रिलायंस कॉम्युनिकेशन ने एरिक्सन के समक्ष पेश की सुलह की डील, शेयरों में आया उछाल

नई दिल्ली। सैकड़ों करोड़ रुपये के बकाये को लेकर आठ महीने से चल रही कानूनी लड़ाई खत्म करने के लिए अनिल अंबानी की रिलायंस कॉम्युनिकेशंस ने स्वीडन की टेलिकॉम उपकरण निर्माता कंपनी एरिक्सन से सुलह की पेशकश की है। मामले से वाकिफ लोगों ने बताया कि आरकॉम ने इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी प्रोसीडिंग्स के दायरे से बाहर मामला सुलझाने का प्रस्ताव रखा है। इसकी जानकारी सामने आने पर गुरुवार को आरकॉम का शेयर करीब 70 पर्सेंट उछल गया था। सूत्रों ने बताया कि एरिक्सन ने अनिल अंबानी की कंपनी से एक अंडरटेकिंग मांगा है कि अगर आरकॉम सेटल्ड अमाउंट न चुका पाए तो लेंडर एसबीआई वह बकाया चुकाएगा। एरिक्सन ने आरकॉम के अखिल भारतीय टेलिकॉम नेटवर्क को ऑपरेट और मैनेज करने के लिए 2014 में सात साल की डील की थीं। वह अब अपना 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा का बकाया रिकवर करने की कोशिश कर रही है। एक व्यक्ति ने बताया, अभी बातचीत चल रही है, लेकिन कोई औपचारिक प्रस्ताव नहीं दिया गया है।’ एक अन्य व्यक्ति ने बताया, ‘सेटलमेंट के लिए चुकाई जाने वाली रकम पर बातचीत हो रही है।’ किसी भी तरह का सेटलमेंट होने से आरकॉम को अपनी वायरलेस एसेट्स यानी स्पेक्ट्रम, टावर, फाइबर और स्विचिंग नोड्स को रिलायंस जियो के हाथ 18000 करोड़ रुपये में बेचने और 46000 करोड़ रुपये का कर्ज घटाने में मदद मिल सकती है। कर्ज घटाने की अपनी योजना में कई कानूनी बाधाओं का सामना कर रही आरकॉम ने चौथे क्वॉर्टर के नतीजों पर विचार करने के लिए होने वाली अपने बोर्ड की बैठक दो बार टाली है। पहले इसे 15 मई को होना था, लेकिन इसे टालकर 19 मई किया गया। अब बोर्ड मीटिंग 30 मई को होगी। एक अन्य व्यक्ति ने बताया कि आरकॉम और एरिक्सन के बीच सेटलमेंट होने से एचएसबीसी डेजी इनवेस्टमेंट्स और दूसरे माइनॉरिटी शेयरहोल्डर्स का केस मजबूत होगा, जिन्होंने आरकॉम की टावर यूनिट रिलायंस इंफ्राटेल को लेकर नैशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल में मामला दर्ज कराया है। एचएसबीसी और अन्य माइनॉरिटी इनवेस्टर अपने हितों की रक्षा करने के लिए रिलायंस इंफ्राटेल के टावरों और फाइबर एसेट्स की रिलायंस जियो के हाथ बिक्री का विरोध कर रहे हैं। आरकॉम, एरिक्सन और एसबीआई ने ईटी के सवालों के जवाब नहीं दिए। बीएसई पर गुरुवार को आरकॉम का शेयर इंट्रा-डे में 70 पर्सेंट उछलकर 17.90 रुपये पर चला गया था। बाद में 56.87 पर्सेंट की तेजी के साथ यह 16.55 रुपये पर बंद हुआ।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *