टाटा मोटर्स ने अपनी तरह के पहले ‘ट्रांसफॉर्म ट्रकर अभियान के जरिये भारत में ट्रकिंग समुदाय को सशक्ती बनाया

जयपुर, 6 अप्रैल (एजेन्सी)। भारत के ड्राइवर समुदाय के कल्या्ण और उत्थाटन के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को सुदृढ़ करते हुये टाटा मोटर्स ने एक अनूठी पहल ट्रांसफॉर्म ट्रकर अभियान के लिये जी मीडिया ग्रुप के साथ साझेदारी की है। इसके अंतर्गत देश भर में 5000 किमी की सड़क यात्रा की जायेगी। इस प्रोग्राम के माध्य म से, हमारा उद्देश्यप विभिन्न महत्व पूर्ण पहलुओं जैसे कि ड्राइवर कम्फ र्ट और सुरक्षा के बारे में जागरूकता फैलाकर ड्राइवर समुदाय का उत्था्न करना है। इस प्रोग्राम का संचालन भारत में 10 स्थासनों- चंडीगढ़, इंदौर, जयपुर, जमशेदपुर, पुणे, नागपुर, कानपुर, कोलकाता, धरूहेरा और नवी मुंबई में किया जायेगा। इसके माध्यथम से देश भर में 5000 से अधिक ड्राइवरों तक पहुंच स्थाापित की जायेगी। टाटा मोटर्स के लिये ड्राइवर की सुरक्षा और उनका कल्यावण सबसे प्रमुख प्राथमिकता रही है। इसके लिये ट्रकों की डिजाइन से लेकर खासतौर से निर्मित पेशकश तक शामिल हैं, जिन पर ध्या न दिया जाता है। टाटा मोटर्स के प्रत्येाक ट्रक को मजबूत, भरोसेमंद और तकनीकी रूप से उन्नंत खूबियों के साथ एर्गोनोमिक तरीके से डिजाइन किया जाता है, ताकि इसे चलाने वाले ड्राइवरों की थकान को दूर दिया जा सके और अधिकतम सहूलियत एवं सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।  नॉइज एवं हीट इंसुलेशन के उच्चातम स्तार, इमरजेंसी लॉकेबल रिट्रैक्टनर (ईएलआर) सीट बेल्ट्से के साथ सीट्स, चौड़े आरपीएम रेंज पर अधिकतम टॉर्क प्रदान करने के लिये तकनीकी रूप से उन्न त इंजन्सी, फैक्ट्री फिटेड एयर कंडिशनिंग, चौड़े एवं आरामदायक स्लीनपर बर्थ कुछ प्रमुख डिजाइन खूबियां हैं, जो एक बेहतर ड्राइविंग अनुभव देती हैं। टाटा मोटर्स द्वारा टाटा अलर्ट, टाटा सुरक्षा, टाटा डिलाइट, टाटा कवच और कई अन्यए सहित सम्पूैर्ण सेवा के बैनर तले ड्राइवर की आर्थिक, सामाजिक एवं स्वाट संबंधित बेहतरी के लिये समग्र समाधानों की पेशकश भी की जाती है। कंपनी ने कई पहलों जैसे कि टाटा डिलाइट ड्राइवर इंश्योवरेंस, सुपर सारथी, एक शाम सारथी के नाम, हेल्था कैम्स्ण स और स्टानर स्कॉंलरशिप प्रोग्राम की पेशकश भी की है, ताकि उनके योगदान को पहचाना जा सके और उनके जीवन के स्तसर को बेहतर बनाया जा सके। कंपनी ने प्रमुख मार्गों पर ड्राइवरों के आराम करने के लिये ड्राइवर्स रेस्टिंग स्टेरशन भी स्थाउपित किये हैं। ये केन्द्रस आराम करने के लिये चारपाई, लॉन्ड्री सर्विस, सैलून्से, क्लीन टॉयलेट्स और बाथरूम्सन से सुसज्जित हैं। कुल 1,353 वर्कशॉप्स ड्राइवरों के लिये रेस्टिंग एरियाज की पेशकश करते हैं। कंपनी के पास फिलहाल 2000 से ज्याउदा टचप्वापइंट्स, 212 पूर्णत: सुसज्जित मोबाइल वर्कशॉप्सफ और 484 कंटेनर वर्कशॉप हैं, जो देश भर के सभी प्रमुख ट्रकिंग और टिपर सेंटर्स में स्थापित हैं।इस पहल पर प्रतिक्रिया व्योक्तत करते हुये श्री आर टी वासन, वाइस प्रेसिडेंट, मार्केटिंग एंड सेल्स,, सीवीबीयू, टाटा मोटर्स लिमिटेड ने कहा, टाटा मोटर्स में, ट्रक ड्राइवरों को सहूलियत प्रदान करने और सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने को सबसे ज्योदा अहमियत दी जाती है। हमें ट्रकर्स अभियान के साथ जुड़कर बेहद खुशी हो रही है, जहां पर हमारा उद्देश्य् समुदाय को शिक्षित करना और सुरक्षित, आरामदायक उत्पासदों एवं ड्राइवरों के सशक्तिकरण के लिये वैल्यूउ ऑफरिंग पैकेज के माध्यषम से इसे सुनिश्चित करना है।  हमारा मानना है कि ये खासतौर से डिजाइन किये गये सॉल्यूउशन्सि डेली रूटीन को बेहतर बनायेंगे और सबसे महत्वतपूर्ण ट्रक ड्राइवरों को लाभान्वित करेंगे। ट्रांसफॉर्म ट्रकर अभियान के अंतर्गत उद्योग के प्रमुख हितधारक और नीति निर्माता मुंबई, इंदौर और चंडीगढ़ में तीन सीवी फोरम्स के लिये एक मंच पर एकसाथ आयेंगे। इसके बाद नई दिल्ली् में इसका समापन कार्यक्रम होगा, जिसमें ड्राइविंग को एक प्रतिष्ठित पेशे के तौर पर सपोर्ट करने के लिये विभिन्न् सुधारों, उपायों, ट्रेनिंग सेंटर्स इत्यासदि पर चर्चा की जायेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *