साथी के खर्राटों से परेशान हैं? इसे पढ़ लें समस्या दूर हो जायेगी

अकसर सोते समय दूसरों के खर्राटों से लोग परेशान रहते हैं। कई लोगों के साथ तो ऐसा भी होता है कि दूसरों के खर्राटों की वजह से उन्हें नींद भी नहीं आती जबकि खर्राटे लेने वाला व्यक्ति आराम से सो रहा होता है। खर्राटे की समस्या इतनी ज्यादा आम हो गयी है कि लोगों को यह लगता ही नहीं कि यह कोई समस्या भी है जबकि यदि आप खर्राटे भर रहे हैं तो इसका सीधा संबंध दिल संबंधी बीमारियों से है। इसलिए यदि आप भी खर्राटे भरते हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिलिये या फिर कुछ घरेलू उपायों को आजमा कर भी इस समस्या से निजात पा सकते हैं।
खर्राटे क्या हैं और इससे कैसे बचें
दरअसल जब हम सोते हैं तो उस समय गले का हिस्सा थोड़ा संकर हो जाता है। ऐसे में जब संकर जगह से ऑक्सीजन अंदर जाती है तो निकट के टिशु वॉयब्रेट होते हैं और इस वॉयब्रेशन से जो आवाज होती है उसे ही खर्राटे कहा जाता है। अधिकतर लोग खर्राटे को एक साधारण चीज समझकर टालते हैं, जबकि यह स्लिपिंग डिसऑर्डर का हिस्सा भी हो सकता है। खर्राटे लेने के अन्य कारणों में एलर्जी, नाक की सूजन, जीभ मोटी होना, अधिक धूम्रपान करना, शराब या नशीले पदार्थों का सेवन करना और रात को अधिक भोजन करना आदि भी होता है।
आइये जानते हैं खर्राटों से बचने के कुछ घरेलू नुस्खे-
हल्दी- हल्दी मात्र रसोई का एक मसाला ही नहीं है इसमें एंटी-सेप्टक और एंटी-बायोटिक गुण भी होते हैं। रोज रात को सोने से पहले दूध में हल्दी पकाकर (हल्दी वाला दूध) पीने से आपको निश्चित तौर पर लाभ होगा। इलायची- सोने से पहले इलायची के कुछ दानों को गुनगुने पानी के साथ मिलाकर पी लीजिए इससे आपको राहत मिलेगी। इलायची, श्वसन तंत्र को खोलने का काम भी करती है।पुदीने का तेल- जब भी आप सोने जाएं तो उससे पहले पुदीने के तेल की कुछ बूंदें पानी में डाल कर उससे गरारे करें। इससे आपको काफी लाभ होगा।
लहसुन- लहसुन ब्लॉकेज को साफ करके श्वसन तंत्र को बेहतर बनाता है।
ऑलिव ऑयल- ऑलिव ऑयल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जिससे यह श्वसन तंत्र की प्रक्रिया को सुचारू बनाए रखता है।
भरपूर पानी पीएं- शरीर में पानी की कमी से भी खर्राटे आते हैं। जब शरीर में पानी की कमी होती है तो नाक के रास्ते की नमी सूख जाती है। ऐसे में साइनस हवा की गति को श्वास तंत्र में पहुंचने के बीच में सहयोग नहीं कर पाता और सांस लेना कठिन हो जाता है। ऐसे में खर्राटे की प्रवृत्ति बढ़ जाती है।
वजन कम करें- गले के आप-पास अधिक वसा युक्त कोशिकाएं जमा होने से गले में सिकुडऩ होती है और खर्राटे की ध्वनि निकलती है। यदि खर्राटों से छुटकारा पाना चाहते हैं तो अपना वजन कम कीजिए।
धूम्रपान से बचें- धूम्रपान वायुमार्ग की झिल्ली में परेशानी पैदा करता है और इससे नाक और गले में हवा का पास होना बाधित होता है।
सिर ऊंचा करके सोएं- खर्राटे की समस्या है से निजात पाने के लिए सोते समय सिर को थोड़ा ऊंचा करके सोएं।
भोजन की मात्रा कम लें- रात को सोने से पहले ज्यादा भोजन करने से भी खर्राटे की समस्या होती है इसलिए सोने से पहले हल्?का और कम भोजन करें इसके साथ ही साथ ही अधिक देर तक जागने से भी बचें और पर्याप्त नींद लें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *