जोधसिंह को पद से हटाने की अनुशंसा

श्रीगंगानगर, 24 जनवरी (नि.स.)। हनुमानगढ़ में बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के अध्यक्ष पद से जोधसिंह एडवोकेट को हटाने और उसके विरुद्ध उच्च स्तरीय जांच करने की राजस्थान बाल संरक्षण अधिकार आयोग ने विभाग से अनुशंसा की है। बुधवार को श्रीगंगानगर के सर्किट हाऊस में आयेाग की चेयरपर्सन मनन चतुर्वेदी (राज्यमंत्री) ने विशेष बातचीत में बताया कि हनुमानगढ़ में सीडब्ल्यूसी के अध्यक्ष जोधसिंह का जैसा संदिग्ध आचरण सामने आया है, वह गम्भीर, चौका देने वाला ही नहीं, बल्कि सीडब्ल्यूसी की विश्वसनियता को भी खतरे में डाल देने वाला है। उनके संज्ञान में जैसे ही यह मामला आया, उन्होंने अगले दिन ही समाज कल्याण विभाग को अनुशंसा कर दी थी कि जोधसिंह को इस पद से हटाया जाये। उन्होंने बताया कि समाज कल्याण विभाग ने सीडब्ल्यूसी के अध्यक्ष को सीधे नहीं हटाया जा सकता, इसके लिए एक कमेटी बनी हुई है। इस कमेटी में न्यायिक अधिकारी और आयोग के सदस्य भी हैं। यह कमेटी पहले जांच करवायेगी, उसके बाद निर्णय करेगी। बता दें कि पिछले वर्ष नई दिगी की एक किशेारी को हनुमानगढ़ जंक्शन में एक कुख्यात महिला के अड्डे पर लाकर उससे जबरन जिस्मफिरोशी करवाये जाने के बहुचर्चित मामले में पुलिस द्वारा गिरफ्तार करीब 17 अभियुक्तों में से कइयों को बचाने के लिए लाखों-करोड़ों रुपये बटौरने का जोधसिंह पर आरोप है। इन आरोपों के चलते जोधसिंह के विरुद्ध तीन-चार मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। हनुमानगढ़ के डीएसपी वीरेन्द्र जाखड़ इसकी जांच कर रहे हैं। अपने खिलाफ मामले दर्ज होने के बाद से जोधसिंह भूमिगत हैं, जो पुलिस द्वारा नोटिस दिये जाने पर भी पेश नहीं हो रहे। यह मामला कईं दिनों से चर्चा में छाया हुआ है। सर्किट हाऊस में मनन चतुर्वेदी का श्रीगंगानगर बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत सैनी एडवोकेट, आयोग के सदस्य अर्जुन बागड़ी, समिति की सदस्य प्रभा शर्मा, प्रदीप धेरड़, भाजपा नेत्री रूपा सोनी, चंद्रकांता सिडाना, मारवाड़ी युवा मंच के आनंद टाक आदि लोगों ने स्वागत किया। मनन चतुर्वेदी ने श्रीगंगानगर में बाल कल्याण समिति की चल रही गतिविधियों के बारे मेें अध्यक्ष व सदस्यों से चर्चा की।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *