मरीजों ने खरी-खरी सुनाई तो विधायक ने डॉक्टरों पर उतार दिया गुस्सा

 

श्रीगंगानगर, 8 जून (का.सं.)। श्रीगंगानगर से निर्दलीय विधायक राजकुमार गौड़ शनिवार सुबह जिला सरकारी अस्पताल में वाटरकूलर का लोकार्पण करने के लिए गये तो उन्होंने वार्डांे तथा ओपीडी का भी लगे हाथ निरीक्षण किया। वार्डां में उन्हें व्यवस्थाएं ठीक-ठाक मिलीं, लेकिन जब वे ओपीडी में पहुंचे तो मरीजों की लम्बी कतारें लगी हुई थीं। एक कतार में लगे एक वृद्ध मरीज से जब विधायक गौड़ ने बात करनी चाही, तो उसकी आंखों से आंसू निकलने लगे। यह वृद्ध फफककर रोने लगा। पूछने पर वृद्ध मरीज ने बताया कि उसे अपना चैकअप करवाने के लिए दो-दो घंटे लाइन में लगना पड़ता है। उस जैसे और भी वृद्ध मरीज लाइनों में खड़े रहने को मजबूर होते हैं। ओपीडी में डॉक्टर देरी से आते हैं और उनकी संख्या भी कम रहती है। इस कारण कई-कई घंटे बाद नम्बर आता है। ओपीडी में मौजूद अन्य मरीजों ने भी इस अव्यवस्था को लेकर रोष जताना शुरू कर दिया। उन्होंने विधायक को ही खरी-खरी सुनानी शुरू कर दी, तो वे सकपका गये।c इस पर विधायक गौड़ ने वहीं मौजूद जयपुर से आये हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के जिला प्रभारी डॉ. रोमलसिंह और जिला अस्पताल के प्रिंसीपल मेडिकल ऑफिसर डॉ. केएस कामरा, उपनियंत्रक डॉ. प्रेम बजाज सहित अन्य चिकित्सकों को झाड़ लगाकर अपना गुस्सा उतार दिया। मरीजों के आग्रह पर विधायक ने डॉक्टरों को निर्देश दिये कि बुजुर्ग मरीजों के लिए ओपीडी में अलग से व्यवस्था की जाये, ताकि उन्हें चैकअप के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़े। ओपीडी मेें खरी-खरी सुनने के बाद विधायक गौड़ ने पीएमओ के कक्ष में डॉॅक्टरों के साथ बैठक की, जिसमें उन्होंने ओपीडी की व्यवस्थाएं सुधारने के निर्देश दिये। मरीजों के लिए प्रतिक्षालय तथा शिशू वार्ड की भी अलग से व्यवस्था करने के लिए कहा। विधायक गौड़ ने वहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वे वार्डांे की व्यवस्था से संतुष्ट हैं, लेकिन ओपीडी में किसी प्रकार की मरीजों के लिए सुविधा या व्यवस्था नहीं है। इसके लिए उन्होंने पीएमओ को निर्देश दिये हैं। वे समय-समय पर अस्पताल का निरीक्षण करते रहेंगे। विधायक गौड़ के साथ डॉ. मुकेश स्वामी, डॉ. एमएम मित्तल, नर्सिंग प्रभारी एसके लखेसर, रवीन्द्र शर्मा आदि मौजूद थे। इससे पहले विधायक गौड़ ने मारवाड़ी युवा मंच द्वारा भेंट किये गये 300 लीटर क्षमता के वाटर कूलर का लोकार्पण किया। युवा मंच के जिलाध्यक्ष रजत गोयल, सदस्य वेदप्रकाश लखोटिया, धीरज सैन, डॉ. केएस कामरा, आरसीएचओ डॉ. अजय सिंगला और सुरेन्द्र गोदारा आदि मौजूद रहे। वार्डांे का निरीक्षण करते समय विधायक गौड़ ने विशेषकर जगाा-बगाा वार्ड में नवप्रसुता महिलाओं और उनके सेवादारों से पूछा कि उन्हें बधाई तो नहीं देनी पड़ी है। उन्होंने बधाई देने से इंकार किया। बता दें कि जच्चा-बच्चा वार्ड में तैनात स्टाफ नवप्रसुताओं और उनके साथ आये परिवारजनों से डिलीवरी होने के बाद बधाई मांगने के लिए कुख्यात है। यह शिकायतें अकसर आती रहती हैं। विधायक गौड़ से चिकित्सा अधिकारियों ने इस अस्पताल में स्टाफ बढ़वाने का आग्रह किया। जिला अस्पताल में लगभग 70 चिकित्सक नियुक्त हैं, फिर भी ओपीडी में डॉक्टरों की कमी रहती है।  पीएमओ डॉ. कामरा ने बताया कि चिकित्सालय मेें सुविधाओं की वृद्धि, नर्सेज और अन्य कर्मचारियों के रिक्त पदों की सूचना उपलब्ध करवाने, एसटीपी, प्रतिक्षालय, एसएनसीयू एंस्टैकशन, एनसीडी वार्ड के जीर्णाेद्धार, इम्युनाइजेशन भवन एवं अन्य आवश्यक सुविधाओं के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के माध्यम से प्रस्ताव भेजने के लिए विधायक गौड़ ने निर्देश दिये हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *