ढिंचैक पूजा के बारे में ये क्या बोल गए शान कहा, मैं ऐसा पागलपन…

 

बॉलीवुड में कई सुपरहिट गाने दे चुके शान का कहना है कि उनके लिए म्यूजिक पूजा है, जिसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की है, इसलिए जब वर्ह ढिंचैक पूजा जैसे लोगों के बेतुके गाने सुनते हैं तो उन्हें गुस्सा आता है। पेश है शान से की गई बातचीत के कुछ अंश।

आप वॉयस इंडिया सीजन 2 के कोच बने हैं। इससे पहले भी आप इसका हिस्सा बन चुके हैं। बार-बार एक ही शो को करने की कोई खास वजह?
मुझे लगता है कि मेरा जो इतने साल का मेरा अनुभव है, उसका कुछ फायदा बच्चों को पहुंचा सकूं। जैसे द वॉइस किड्स में जजिंग कम है, कोचिंग ज्यादा है। यह देखने में बहुत मजा आता है कि मैंने एक बच्चे की आवाज में कहां तक और किस हद तक इम्प्रूव किया है। मेरी कोशिश रहती है कि अपने अनुभव का इस्तेमाल करके कुछ ऐसा करूं कि उनकी थोड़ी सी और रेंज बढ़ जाए। हम यहां पर बच्चों की शक्ल या उनके व्यक्तित्व को देख उन्हें नहीं चुनते, बल्कि उनका टैलेंट देखकर चुनते हैं, इसलिए मैं इसे करता हूं क्योंकि इस तरह के शोज जबरदस्ती के ड्रामे वाले रियलिटी शो से बिल्कुल अलग होते हैं।
आज इंडस्ट्री में अलग-अलग तरह के गाने गाए जा रहे हैं। यहां एक तरफ बादशाह हैं तो वहीं ढिंचैक पूजा के भी गाने भी पसंद

किए जा रहे हैं। इस बदलते ट्रेंड के बारे में आप क्या कहते हैं?
सबसे पहली बात तो मैं जो साफ कर देना चाहता हूं कि ढिंचैक पूजा को मैं सिंगर नहीं मानता। वह एक तरह का पागलपन है, जिसे उसी तरह के लोग मजे लेने के लिए वायरल करते हैं। गाना हर कोई गा लेता है लेकिन सिंगर हर कोई नहीं बनता। सिंगर बनने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। हम लोग रियाज से लेकर कई ऐसी चीजें करते हैं, जो हमें गायक बनाए रखती हैं लेकिन ढिंचैक पूजा या फिर उस तरह के लोग जो यूट्यूब के सहारे पागलपन करते हैं और सिंगर का मजाक बनाते हैं, मुझे कतई बर्दाश्त नहीं होते।

तो क्या आपको लगता है कि म्यूजिक को लेकर लोग अब गंभीर नहीं हैं?
देखिए हमारे फिल्मी म्यूजिक की क्वॉलिटी में वक्त के साथ गिरावट आई है वरना हमारे यहां तो 70 और 80 के दौर में ही आर डी बर्मन जैसे संगीतकारों ने काफी सारे प्रयोग किए हैं। रिद्म के साथ, स्केल के साथ काफी दिलचस्प चीजें की हैं, जिन्हें दुनियाभर में याद किया जाता है लेकिन आज वो सब चीजें देखने को नहीं मिल रही हैं।

क्या आपके बच्चे भी संगीत में रुचि रखते हैं या फिर उन्हें कुछ और करना पसंद है?
मेरे बच्चों को म्यूजिक सुनना पसंद है लेकिन एक सिंगर की तरह मैं अभी उन्हें योग्य नहीं समझता। हालांकि मुझे लगता है कि एक प्रोफेशनल सिंगर की तरह जरूर उनका टैलेंट आप सभी के सामने आएगा लेकिन अभी वे बच्चे हैं। हम उन पर चीजें थोप नहीं सकते। अभी उनका ध्यान कई चीजों में लगता है और हर दस दिन बाद उनकी पसंद भी बदलती है। ऐसे में ये कहना भी गलत होगा कि अभी उन्हें जो पसंद है, वह हमेशा पसंद रहेगा या नहीं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *