खामोशियां के बोल्ड सीन डैड से पूछकर किए सपना पब्बी

अपने पहले ही धारावाहिक 24 से अपनी पहचान बनाने वाली सपना पब्बी ने अपने फिल्मी करियर का आगाज खामोशियां से किया। फिल्म में अपने बोल्ड और अंतरंग दृश्यों के कारण चर्चा में रही सपना इन दिनों खबरों में हैं, अपनी वेब सीरीज ब्रीद से। इस खास मुलाकात में ब्रीद के अलावा और भी कई मुद्दों पर बात करती हैं।

फिल्म खामोशियां में आपका बेहद ही बोल्ड रोल था। उस पर आपके रूढि़वादी पिता की क्या प्रतिक्रिया थी?

आपको जानकार हैरानी होगी कि मैंने खामोशियां अपने डैड से पूछकर साइन की थी। मुझे याद है कि मेरी रूममेट मेरे साथ बैठी थी और उसने मुझसे कहा कि वह सुनना चाहती है कि मेरे डैड का रिऐक्शन क्या होगा? जब उन्हें पता चलेगा कि मैं अंतरंग दृश्यों वाली फिल्म करनेवाली हूं। मुझे नहीं पता कि खामोशियां करना मेरे करियर का सही फैसला था या नहीं, मगर आप अपनी गलतियों से ही सीखते हैं। बहरहाल, मैंने उन्हें फोन किया और मैंने उनसे पूछा कि मेरे पास एक फिल्म का प्रस्ताव आया है, जिसमें काफी बेडरूम सीक्वेंस हैं। सुनकर वे चुप हो गए तो मैंने उनसे कहा, ‘पापा इस तरह के सीन करीना कुर्बान में कर चुकी हैं। प्रियंका ऐतराज में कर चुकी हैं।’ उन्होंने फोन पर मना तो नहीं किया। मुझे नहीं लगता कि वे उन बोल्ड दृश्यों के बारे में मुझसे कभी बात करेंगे। मुझे भी नहीं करनी।

लंदन से इंडिया आने के बाद आपको यहां कैसा महसूस होता है?

मैं भले लंदन में पली-बढ़ी हूं, मगर दिल से मैं और मेरा परिवार देसी हैं। मुझे यहां बहुत अच्छा लगता है। मेरे डैड अक्सर मुझे टिप्स देते रहते हैं कि मैं राजनीति पर अपना कोई बयान न दूं। उन्हें हर वक्त फिक्र सताती है कि मैं किसी विवाद में न पड़ जाऊं? वे मुझे समझाते रहते हैं कि झंडा लेकर मैं किसी आंदोलन का हिस्सा न बनूं। वैसे भी राजनीति के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है।

इस साल में और क्या नया करना चाहेंगी?

इस साल 2 मार्च को मेरी ड्राइव रिलीज होगी। इस फिल्म में सुशांत सिंह राजपूत और जैकलीन हैं। मैं निर्माता बनकर कुछ क्रिएटिव काम भी करना चाहती हूं और हां जल्द ही सेटल होकर अपने मॉम-डैड को यहां बुलाना चाहती हूं।
आपने 24 में अनिल कपूर के साथ काम किया था और अब आप ब्रीद में माधवन जैसे अनुभवी कलाकर के साथ काम कर रही हैं। कैसा रहा

Sapna-Pabbi

आपका अनुभव?

बहुत ही यादगार और सीखने वाला। अनिल जी से तो अपने पहले ही सीरियल में मैंने बहुत कुछ सीखा, मगर ब्रीद के दौरान माधवन और अमित साद ने मुझे कभी इस बात का अहसास नहीं होने दिया कि मैं नई हूं। अमित बहुत मजाकिया हैं। दोनों ही कलाकारों ने मुझे भरपूर इज्जत दी। इंडस्ट्री में सभी ने बहुत प्यार दिया। बॉलिवुड में मुझे आलिया और करीना जैसी भूमिकाएं करनी हैं। मुझे लगता है कि नायिकाओं को भी अच्छे रोल मिलने चाहिए, तभी वे खुद को साबित कर पाएंगी।

क्या आप हमेशा से अभिनेत्री बनना चाहती थीं?

जब मैं छोटी थी, तब मैं एयर होस्टेस बनना चाहती थी, मगर मेरे पिता ने साफ मना कर दिया तो मैंने भी वह खयाल अपने मन ने निकाल दिया। फिर एक वक्त ऐसा आया, जब मुझ पर अभिनय का भूत सवार हुआ, मगर मेरे पिता इस मामले में बहुत ही सख्त मिजाज थे। मैं अगर उन्हें दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे का अमरीश पुरी कहूं तो गलत न होगा। वो बहुत देसी हैं। जैसे ही घर में आते हैं, म्यूजिक बंद, टीवी बंद। उस वक्त मैं दस साल की रही होऊंगी, जब मैंने पहली बार डैड से ऐक्टिंग की बात की थी और उन्होंने मुझे इस कदर डांटा था कि मैंने अभिनय का ‘अ’ भुला दिया। उसके बाद मैंने मॉडलिंग तब की, जब मैं यूनिवर्सिटी में आई और मेरे डैड वहां नहीं थे। मैंने पॉकेट मनी के लिए मॉडलिंग की थी। वैसे लंदन में हम 16 साल की उम्र से ही काम शुरू कर देते हैं। मैं मैकडॉनल्ड्स में काम कर चुकी हैं। वेटरेस बन चुकी हूं। मैंने तमाम छोटे-मोटे काम किए हैं। फिर मैंने अपनी पढ़ाई पूरी की। मैं ग्रेजुएट हुई और फिर मैंने मल्टि नैशनल कंपनी में काम करना शुरू किया।

पिता को अभिनय के लिए कैसे राजी किया?

मैं अपनी जॉब और जिंदगी से खुश थी। मुझे अच्छी-खासी सैलरी मिल रही थी। उसी दौरान मुझे इंडिया से एक टीवी शो का प्रस्ताव मिला। मैंने जब इस बारे में अपनी मां से जिक्र किया, तो वह बोलीं, तू पागल हो गई है क्या? पहले अपने पापा से तो पूछ। मुझे याद आया कि दस साल पहले जब मैंने उनसे पूछा था तो वह कितने खफा हुए थे? फिर भी मैंने डरते-डरते पूछा और मैं सकती हूं कि वह मेरी जिंदगी का सबसे खूबसूरत पल था। मैंने उनसे पंजाबी में पूछा और उन्होंने कहा, कर सकती हो और मैं उनकी हां सुनकर मैं सातवें आसमान पर थी। उन्होंने कहा, अब तुम बड़ी और समझदार हो गई हो, तुम्हारी पढ़ाई पूरी हो चुकी है और तुम्हारे पास न केवल अपनी बचत है बल्कि इन्वेस्टमेंट भी है। अब तुम अभिनय का करियर चुन सकती हो।’ वाकई उस दिन अपने पिता से मेरी सारी शिकायत दूर हो गई। पहले उनको लेकर मेरे मन में काफी आक्रोश हुआ करता था। उन्होंने जब मुझे बताया कि 19 साल की उम्र में वे भी पंजाब से मुंबई भागकर अभिनय के लिए किस्मत आजमा चुके हैं तो मैं गिरते-गिरते बची।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *