आपके पास भी है क्विड या खरीदने चाहते हैं तो खबर जरूर पढ़ लें

नई दिल्ली। आपके पास भी अगर रेनॉ की क्विड है या फिर आप इसे खरीदने का मन बना चुके हैं तो जरा रुक जाइये. पहले ये खबर पढ़ लें उसके बाद ही कोई फैसला करें. दरअसल, रेनॉ क्विड के लिए 2017 के लैटिन एनसीएपी के सातवें दौर के परिणाम जारी हो गए हैं. कैश टेस्ट में ब्राजील में बिकने वाली रेनॉ क्विड को 3 स्टार मिले हैं. इसमें साबित हो गया है कि ब्राजील में बिकने वाली रेनॉ क्विड भारत में बिकने वाली क्विड से बेहतर है. पिछली बार हुए क्रैश टेस्ट में रेनॉ क्विड को जीरो स्टार रेटिंग मिली थी. रेनॉ अपनी इस कार का निर्माण सिर्फ ब्राजील और भारत में करती है।

क्रैश टेस्ट में क्या होता है : क्रैश टेस्ट में कार को सुरक्षा के लिहाज से चेक किया जाता है. टेस्ट के दौरान गाड़ी में ड्राइवर सीट पर आदमी की तरह पुतले को बिठाया जाता है. इसके बाद एक एवरेज स्पीड में गाड़ी का एक्सीडेंट किया जाता है. इसमें यह देखा जाता है कि गाड़ी के अंदर बैठे पुतलों को कितना नुकसान हुआ है. इसके बाद ही गाड़ी की सुरक्षा को लेकर उसे रेटिंग दी जाती है.पहले मिली थी जीरो रेटिंग: एनसीएपी के महासचिव अलेजैंड्रो फुरास के मुताबिक, यह अच्छा है कि निर्माताओं ने जल्दी इसमें सुधार किया है. 2014 में इंडियन क्विड का ग्लोबल एनसीएपी ने टेस्ट किया था, जिसमें इसे जीरो रेटिंग मिली थी. ब्राजील में बिकने वाली रेनॉ क्विड भारत में बिकने वाली क्विड से 140 किलो ज्यादा वजनी है. ब्राजील में सख्त सुरक्षा और दुर्घटना संरक्षण कानूनों को देखते हुए इसका चेसिस मजबूत बनाया गया है.

ब्राजील में जरूरी है एयरबैग और एबीएस: सभी पैसेंजर वाहनों में फ्रंट एयरबैग और एबीएस (एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम) को ब्राजील सरकार ने 3 साल पहले ही जरूरी किया था. रेनॉ टेक्नोलॉजी अमेरिका (आरटीए) ने ब्राजील में बिकने वाली क्विड पर बड़े पैमाने पर काम किया. कार को इस तर्ज पर तैयार किया गया जिससे यह एनसीएपी क्रैश टेस्ट के नियमों को पूरा कर सके. खास बात ये है कि ब्राजील में बनाया जा रहा नया मॉडल भारत में बिक रहे मॉडल की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *