अच्छी नींद चाहिए तो सुधारें कुछ आदतें

बदलती जीवनशैली में भागदौड़ और तनाव भरी दिनचर्या के बाद भी कई बार हमें नींद न आने की शिकायत रहती है। कई बार तो नींद न आने की समस्या इतनी गंभीर हो जाती है कि यह हमारी मानसिक सेहत को प्रभावित कर सकती है। ऐसे में अगर उन बातों पर अमल किया जाए, जिनके कारण आप सुखद नींद ले सकते हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद होगा। इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल के डॉ. अभिषेक शुक्ला की मानें तो अपनी आदतों और खानपान में थोड़ा बदलाव करके आप सुखद नींद पा सकते हैं।बदलती जीवनशैली में भागदौड़ और तनाव भरी दिनचर्या के बाद भी कई बार हमें नींद न आने की शिकायत रहती है। कई बार तो नींद न आने की समस्या इतनी गंभीर हो जाती है कि यह हमारी मानसिक सेहत को प्रभावित कर सकती है। ऐसे में अगर उन बातों पर अमल किया जाए, जिनके कारण आप सुखद नींद ले सकते हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद होगा। इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल के डॉ. अभिषेक शुक्ला की मानें तो अपनी आदतों और खानपान में थोड़ा बदलाव करके आप सुखद नींद पा सकते हैं।निर्धारित करें बायलॉजिकल क्लॉक : अगर आपको बेहतर नींद चाहिए तो आपको अपने शरीर के सोने और उठने का चक्र ठीक करना होगा। आपकी दिनचर्या कितनी भी व्यस्त क्यों न हो, अच्छी नींद के लिए सबसे जरूरी है कि आप अपने सोने का एक समय तय करें। अगर नियमित रूप से एक निर्धारित समय पर आप सोने की कोशिश करेंगे तो यह आपकी दिनचर्या में शामिल हो जाएगा और आपकी नींद को और सुखद बनाएगा।सुकूनभरी हो नींद : अच्छी नींद और सुकून के बीच बहुत गहरा संबंध है। अगर आपके सोने का कमरा स्वच्छ होगा तो मन शांत रहेगा और नींद आसानी से आएगी। सोने के कमरे में डिम लाइट ही रखें। गहरी नींद के लिए आप बेडरूम में हल्का वाद्य संगीत भी चला सकते हैं, जिससे मानसिक शांति मिलेगी और नींद जल्दी आएगी।
गर्म पानी से नहाएं :
त्वचा के तापमान के बढऩे पर नींद का अनुभव होने लगता है और आपको अच्छी नींद की गोद में कुछ जल्दी भेज देता है। सोने के समय से आधा घंटा पहले गर्म पानी से नहाएं या शावर लें। इससे आपको गहरी नींद आएगी।गैजेट्स को न कहें : दिन भर काम करने के बाद अगर आप अपने आराम के क्षणों में भी कंप्यूटर या टीवी से चिपके रहते हैं तो इनसे थोड़ी दूरी बना लें। कम से कम सोने के पहले कंप्यूटर पर काम करने से तो परहेज करना शुरू ही कर दें। टीवी, कम्प्यूटर, मोबाइल का उपयोग तथा बुक रीडिंग बिस्तर में लेटकर न करें। इससे आंखों में दर्द हो सकता हैं। इससे नींद चली जाती है।
डायरी लिखिए : यदि आपको लगता है कि आपका दिमाग जाग रहा है तो एक डायरी लिख कर आप दिमाग का बोझ हटा सकते हैं। दिन के दौरान आपके साथ जो भी हुआ है और इसके अतिरिक्त वह वस्तुएं जो आपके लिए चिंता और तनाव का कारण है, सब लिख डालिए और फिर देखिए कि कैसे आपको अच्छी नींद आती है।
खानपान में बदलाव :खानपान की आदतों में सुधार करके भी आप अच्छी नींद पा सकते हैं। सबसे पहले तो बहुत अधिक मसालेदार और भारी भोजन रात में न करें। रात के समय ज्यादा मसालेदार खाना, फास्ट फूड, मैदा से बने या तले हुए पदार्थ, देर से पचने वाला खाना आदि पाचन-तंत्र को प्रभावित करते हैं। ऐसा खाना पेट में गैस, दर्द, जलन, एसिडिटी आदि पैदा करता है,जिसकी वजह से नींद नहीं आती। इसके अलावा आप चेरी, खसखस, मेवे आदि का भी सेवन कर सकते हैं। साथ ही सोने से पहले ढेर सारा पानी पीएं। चाय और कॉफी जैसे पेय भी रात में न लें।एक्युप्रेशर भी है मददगार : हमारे शरीर में कई ऐसे विशेष बिंदु होते हैं, जिनको दबाने से हमें नींद आ जाती है। अपने अंगूठे को अपनी भौहों के बीच 20 सेकंड तक रखें। इस प्रक्रिया को दो-तीन बार करने से आपको नींद आने लगेगी।
कल्पना का सहारा : अगर आपको नींद नहीं आ रही तो यह कल्पना कीजिये कि आप बगीचे में या किश्ती में सवार होकर शांत पानी में घूम रहे हैं। ऐसा करने से आपको जल्दी नींद लाने में काफी मदद मिलेगी।
करें जागने की कोशिश : सुनने में थोड़ा अटपटा है, पर है कारगर। अगर आपको रात में नींद नहीं आ रही तो अपने आपको जागते रहने की चुनौती दें। इस प्रक्रिया को विरोधाभास कहा जाता है। ऐसा करने से आपकी आंखों की मांसपेशियों में थकान आ जाएगी, जिससे आपको नींद आने लगेगी। जागने के लिए आप टीवी का सहारा ले सकते हैं या कोई अच्छी किताब पढऩे की कोशिश कर सकते हैं या कुछ लिखने का काम भी कर सकते हैं।
योग है मददगार : योगाचार्य दीपक कुमार झा कहते हैं कि वैसे तो सेहतमंद शरीर के लिए योग और व्यायाम कारगर माना ही जाता है, पर कुछ ऐसे भी योगासन और आदतें हैं, जिन्हें अपनाने से अच्छी नींद आती है। शवासन, वज्रासन, भ्रामरी प्राणायाम आदि को नियमित रूप से करने से अनिद्रा की समस्या से भी छुटकारा मिलेगा और थकान पूरी तरह दूर होगी। कपालभाति व अनुलोम-विलोम प्राणायाम और ध्यान से मानसिक शांति मिलती है, जो अच्छी नींद लाने में बहुत सहायक होते हैं। ज्ञान मुद्रा बनाने से भी नींद अच्छी आती है।
मसाज लाभदायक: अच्छी नींद के लिए मसाज भी काफी लाभदायक साबित होती है। शरीर पर हल्के तेल की मालिश सुखद नींद के लिए लाभकारी है। अगर आप रोज पूरे शरीर की मालिश नहीं कर पाते तो सोने से पहले हाथ-पैर साफ करें और फिर अपने तलवों की मसाज करें। इससे शरीर का रक्त प्रवाह सही रहता है और थकान दूर होती है। अच्छी नींद के लिए रोज सोने से पहले इस मसाज से आपकी अनिद्रा की समस्या काफी हद तक दूर हो जाएगी।
बाएं नथुने से लें सांस: यदि आपको नींद नहीं आ रही तो आप बाईं ओर लेटकर अपने नाक के दायें नथुने को अंगुली से बंद करें और फिर बाएं नथुने से धीरे-धीरे श्वास लें। इससे आपको धीरे-धीरे नींद आने लगेगी। यह योग पद्धति आपके रक्तचाप को कम करती है और आपको शांत करती है।
मांसपेशियों को आराम: पीठ के बल लेट जाएं तथा नाक से लंबी और धीरे-धीरे सांस लें। साथ ही अपने पैरों की उंगलियों को जोर से तलुवों की तरफ भींच कर नीचे की ओर रगड़ें और फिर उंगलियों को ढीला छोड़ दें। इस प्रक्रिया को बार-बार करने से आपको अच्छी नींद आने लगेगी।
नींद लाने के उपाय
0 तरबूज के बीज, खसखस आदि के सेवन से अच्छी नींद आती है।
0 सोने से पहले पैरों को हल्के गर्म पानी से धोने से नींद जल्दी आ जाती है।
0 सोने से थोड़ी देर पहले गुनगुना मीठा दूध पीने से नींद अच्छी आती है।
0 गहरी नींद नहीं आती हो तो कच्चा प्याज सलाद के रूप में दोनों समय भोजन के साथ कुछ दिन खाने से गहरी नींद आने लगती है।
0 विशेषज्ञ मानते हैं कि सोने से पहले एक मु_ी चेरी का सेवन अच्छी नींद लेने में मददगार साबित होता है।
0 केले में मौजूद मैग्नीशियम और पोटैशियम अच्छी नींद को बढ़ावा देते हैं।
0 बादाम नींद को बढ़ावा देने के साथ ही मांसपेशियों में होने वाले खिंचाव और तनाव को कम करता है। इससे चैन की नींद लेना काफी आसान हो जाता है।
0 अगर आप रात को सोने से पहले हर्बल चाय पीते हैं तो अपने लिए एक अच्छी नींद का इंतजाम कर लेते हैं।
0 रात को खाना खाने के बाद थोड़ी देर टहलें, ताकि खाना पच जाए और पेट हल्का रहे।
0 आंखों की थकान मिटाने के लिए नियमित रूप से आंखों की एक्सरसाइज करें।
0 रात को सोते समय पैर के तलुवों में सरसों के तेल की मालिश करने से अच्छी नींद आती है।
0 रात को सोते समय एक रुई के टुकड़े को सरसों के तेल में भिगोकर नाभि पर रख लें और उस पर हल्की पट्टी लगा दें। इससे गहरी नींद आती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *