मातृभूमि को शिक्षा के क्षेत्र में देश में अग्रणी बनाएं-देवनानी

जयपुर, 9 जून (एजेन्सी)। शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने विद्या के लिए दिए दान को सर्वोपरि बताया है। उन्होंने प्रवास में बसे राजस्थानियों का आह्वान किया कि वे अपनी मातृभूमि राजस्थान को शिक्षा में देश की अग्रणी बनाने के लिए हरसंभव सहयोग करें। उन्होंने ज्ञान संकल्प पोर्टल और ‘मुख्यमंत्री विद्या दान कोष में अधिकाधिक सहयोग कर शैक्षिक सुदृढ़ता के लिए किए जा रहे राज्य सरकार के प्रयासों में सहयोग का आह्वान किया।देवनानी ने कोलकता में राजस्थान परिषद के तत्वावधान में आयोजित संगोष्ठी और आईलीड संस्थान के अंतर्गत प्रवासी राजस्थानियों से किए आत्मीय संवाद में यह बात कही। उन्होंने प्रवास में बसे राजस्थानी लोगों को अपने-अपने क्षेत्र के विद्यालयों को गोद लेने और वहां पर शिक्षा के विकास में सहभागी बनने की अपील की। उन्होंने राज्य में शिक्षा उन्नयन कार्यों की चर्चा भी की। उन्होंने कहा कि व्यक्ति के सर्वांगीण विकास का एक प्रमुख आधार शिक्षा ही है। इसे दृष्टिगत रखते हुए ही राजस्थान मे शैक्षिक उन्नयन को सर्वोपरि रखते हुए कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज देशभर में राजस्थान के शिक्षा मॉडल की चर्चा है। इसलिए कि शिक्षा में सर्वाधिक नवाचार अपनाते हुए राजस्थान में जमीनी स्तर पर शिक्षा को सुदृढ़ करने का प्रयास किया गया है। उन्होंने प्रवास में बसे राजस्थानियों का आह्वान किया कि उनके साथ मिलकर निकट भविष्य में राजस्थान में और भी कुछ महत्वपूर्ण किया जा सकेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *