सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात वैट लगाने वाले पहले खाड़ी देश

नई दिल्ली। खाड़ी देशों में आज नए साल की शुरुआत एक नई व्यवस्था से हुई। लंबे समय तक कर-मुक्त कहे जाने वाली खाड़ी देशों में आज से मूल्यवर्दि्धत कर (वैट) व्यवस्था शुरू की गई है और इसे लागू करने वालों में सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात सबसे पहले देश बन गए हैं। चार और खाड़ी देश बहरीन, कुवैत, ओमान और कतर भी वैट लगाने के लिए प्रतिबद्ध हैं लेकिन वह इस पर अगले साल तक निर्णय लेंगे।

जानिए कितना कर लगेगा: अधिकतर सामान और सेवाओं पर पांच प्रतिशत बिक्री कर लगाया गया है और आकलन कर्ताओं का कहना है कि 2018 में इससे दोनों सरकारें 21 अरब डॉलर तक जुटा सकती हैं जो सकल घरेलू उत्पाद के दो प्रतिशत के बराबर बैठेगा। यह देशों अमीर देशों के लिए एक क्रांतिकारी बदलाव है। दुबई ने एक लंबे वार्षिक शॉपिंग फेस्टिवल का आयोजन किया है जिसका मकसद दुनियाभर से लोगों का अपने खुदरा बिक्री स्थानों या मॉलों में आमंत्रित करना है। सऊदी अरब ने भी विशेष खातों में अरबों डॉलर जमा कराएं हैं ताकि खुदरा कीमतों से बढऩे वाली कीमतों से प्रभावित जरुरी नागरिकों की मदद की जा सके।ग्राहकों को दिया एक और झटका सऊदी अरब ने नए साल के मौके पर वैट के अलावा पेट्रोल कीमतों में 127त्न तक की वृद्धि करके ग्राहकों को एक और झटका दिया है। हालांकि इस वृद्धि की घोषणा पहले से नहीं की गई थी और यह रविवार मध्यरात्रि से ही लागू हो गई है।पेट्रोल की कीमतों में सऊदी अरब में यह दो साल में दूसरी वृद्धि है। हालांकि यह अब भी दुनिया में सबसे सस्ते पेट्रोल वाले देशों में से एक है। खाड़ी के तेल उत्पादक देशों ने पिछले दो साल में अपनी आय बढ़ाने और खर्च में सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं। इनमें व्यय को कम करना और कर लगाना शामिल है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की घटती कीमतों ने इन देशों के बजट को नकारात्मक तौर पर प्रभावित किया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *