फर्जी तरीके से वृद्धावस्था पेंशन और राशन उठाने का मामला

श्रीगंगानगर, 14 मार्च (का.सं.)। आर्थिक रूप से संपन्न होते हुए सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत वृद्धावस्था पेंशन मंजूर करवाने और राशन कार्ड बनवा कर राशन सामग्री उठाने का एक मामला स्थानीय कोतवाली में दर्ज हुआ है। पुरानी आबादी निवासी हरिसिंह द्वारा दायर किए गए इस्तगासा के आधार पर पुलिस ने भरतनगर निवासी प्यारासिंह, उसकी पत्नी बलविंदरकौर तथा पुत्री मनदीपकौर पर जालसाजी धोखाधड़ी की धाराओं में मामला दर्ज किया गया। हरिसिंह द्वारा दायर किए गए इस्तगासा में आरोप लगाया गया है कि प्यारासिंह, उसकी पत्नी बलविंदरकौर के नाम से भरतनगर में आलीशान मकान है। घमंडिया गांव में कृषि भूमि ,चार भूखंड है और जब चार जैड में भी भूखंड हैं।मनदीपकौर गुरु नगर निवासी अमरिक सिंह से विवाहिता जो कि केंद्रीय विद्यालय में कार्यरत है। खुद मनदीपकौर भी सादुलशहर तहसील क्षेत्र में गांव चक कैरा में स्कूल में प्रिंसिपल है। लाखों करोड़ों रुपए की चल अचल संपत्ति के मालिक होते हुए भी प्यारासिंह ने नगर परिषद से सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत अपने व पत्नी के नाम से पेंशन मंजूर वाली। यह दोनों नियमित रूप से हर महीने 500 व 750 की पेंशन प्राप्त कर रहे हैं। यही नहीं उनके द्वारा बनवाए गए राशन कार्ड में उनकी विवाहित पुत्री का नाम भी अंकित है जबकि मनदीप कौर विवाह के पश्चात गुरु नगर में अपने पति के साथ रह रही है। यह दोनों सरकारी नौकरी में हैं।इसके बावजूद बनवाए गए राशन कार्ड के आधार पर उचित मूल्य की वस्तुओं के रूप में गेहूं के द्वारा उठाया जा रहा है। राशन कार्ड के आधार पर ही डबल सिलेंडर का कनेक्शन भी इस परिवार ने लिया हुआ है।हरिसिंह का आरोप है कि फर्जी तरीके से कागजात बनाकर इस परिवार द्वारा राजकोष को नुकसान पहुंचाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *