं मानीं तो 10 फिल्मों से निकाल दिया

डायरेक्टर ने प्रियंका के सामने रखी ऐसी शर्त, जब नहीं मानीं तो 10 फिल्मों से निकाल दिया बॉलीवुड की देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा आज एक ऐसे मुकाम पर पहुंच चुकी हैं जहां पहुंचने का सपना हर एक्ट्रेस देखती है। लेकिन बता दें कि यहां तक पहुंचना उनके लिए आसान नहीं था। हाल ही में प्रियंका की मां मधू चोपड़ा ने एक इंटरव्यू के दौरान इस बात का खुलासा किया कि एक बार डायरेक्टर की एक बात न मानने पर प्रियंका को 10 बड़ी फिल्मों से निकाल दिया गया था।मधू ने कहा, एक डिजाइनर ने प्रियंका चोपड़ा से कहा कि डायरेक्टर चाहते हैं कि वो फिल्म में छोटे कपड़े पहने। लेकिन प्रियंका ने इसके लिए मना कर दिया। डायरेक्टर ने ये भी कहा कि ऐसी मिस वर्ल्ड को फिल्म में लेने का क्या फायदा जो खुद की खूबसूरती को कैमरे पर ना दिखा पाए। उसके बाद प्रियंका ने फिल्म में काम करने से ही इंकार कर दिया था। जिसके बाद प्रियंका को डायरेक्टर ने धमकी दी कि फिल्म को ठुकराने की उन्हें बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी। डायरेक्टर की इस शर्त को ना मानने के कारण प्रियंका को 10 बड़े बॉलीवुड प्रोजेक्ट्स से निकाल दिया गया था।मधु चोपड़ा ने आगे कहा, ‘प्रियंका ने जब इस इंडस्ट्री में कदम रखा था तब वो सिर्फ 17 साल की थीं। तो इसलिए मैं हर वक्त प्रियंका के साथ रहती थी। एक बार तो एक डायरेक्टर ने प्रियंका को फिल्म की कहानी सुनाने के लिए बुलाया। मैं भी प्रियंका के साथ गई थी, लेकिन डायरेक्टर ने प्रियंका से ये कहा कि वो फिल्म की कहानी उसे अकेले में ही सुनाएंगे। उस समय प्रियंका ने उस डायरेक्टर से ये साफ कह दिया कि जिस कहानी को मेर मां नहीं सुन सकती, ऐसी फिल्मों में वो काम नहीं करेंगी।’प्रियंका चोपड़ा ने कुछ दिनों पहले हॉलीवुड की मशहूर प्रोड्यूसर हार्वी वाइंस्टीन के यौन शोषण के मामले में कहा कि ये सेक्स का नहीं बल्कि आदमी की पावर का मामला है जो अक्सर एक महिला की शक्ति को दूर करने की कोशिश करता है। प्रियंका चोपड़ा ने कहा कि हार्वी वाइंस्टीन जैसे लोग अपवाद नहीं हैं और हर जगह ऐसे बहुत सारे लोग हैं जिनके हाथों महिलाएं यौन शोषण का शिकार बनती हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह के व्यवहार की वजह यौन उत्कंठा नहीं है बल्कि इसकी असली वजह लोगों पर नियंत्रण स्थापित करने की चाहत है।    मेरी क्लैर पत्रिका की खबर के अनुसार प्रियंका ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि केवल एक वाइंस्टीन है। मुझे यह भी नहीं लगता कि हॉलीवुड में एक ही वाइंस्टीन है। ऐसे बहुत सारे पुरूष हैं और ना केवल भारत में बल्कि हर जगह हैं। पुरूष (महिलाओं) से उनकी ताकत छीनने की कोशिश कर रहे हैं।  प्रियंका ने 2017 मैरी क्लैर पावर ट्रिप में एक चर्चा के दौरान ऐन फूलवाइडर से कहा, ‘यह केवल यौन संबंधों की चाहत नहीं है, इसका असल में ताकत से लेना देना है। इसका लेना देना एक महिला को उसकी जगह दिखाने से है। लंबे समय से महिलाओं को सुनाया जाता रहा है कि हममें से केवल एक ही बनी रहेगी। सर्वश्रेष्ठ लड़की को ही काम मिलेगा। लेकिन इसे अब और बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने फिल्म जगत को बिग ब्यॉज क्लब  (प्रमुख पुरूषों का समूह) बताया जहां महिलाएं हमेशा इस आशंका में जीती हैं कि एक भी गलत कदम उनके करियर के लिए महंगा साबित हो सकता है। उन्होंने कहा, फिल्म जगत में अगर आप किसी के अहं को चोट पहुंचाते हैं तो आपके सामने खतरा पैदा होगा कि आपको वह फिल्म नहीं मिलेगी या यह बिग ब्यॉज क्लब साथ आ जाएगा और आपका बहिष्कार करेगा।प्रियंका ने आगे कहा, ‘इसलिए एक महिला के तौर पर आपको लगता है कि आप अकेली हैं, कि आपका काम प्रभावित हो सकता है क्योंकि यह क्लब यह सब कर सकता है। यह किसी को अलग थलग करना है। किसी महिला से सबसे आसान जो चीज छीनना है, वह उसका काम है।

मधू ने कहा, एक डिजाइनर ने प्रियंका चोपड़ा से कहा कि डायरेक्टर चाहते हैं कि वो फिल्म में छोटे कपड़े पहने। लेकिन प्रियंका ने इसके लिए मना कर दिया। डायरेक्टर ने ये भी कहा कि ऐसी मिस वर्ल्ड को फिल्म में लेने का क्या फायदा जो खुद की खूबसूरती को कैमरे पर ना दिखा पाए। उसके बाद प्रियंका ने फिल्म में काम करने से ही इंकार कर दिया था। जिसके बाद प्रियंका को डायरेक्टर ने धमकी दी कि फिल्म को ठुकराने की उन्हें बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *