सड़क हादसे में दादी-पौता सहित तीन की मौत

लकडिय़ों से लदी ट्रेक्टर-ट्रॉली में टकराया मोटरसाइकिल

श्रीगंगानगर, 13 जून (का.सं.)। सीमावर्ती श्रीकरणपुर थाना क्षेत्र में गुरूवार दोपहर एक भीषण सड़क दुर्घटना में मोटरसाइकिल पर सवार दादी-पौता और एक अन्य महिला की मौत हो गई। मोटरसाइकिल लकडिय़ों से लदे हुए ट्रेक्टर-ट्रॉली में जा टकराया। दादी और पौता ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। एक अन्य महिला की अस्पताल ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। श्रीकरणपुर कस्बे के नजदीक रड़ेवाला के पास दोपहर लगभग 1.30 बजे जैसे ही हादसा हुआ, ट्रेक्टर-ट्रॉली को उसका चालक वहीं छोड़कर भाग गया। लोगों ने उसे पकडऩे की कोशिश की, लेकिन यह पकड़ में नहीं आया। हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस कुछ ही देर में मौके पर आ गई। पुलिस के अनुसार पाकिस्तान सीमा पर स्थित चक 9 एफएफ निवासी सुनील (20) पुत्र मांगीलाल बिश्रोई अपनी वृद्ध दादी मंगलीदेवी (70) पत्नी रामरत्न को डॉक्टर से चैकअप करवाने और दवा दिलवाने के लिए सुबह मोटरसाइकिल पर श्रीकरणपुर लेकर आया था। दोपहर करीब एक बजे वापिस जाते समय रास्ते में मंगलीदेवी की एक जानकार महिला सुमन (40) पत्नी देवेन्द्र बिश्रोई निवासी चक 3 एफबी-शेखसरपाल मिल गई। वह भी इनके साथ गांव जाने के लिए मोटरसाइकिल पर सवार हुई। श्रीकरणपुर कस्बे से निकलते ही रड़ेवाला मार्ग पर सामने से आ रही ट्रेक्टर-ट्रॉली के पास से गुजरते समय मोटरसाइकिल पीछे ट्रॉली के कॉर्नर से जा टकराया। रफ्तार अधिक होने के कारण सुनील और मंगलीदेवी उछलकर सड़क पर आ गिरे। दोनों के सिर में घातक चोट लगी और वही मौत हो गई। सुमन भी उछलकर सड़क के पास क”ाी जमीन पर आ गिरी। उसे लोगों ने 108 की एम्बुलेंस से अस्पताल रवाना किया, लेकिन रास्ते में उसकी मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही सुनील और सुमन के परिवार वाले दौड़े चले आये। दोनों के परिवारों में कोहराम मच गया। गांव में शोक की लहर छा गई। पुलिस के अनुसार पोस्टमार्टम करवाने के बाद लाशें परिवार वालों को सौंप दी गई। घटनास्थल पर सबसे पहले पहुंचे हवलदार श्योपत की रिपोर्ट पर ट्रेक्टर-ट्रॉली के चालक पर लापरवाही का मामला दर्ज किया गया है।
ऐसे खींच ले गई सुमन को मौत : प्राप्त जानकारी के अनुसार किसी काम से श्रीकरणपुर आई हुई सुमन दोपहर को वापिस अपने गांव शेखसरपाल जाने के लिए एक टैम्पो में सवार हुई थी। पुलिस के अनुसार रास्ते मेें जब मंगलीदेवी अपने पौते के साथ जाते हुए दिखाई दी, तो सुमन ने उन्हें रुकवा लिया। वह इनके साथ अपने गांव जाने के लिए इनके मोटरसाइकिल पर सवार हो गई। सुमन को क्या पता था कि आज उसे मौत इन दोनों के साथ अपने आगोश में लेने जा रही है। सुमन के टैम्पो से उतरकर मोटरसाइकिल पर लिफ्ट लेने और दादी-पौता के साथ काल कल्वित हो जाने की हैरानी भरी चर्चा रही।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *