डब्ल्यूटीओ के उप महानिदेशक ने जताई उसमें सुधार की जरूरत

 

वाशिंगटन। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) की प्रणाली फिलहाल अपने उद्देश्यों से पिछड़ रही है और इसमें सुधार की गुंजाइश है। डब्ल्यूटीओ के एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही।डब्ल्यूटीओ की स्थापना साल 1995 में हुई थी। डब्ल्यूटीओ खुद को ऐसा अंतरराष्ट्रीय संगठन कहता है, जिसका मुख्य उद्देश्य सभी के लाभ में लिए व्यापार को खोलना है। इसके उप महानिदेशक एलन वोल्फ ने बताया कि पिछले हफ्ते जनरल काउंसिल के साल के आखिरी औपचारिक सत्र में डब्ल्यूटीओ के 164 सदस्यों ने सुधारों के संदर्भ में विचार-विमर्श की एक ऐसी प्रक्रिया आगे बढ़ाने को अधिकृत किया है, जो असाधारण और भारी बदलाव से संबंधित है।वोल्फ ने कहा, कई महत्वपूर्ण लोग आगे का रास्ता देख रहे हैं। उनका मानना है कि सुधारों की जरूरत है और इसका ताजातरीन उदाहरण ब्यूनस आयर्स में जी-20 मंत्री स्तरीय बैठक में देखने को मिला, जिसमें यह बात उभरकर सामने आई कि प्रणाली अपने लक्ष्यों से पिछड़ रही है और इसमें सुधार की गुंजाइश है। वोल्फ ने कहा, ऐसे में हम डब्ल्यूटीओ में जरूरी सुधारों का समर्थन करते हैं, ताकि इसका कामकाज सुधारा जा सके।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *