Immunity Booster होते हैं मुरब्बे,जानिए किस मुरब्बे के क्या हैं फायदे

स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद मौसमी फल-सब्जियों को जहां हम अपने दैनिक आहार में शामिल करते हैं, वहीं खाद्य-संरक्षण या फूड-प्रिजर्वेशन के कई तरीकों से इन्हें संरक्षित भी कर लेते हैं और लंबे समय तक इनका स्वाद लेते रहते हैं। फल-सब्जियों से बने मुरब्बे इनमें से एक हैं, जिन्हें हम अकसर मिठाई के तौर पर खाते हैं। इनमें से अनेक मुरब्बे गर्मियों की मार से बचाने में भी काफी कारगर साबित होते हैं। इनके बारे में बता रही हैं रजनी अरोड़ा
पोषक तत्वों और एंटीऑक्सिडेंट गुणों से भरपूर मुरब्बे हमारे स्वास्थ्य के लिए ही फायदेमंद नहीं, खूबसूरती बढ़ाने में भी सहायक हैं। ये हमारे शरीर को एनर्जी देने के साथ-साथ इम्यूनिटी बूस्टर का भी काम करते हैं। आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सा में तो इन्हें दवा की तरह इस्तेमाल किया जाता है। ठंडी तासीर लिए इन मुरब्बों का इस्तेमाल गर्मी के मौसम में कई बीमारियों को दूर रखने में सहायक है।
आंवले का मुरब्बा- गोलाकार, पीले और हरे नीबू के आकार का आंवला विटामिन सी, अमीनो एसिड, लिपिड और तांबा, जस्ता जैसे मिनरल्स का भंडार है। इसके नियमित सेवन से हमारे पाचन तंत्र और इम्यून सिस्टम मजबूत होते हैं। यह फेफड़ों को मजबूती देता है। इसके इस्तेमाल से सांस संबंधी संक्रामक बीमारियों से लडऩे में मदद मिलती है। यह एंटीऑक्सिडेंट गुणों के कारण हृदय, लिवर संबंधी बीमारियों की रोकथाम में लाभदायक है।आंवले के मुरब्बे में मौजूद विटामिन सी शरीर में कैल्शियम और आयरन के अवशोषण को बढ़ावा देता है। इससे सर्दी-जुकाम व कफ में आराम मिलता है और हड्डियां, दांत, नाखून और बाल मजबूत व स्वस्थ होते हैं। इसके इस्तेमाल से कोलेजन फाइबर के गठन में मदद मिलती है, जो जोड़ों के दर्द में आराम पहुंचाता है। यह पाचन प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सहायक है और पेट दर्द, अम्लता, कब्ज या पेट में गैस, उल्टी, सिर दर्द जैसी समस्याओं में फायदेमंद है। यह एक रासायनिक टॉनिक है, जिससे बच्चों की याददाश्त और एकाग्रता बढ़ती है। यह गर्भवती महिलाओं में खून की कमी तथा रक्त में हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करता है। बाल झडऩे, बाल असमय सफेद होने जैसी समस्याओं में मुरब्बे का सेवन काफी कारगर है। इससे कफ और पित्त में आराम मिलता है। हमारे शरीर में बढ़ती उम्र के साथ पडऩे वाली झुर्रियों, नजर कमजोर होने जैसे प्रभावों को भी यह कम करता है
गाजर का मुरब्बा-एंटीऑक्सिडेंट तत्वों से भरपूर गाजर के मुरब्बे के नियमित सेवन से हाई ब्लड प्रेशर और हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा कम रहता है। यह लंबी बीमारी के बाद शरीर को तंदुरुस्त बनाने में सहायक साबित होता है। शरीर में आयरन की पूर्ति कर खून की कमी को पूरा करता है और स्फूर्ति प्रदान करता है। शीतल प्रभाव के कारण गाजर का मुरब्बा पेट की जलन, दर्द, भूख न लगने जैसी पेट की तकलीफों में भी आराम पहुंचाता है। इसमें मौजूद बीटा कैरोटीन और विटामिन ए जैसे पोषक तत्व कैंसर और रतौंधी को रोकने में मदद करते हैं। यह आंखों की रोशनी बढ़ाने में सहायक है। बीटा कैरोटीन सूरज की यूवी किरणों से त्वचा को होने वाले नुकसान को कम करता है।
कच्चे आम या केरी का मुरब्बा-फिनोलिक नामक एंटीऑक्सिडेंट गुण से भरपूर आम का मुरब्बा शरीर में रोग-प्रतिरोधक क्षमता के विकास में सहायक है। यह अम्लता और पाचन प्रणाली में गड़बड़ी के इलाज में मदद करता है। बैक्टीरियल संक्रमण, कब्ज, दस्त, पेचिश की स्थिति में इस मुरब्बे के सेवन से आराम मिलता है। इसमें मौजूद विटामिन ए, बीटा कैरोटीन, विटामिन ई और सेलेनियम हृदय रोग के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करते हैं। यह नेत्र विकारों के इलाज में भी मददगार है। इसमें आयरन तत्व काफी मात्रा में मिलते हैं। इसके सेवन से शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर नियंत्रित रहता है। यह एनीमिया से पीडि़त व्यक्ति और गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद है। कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट की अधिकता वाला आम का मुरब्बा वजन बढ़ाने और शरीर को तंदुरुस्त रखने के इच्छुक व्यक्तियों के लिए फायदेमंद है। यह एनर्जी बूस्टर का काम करता है।
हरड़ का मुरब्बा– हरड़ के मुरब्बे के नियमित सेवन से चोट या घाव होने पर जल्द आराम मिलता है। यह सूजन को कम करता है। यह भूख न लगने, पेट में कीड़े होने और पाचन संबंधी समस्याओं में राहत दिलाता है। जठरांत्र रोगों, ट्यूमर, बवासीर, मूत्र विकारों और मूत्राशय की पथरी में हरड़ के मुरब्बे का सेवन काफी लाभदायक होता है। मुरब्बे को गुड़ के साथ सेवन करने पर गठिया में सुधार हो सकता है।
बेल का मुरब्बा- बेल में मौजूद टेनिन और रेचक गुण पेचिश, हैजा, डायरिया जैसी स्थितियों में प्रभावकारी हैं। विटामिन और खनिज तत्वों से समृद्ध इस मुरब्बे का नियमित सेवन पेट के रोगों के खिलाफ लडऩे में प्रभावी भूमिका अदा करता है और पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है।
दिल की सेहत का सच्चा रखवाला है सेब का मुरब्बा-सुबह खाली पेट सेब का मुरब्बा खाकर हृदय रोग के जोखिम को कम किया जा सकता है। यह शरीर की शिथिलता और मानसिक तनाव को नियंत्रित रखता है। सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, अनिद्रा, भूलने की समस्या से बाहर लाने में सेब का मुरब्बा कारगर है। रात में गर्म दूध के साथ सेब का मुरब्बा लेने से अनिद्रा की स्थिति पर काबू पाया जा सकता है। इसमें मौजूद विटामिन सी स्कर्वी नामक रोगों के इलाज में मददगार साबित होता है। उम्र बढऩे के साथ शरीर पर पडऩे वाले प्रभावों जैसे चेहरे पर झुर्रियां पडऩा, कमजोरी महसूस होना, बाल झडऩे और उनके असमय सफेद होने जैसी समस्याओं के इलाज में भी यह कारगर है। यह एनीमिया से ग्रस्त लोगों के लिए भी फायदेमंद है।
सेवन में बरतें सावधानियां-हालांकि विभिन्न तरह के मुरब्बे हमारे शरीर में पोषक तत्वों की जरूरत को पूरा करते हैं, फिर भी इनमें कैलरी और शर्करा काफी मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए इनका सेवन एक सीमा में ही करना श्रेयस्कर है। एक चम्मच मुरब्बे से 8-10 मिलीग्राम कैल्शियम,1-2 मिलीग्राम विटामिन सी और 12-15 आईयू विटामिन ए की जरूरतें पूरी होती हैं। वैज्ञानिक शोधों से साबित हो चुका है कि एक वयस्क व्यक्ति को रोजाना 1000-1200 मिलीग्राम कैल्शियम, 80-90 मिलीग्राम विटामिन सी और 2500-3000 आईयू विटामिन ए की जरूरत होती है।
सर्दी-जुकाम और बुखार से पीडि़त व्यक्ति को ठंडी तासीर वाले इन मुरब्बों को खाने से बचना चाहिए। डायबिटीज के रोगी को इन मुरब्बों का सेवन करते समय चीनी सिरप कम-से-कम मात्रा में लेना चाहिए, ताकि उन्हें ब्लड में शुगर लेवल बढऩे का खतरा न रहे। अगर आपका वजन अधिक है, तो वजन बढ़ाने में सहायक साबित होने वाले इन मुरब्बों को सीमित मात्रा में ही खाएं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *