हेट स्टोरी 4 ऐक्ट्रेस उर्वशी रौतेला ने बताया, क्यों नहीं सोती थीं रातभर

इन दिनों उर्वशी रौतेला अपनी अपकमिंग फिल्म हेट स्टोरी 4 को लेकर चर्चा में हैं। फिल्म में बेहद ही बोल्ड अवतार में नजर आने वाली उर्वशी का कहना है कि फिल्म का पूरा भार उनके कंधे पर है। फिल्म के लिए उन्होंने काफी मेहनत भी की है।मैंने कभी नहीं सोचा था कि मुझे ग्लैमर वर्ल्ड में जाना है। जो कुछ भी हुआ है वह पूरी तरह से किस्मत का खेल है। दरअसल मेरे परिवार वाले और दोस्त चाहते थें कि मैं इस फील्ड में जाऊं। वो अक्सर मुझे इसके लिए इनकरेज किया करते थे। वहीं दूसरी ओर मैं तो एथलिट बनने का सपना देखा करती थी। एक समय पर एस्ट्रोनॉट बनने का भी सपना देख रही थी। बास्केटबॉल अच्छा खेलती थी तो लगता था कि बास्केटबॉल प्लेयर ही बन जाऊं। इस तरह से मेरे सपने शिफ्ट होते रहते थे। मैं बहुत ही कन्फ्यूज्ड टीनएज रही हूं। इस ग्लैमर इंडस्ट्री में इसलिए भी नहीं आई कि मुझे ऐक्ट्रेस बनना है। मुझे तो यशराज फिल्म की ओर से इश्कजादे के लिए बहुत पहले ही ऑफर मिल गया था। मैंने इसलिए नहीं किया क्योंकि मेरा फोकस कुछ और था।

ब्यूटी कॉन्टेस्ट सोने पर सुहागा

जब आप खुद को इंटरनैशनल लेवल पर रिप्रेजेंट करके आते हैं तो यह आपके लिए सोने पर सुहागा वाली स्थिति होती है। यह बहुत ही कम देखने को मिलता है। अब आप ही बताएं कौन है यहां मेरे टक्कर का। वहीं इस पैजेंट के साथ जिम्मेदारी भी बढ़ जाती है। आज ग्लैमर इंडस्ट्री पूरे वर्ल्ड लेवल पर पहचानी जाती है। इसी वजह से मेरे कई फैंस पाकिस्तान, ईरान आदि देशों में हैं। मुझे वहां के कई मॉडलिंग एजेंसी से ऑफर्स मिलते रहते हैं लेकिन मैंने ठान लिया है कि मैं इनके साथ काम नहीं करुंगी क्योंकि मैं मानती हूं कि अपने देश के प्रति मेरी भी कुछ जिम्मेदारी बनती है।

बोल्ड सीन्स के लिए ली परमिशन

मैं नॉन फिल्मी बैकग्राउंड से हूं। मेरे माता-पिता दोनों ही बिजनस से ताल्लुक रखते हैं। ऐसे में वे बॉलिवुड की ग्लैमरस लाइफ से काफी दूर हैं। जब फिल्मों में मुझे बोल्ड सीन्स करना होता है तो इसके लिए मम्मी पापा से पूछती जरूर हूं। हेट स्टोरी 4 भी उनसे पूछ कर किया है।

मेरी पर्सनैलिटी से मेल खाता है हेट स्टोरी का किरदार

ऐक्ट्रेस उर्वशी रौतेला हमेशा अपने दिल की सुनती हैं और काम भी दिल से ही करती हैं। अगर काम ऐसा न हो जो दिल में जगह बनाए, तो वह उसे हाथ तक नहीं लगाती हैं। बकौल उर्वशी, सभी को पता है कि मुझे खान की ओर से एक बहुत बड़ा मौका मिला था जिसे मैंने नहीं किया। क्योंकि उस वक्त मेरे लिए मिस यूनिवर्स ज्यादा महत्वपूर्ण था। मुझे इसका कोई मलाल भी नहीं है। दूसरी ओर मैं जो भी करती हूं उसे पूरी मेहनत से करती हूं। हेट स्टोरी 4 को साइन करने की सबसे बड़ी वजह यह है कि मुझे लगा इसमें किरदार मुझे ही ध्यान में रखकर बनाया गया है। यह एक मॉडल की कहानी है, मैं खुद मॉडल रह चुकी हूं। कई बड़े रैंप शोज किए हैं। ऑफस्क्रीन और ऑन स्क्रीन में ज्यादा फर्क नहीं था। इस रोल के लिए मैंने बहुत रिसर्च किया। एक ओर जहां यह किरदार बेहद ही स्ट्रॉन्ग, कॉन्फिडेंट और बोल्ड है, तो वहीं दूसरी ओर बहुत सॉफ्ट और अतिसंवेदनशील है, जो काफी हद तक मेरी पर्सनैलिटी से मेल खाता है।

हील्स कोरियोग्राफी इंडिया में मेरी वजह से आई

फिल्म में फिजिकल लड़ाई से ज्यादा दिमाग की लड़ाई को महत्व दिया है। मैंने फिजिकल ट्रेनिंग के साथ-साथ मेंटल ट्रेनिंग भी ली ताकि फिल्म के मिजाज को समझ सकूं। वहीं दूसरी ओर हील्स कोरियोग्राफी भी इस फिल्म की खासियत है। हील्स कोरियोग्राफी बॉलिवुड के लिए काफी नया है। इसे मैं ही यहां लेकर आई हूं। जब मुझे फिल्म का गाना आशिक बनाया सुनाया गया तो मैंने सोचा क्यों न कुछ अलग किया जाए। मैंने ग्यारह डांस फॉर्म सीखें हैं, तो उसका इस्तेमाल क्यों न किया जाए। मैं चाहती थी कि कुछ अलग क्रिएटिव हो जो किसी ने न देखा हो। हॉलिवुड से मैंने हील्स कोरियोग्राफी उठाई और आशिक बनाया में डाल दिया। जब शुरुआत में गाना रिलीज हुआ, तो लोगों ने इसकी जमकर बुराई की। अचानक से हील्स कोरियोग्राफी लोगों को इतनी पसंद आने लगी कि यह गाना पॉपुलर हो गया। आपको बता दूं, हील्स कोरियोग्राफी बेहद ही मुश्किल टास्क है। पूरे समय पेंसिल हील्स में खड़ा रहना बहुत ही थका देने वाला होता था। बहुत से चोटें खाई हैं, एक महीने तक मेरी पीठ में दर्द रहा था।

मैंने अभी तक कोई भी हेट स्टोरी नहीं देखी

मैं हेट स्टोरी के चौथे संस्करण का हिस्सा हूं, लेकिन सच कहूं तो अभी तक मैंने कोई भी हेट स्टोरी नहीं देखी है। जब मैंने फिल्म की कहानी सुनी थी तो मुझे यह भी नहीं पता था कि यह हेट स्टोरी की फ्रेंचाइजी है। मुझे अपना किरदार और कहानी बहुत पसंद आया था। पता नहीं मुझसे कैसे छूट गई यह फिल्म। वैसे देखनी चाहिए थी, क्योंकि अब तक का सबसे हिट फ्रेंचाइज है। भले ही फिल्म का नाम हेट से शुरू हो, लेकिन लोगों का बहुत प्यार मिला है। हेट स्टोरी और गोलमाल के अलावा आज तक कोई भी फिल्म पार्ट 4 तक नहीं पहुंच पाई है। लोग मुझसे मेरे हेट एक्स्पीरियंस के बारे में पूछा करते हैं। वैसे गनीमत है मेरे साथ ऐसा कुछ हुआ नहीं है। जिंदगी में उतार-चढ़ाव तो होते रहते हैं लेकिन मैं सबके प्रति पॉजिटिव अप्रोच ही रखती हूं। मैं उन अनुभवों को बिल्कुल याद नहीं करना चाहती, जो बुरे हों।

मैं रात-रात भर नहीं सोती थी

फिल्म के दौरान मैं इसके नेगेटिव किरदार में इतना समा गई थी कि कई रात मुझे नींद तक नहीं आती थी। इस किरदार के अलावा मुझे कुछ नजर ही नहीं आता था। ब्रेकडाउन सीन्स करना बेहद ही मुश्किल टास्क था। ऊपर से मेरा तीन पेज का मोनोलॉग होता था जो मेरे लिए नया था। जब आप कोई किरदार कर रहे होते हैं तो आपके पास केवल दो ही ऑप्शन बचते हैं या तो आप उसमें पूरी तरह घुस जाएं या फिर सतही तौर पर उसे निभाएं। मैं डेप्थ में जाने पर यकीन करती हूं। इस किरदार से निकलना बहुत मुश्किल होता है।

फिल्म का पूरा भार मेरे कंधे पर है

पहले मैं सोच रही थी कि यह फिल्म करूं या नहीं करूं। क्योंकि अब तक जितनी भी फिल्में मैंने की हैं वो किसी और के कंधे पर रही हैं। मुझे अपने किरदार को लेकर उतना फर्क नहीं पड़ता था। अब इस फिल्म का पूरा भार मेरे कंधे पर है। मैं बहुत ही नई हूं इसके लिए, कई बार सोचती हूं क्या मैं इस भार को संभाल पाऊंगी। अब जब रिस्क ले लिया है तो इसके लिए तैयार हूं।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *