डिजीटल राजस्थान कॉन्क्लेव का तीसरा संस्करण आयोजित

 

जयपुर। राजस्थान में डिजीटल, आईटी और आईटीईएस की पारिस्थितिक तंत्र पर विचार करने के उद्ेदश्य से फेडरेशन ऑफ इंडियन चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) के साथ सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (एसटीपीआई), इलेक्ट्रोनिक्स और इन्फॉरमेशन्स टेक्नोलॉजी मंत्रालय (माईटी), भारत सरकार तथा स्र्टाटअप ओएसिस के सहयोग से आज होटल हॉलिडे इन, जयपुर में डिजीटल राजस्थान कॉन्क्लेव के तीसरे संस्करण का आयोजन किया गया। इस पहल का उद्देश्य उधोगों में आईटी की मजबूती, कुशल मैनपावर, निवेश को चलाने, रोजगार बनाने, उघमशीलता को बढ़ावा देने और सर्विस डिलीवरी की प्रभावकारिता में सुधार लाने के लिए नीतियों को सक्षम करना था।फिक्की राजस्थान स्टेट कांउसिल के हैड अतुल शर्मा ने स्वागत उद्बोधन करते हुए बताया कि डिजीटल राजस्थान कॉन्क्लेव के इस तीसरे संस्करण से राज्य में डिजीटल, ईको-सिस्टम के विकास पर अनुकूल प्रभाव पडेगा और इस पहल के जरिये राज्य में उपस्थित श्रेष्ठ आईटी उधोग, प्रशिक्षित मानव संसाधन और प्रेरक नितीयों के जरिये निवेश में बढ़ोतरी, रोजगारों की उपलब्धता तथा स्व-रोजगार को बढ़ावा मिलेगा। राजस्थान सरकार के इंडस्ट्रीज़ कमिश्नर डॉ. समित शर्मा ने राजस्थान सरकार द्वारा डिजीटल माध्यम से आर्थिक क्षेत्र और सामाजिक क्षेत्र में आये बदलावों के बारें में बताया। उन्होने कहा कि कुछ ही समय में डिजीटल से जीवन के हर क्षेत्र में बड़ी तेजी से क्रंातिकारी बदलाव हुये है। ईज़ ऑफ डूईंग बिजनेस को धरातल पर लाने में तकनीकी माध्यमों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इंस्पेक्टर राज सिस्टम को खत्म करने और पारदर्शिता लाने में डिजीटल प्लेटफॉर्म की भूमिका प्रभावपूर्ण रही है। इन डिजीटल नवाचारों का लक्ष्य सिटीजन और सरकार के मध्य प्रभावकारी संवाद स्थापित करना और आम नागरिकों को सुविधाजनक और पारदर्शी शासन व्यवस्था को उपलब्ध कराना हैं। उन्होंनें इस दौरान तकनीकी इस्तेमाल से औघोगिक क्षेत्र में सुधार को लेकर सरकार की तरफ से उठाये गये विविध नवाचारों जैसे उघोग आधार मेमोरेंडम, ग्रीन इंडस्ट्रीज, राजस्थान पोल्यूशन कंट्रोल विभाग के पोर्टल, लेबर डिपार्टमेंट एंड मैनेजमेंट सिस्टम और राजस्थान फैक्ट्रीज़ और बॉयलर मॉड्यूल के बारें में विस्तार से जानकारी दी।डिजीटल राजस्थान कॉन्क्लेव के साथ-साथ स्र्टाटअप कॉन्क्लेव को भी आयोजन किया गया। जिसमें नये स्टार्टअप को एक्सपोजर प्रदान किया गया तथा डिजीटल टेक्नॉलाजीस् के माध्यम से समस्याओं के जल्द से जल्द समाधान की जानकारी भी प्रदान की गई। इसी के साथ स्र्टाटअप पिच डाउन का भी आयोजन किया गया जिसमें 13 स्र्टाटअप ने एंजेल इन्वेस्टरर्स, वेंचर कैपिटेलिस्ट तथा स्र्टाट अप मेंटर्स के सामने अपने प्रोपोजल रखते हुये निवेश प्राप्त करने के लिये इच्छा जाहिर की।

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *