बारिश के मौसम में छोटे बच्चों का ख्याल रखने के लिए जरूरी टिप्स

माता-पिता की आंखों के तारे कहे जाने वाले बच्चे यदि बीमार हो जाए तो पैरेंट्स बैचेन हो उठते हैं। लेकिन बारिश का मौसम हो और बच्चे मस्ती न करें, यह तो असंभव है। बच्चों की मस्ती भले ही मन को लुभाती है, पर बारिश के मौसम में की गई शरारतें उनके स्वास्थ्य पर भारी पड़ती हैं। ऐसे में जरूरी है कि इस मस्ती भरे मौसम में बच्चों का ख्याल सही तरह से रखा जाए। तो चलिए जानते हैं मानसून में कैसे करें बच्चों की देखभाल?
मार्केट फूड को कहें नो
इस मौसम में जहां तक संभव हो, बच्चों को घर का बना खाना ही खिलाएं। मानसून के मौसम में बाजार का खाना संक्रमण पैदा कर सकता है। चूंकि बच्चों का डाइजेस्टिव सिस्टम उतना मजबूत नहीं होता, जिसके कारण बाजार में मिलने वाला भोजन उन्हें बीमार कर देता है। इसलिए बारिश के मौसम में बच्चों को बाजार की चीजों से दूर ही रखें।
पिलाएं पर्याप्त पानी
पानी शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकालने का काम करता है। खासतौर से, बारिश के मौसम में बच्चों के शरीर को स्वस्थ रखने के लिए उन्हें पर्याप्त मात्रा में पानी पिलाएं ताकि सभी तरह के टॉक्सिन उनके शरीर से बाहर निकल जाएं। साथ ही पीने वाले पानी को पहले एक बार उबाल लें ताकि पानी के भी सभी कीटाणु नष्ट हो जाएं।
रेनवाटर से बनाएं दूरी
बारिश शुरू होते ही बच्चे तो क्या बड़ों का मन भी भीगने का करने लगता है। लेकिन आप कोशिश करें कि बच्चों को बारिश के पानी से बचाकर रखें। अगर आपके लिए बच्चों को समझाना थोड़ा मुश्किल है तो आप उनके लिए कुछ अच्छे कलरफुल व उनकी पसंद के कार्टून के छाता, रेनकोट, गमबूट्स आदि खरीदें। इससे बारिश में खेलते हुए भी वह बीमार नहीं पड़ेंगे।
छोटे रखें नाखून
बहुत से पैरेंट्स इस ओर ध्यान नहीं देते लेकिन नाखून चबाने की आदत भी मानसून में बच्चों को बीमार कर देती है। इसलिए समय?समय पर बच्चों के नाखून काटते रहें ताकि वह नाखून न चबाए। दरअसल, इस गंदी आदत के चलते बच्चों को इंफेक्शन होने का खतरा काफी बढ़ जाता है।
हाइजीन का रखें ध्यान
इस मौसम में सिर्फ बारिश के पानी से बच्चों का बचाव करने से काम नहीं चलता। बेहतर होगा कि आप बच्चों के भीतर कुछ अच्छी आदतों का विकास करें। मसलन, आप उन्हें समझाएं कि वह खाना खाने से पहले और बाद में हाथ धोएं, ताकि किसी भी तरह के कीटाणु भोजन के माध्यम से उनके शरीर में प्रवेश न कर सकें।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *