चिकित्सक अस्पताल में आने वाले मरीजों का संवदेनशीलता से उपचार करें-मेघवाल

जयपुर, 10 जनवरी (का.सं.)। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री मा. भंवर लाल मेघवाल ने चिकित्सकों से कहा है कि वे अस्पताल में आने वाले रोगियों का तत्परता एवं संवदेनशीलता से उपचार कर अधिकाधिक चिकित्सकीय राहत प्रदान करना सुनिश्चित करें। मा. मेघवाल शनिवार को चूरू जिले के सुजानगढ में राजकीय सुजानमल बगडिय़ा अस्पताल में मेडिकल रिलीफ सोसायटी की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि चिकित्सक का मुख्य ध्येय होना चाहिए कि अस्पताल में आने वाले रोगियों का सक्रियता एवं संवदेनशीलता से उपचार कर बेहत्तर परिणाम देना। उन्होंने अस्पताल की चिकित्सा सुविधाओं पर विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि राज्य सरकार स्वास्थ्य सेवाओं पर भरपूर पैसा खर्च कर रही है। हमारा प्रयास होना चाहिए कि किसी भी रोगी को दवा खरीदने के लिए बाहर नहीं जाना पड़े। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्राथमिक सोच है कि राजस्थान राज्य पूर्ण रूप से निरोगी हो।  उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने रोगियों के लिए 564 प्रकार की नि:शुल्क दवा सुविधा मुहैया करवा रखी है, चिकित्सकों का दायित्व है कि वे अस्पताल में नि:शुल्क दवा का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध रखे।सामाजिक न्याय मंत्री ने अस्पताल परिसर में पार्किग व्यवस्था पर चर्चा करते हुए कहा कि अस्पताल के मुख्य द्वार पर गार्ड की व्यवस्था करें ताकि अनावश्यक वाहन खडे न हो सके। उन्होंने प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ.अमरजीत चावला को निर्देशित किया कि वे चिकित्सालय परिसर में रोगियों एवं परिजनों के लिए आश्रय स्थल निर्माण का प्रस्ताव बनाकर भेजे। उन्होंने कहा कि अस्पताल परिसर में चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ के जर्जर क्वार्टर्स की मरम्मत करवायें या तुड़वाकर नया निर्माण करवाना सुनिश्चित करें। सामाजिक न्याय मंत्री ने शनिवार को राजकीय सुजानमल बगडिय़ा अस्पताल का निरीक्षण करते हुए पीएमओ को निर्देशित किया कि वे अस्पताल परिसर में शौचालय की मरम्मत एवं नियमित साफ-सफाई की व्यवस्था करें। उन्होंने राज्य सरकार एवं भामाशाह के सहयोग से अस्पताल में आवश्यक चिकिसकीय उपकरण मुहैया करवाने का आश्वासन देते हुए कहा कि अस्पताल में दवा पर्ची एवं अन्य कार्य के लिए कम्प्यूटर ऑपरेटर की सेवा ली जाए। उन्होंने पीएमओ से कहा कि वे अस्पताल के वार्डो में मरम्मत एवं सफाई व्यवस्था के लिए नये सिरे से टेण्डर प्रक्रिया के प्रस्ताव तैयार कर व्यवस्थाओं में सुधार करें। मा. मेघवाल ने बच्चा वार्ड, ऑपरेशन थियेटर, पर्ची काउन्टर, प्रसूति कक्ष, इमरजेंसी वार्ड का निरीक्षण करते हुए चिकित्सकों को निर्देशित किया कि वे वार्डो में बिजली, पानी, आक्सीजन की माकूल व्यवस्था सुनिश्चित करें ताकि कोटा जैसे घटना घटित न हो सके। उन्होंने कहा कि बच्चों में होने वाले संभावित रोगों के उपचार के लिए अधिक संवदेनशीलता बरतें। उन्होंने वार्डो में भर्ती मरीजों की कुशलक्षेप पूछते हुए उपलब्ध चिकित्सकीय सेवा की जानकारी प्राप्त की। इस अवसर पर रिलिफ सोसायटी के पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *