औरतों के जज्बे को सेलिब्रेट करते हैं मुन्नी-शीला जैसे गाने मलाइका

बॉलिवुड में बेहतरीन आइटम नंबर की बात की जाए तो उसमें मलाइका अरोड़ा के गाने जरूर शामिल होंगे। मलाइका अब एक डांस रिऐलिटी शो को जज कर रही हैं। हालांकि वह अपनी प्रफेशनल लाइफ से ज्यादा अपनी पर्सनल लाइफ से चर्चा में रहती हैं। हाल में मलाइका ने नवभारत टाइम्स से अपनी प्रफेशनल और पर्सनल लाइफ के बारे में खुलकर बात की। बॉलिवुड में डांस की बात हो, तो मलाइका अरोड़ा का जिक्र लाजिमी है। उन्होंने छैंया-छैंया, मुन्नी बदनाम हुई’, ‘माही वे’ जैसे गानों को पावरफुल डांस से यादगार बना दिया। अब डांस रिऐलिटी शो इंडियाज बेस्ट डांसर को जज करने जा रहीं मलाइका से हुई खास बातचीत:
आप एक और डांस रिऐलिटी शो जज करने जा रही हैं। क्या खास वजह रही?
बाप रे, ऐसे मत बोलो। दरअसल, मैंने पहले जो डांस शो किए हैं, जैसे झलक दिखला जा, वह सिलेब्रिटी बेस्ड शो है। वहीं, इंडियाज गॉट टैलंट में हर किस्म का टैलंट होता है। यह पहली बार है, जब मैं एक प्योर डांस शो, जिसमें आम लोग कंटेस्टेंट्स हैं, जज कर रही हूं। यह एक सोलो डांस का शो है, जिसमें देश के बेस्ट डांसर आएंगे। मैंने ऐसा शो पहले कभी नहीं किया है, इसलिए मैं इसका हिस्सा बनकर बहुत खुश हूं।
डांस की बात करें, तो छैंया छैंया, मुन्नी बदनाम… जैसे गानों से आपने फिल्मों में डांस के मायने बदले थे? आपका पसंदीदा डांस नंबर कौन सा है?
मेरे लिए सारे ही गाने बहुत स्पेशल हैं। इनमें से किसी को बेस्ट चुनना सही नहीं होगा, लेकिन जहां तक छैंया-छैंया की बात है, वह मेरा पहला गाना है, तो निश्चित तौर पर वह मेरे लिए अब तक का सबसे आइकॉनिक गाना है।
बहुत से लोगों का कहना है कि मुन्नी, शीला जैसे आइटम नंबर औरतों को नीचा दिखाते हैं। आपका क्या मानना है?
मुझे ऐसा बिलकुल नहीं लगता। मैंने बहुत सारे गाने किए हैं और मुझे कभी ऐसा महसूस नहीं हुआ। मैंने बहुत सोच-समझकर ये गाने किए हैं। मुझ पर किसी का दबाव नहीं था। किसी ने मुझे ये नहीं कहा कि आपको ऐसे कपड़े पहनने हैं या ऐसे स्टेप करने हैं। मुझे किसी ने कभी फोर्स नहीं किया। मैंने जितने भी गाने किए, वह गाने सुनकर, सोच-समझकर, अपनी मर्जी से किए। वे गाने करते हुए मुझे कभी किसी ने नीचा नहीं दिखाया, इसलिए मुझे कतई नहीं लगता कि ये किसी को नीचा दिखाता है। मैं बहुत खुश हूं कि मैं इन आइकॉनिक गानों का हिस्सा बनी। मुझे इन गानों के लिए बहुत सारा प्यार और सम्मान ही मिला है।
करण जौहर ने कहा था कि आज वे चिकनी चमेली… जैसा गाना नहीं बनाते, जबकि कटरीना के मुताबिक, ये गाने औरतों के जज्बे को सेलिब्रेट करते हैं। आपकी क्या राय है?
मैं कटरीना से सहमत हूं। मुझे भी लगता है कि यह सेलिब्रेशन की तरह है। ये हमारी भारतीय फिल्म संस्कृति का हिस्सा हैं। विदेशों में हमारी फिल्में अपने कलरफुल डांस और गानों के लिए ही जानी जाती हैं। हर देश की फिल्मों का अपना एक कल्चर होता है और यह हमारा कल्चर है। इसलिए, मैं यह दोबारा कहूंगी और हमेशा कहती रहूंगी कि मैंने जो भी गाने मैंने किए हैं, उन पर मुझे बहुत गर्व है, क्योंकि मुझे लगता है कि हर गाना हमारी फिल्मों को, हमारी औरतों को सेलिब्रेट करता है। ऐसा कोई गाना नहीं है, जिसके लिए मैं यह कहूं कि ओह गॉड, काश मैंने यह गाना नहीं किया होता या हम लोग ऐसे गाने न बनाते।

अब आप क्या नया करने या सीखने की प्लानिंग कर रही हैं?
मुझे लगता है कि जिंदगी में कभी फुल स्टॉप नहीं होना चाहिए। जिंदगी में हमेशा कुछ नया करने रहना चाहिए। जिंदगी का आनंद उठाना चाहिए। उसे सेलिब्रेट करना चाहिए और मुझे जिंदगी में जितने भी मौके मिले, मैं उन सबका भरपूर फायदा उठाना चाहूंगी। मेरा मानना है कि जिंदगी का जश्न मनाना चाहिए। इस वक्त मैं अपने बिजनस प्रॉजेक्ट्स को लेकर बहुत खुश हूं। मैं उसे और आगे बढ़ाना चाहती हूं। नई चीजें सीखते रहना चाहती हूं। मुझे यकीन ही नहीं था कि कभी मेरा बिजनस की तरफ रुझान होगा। यह मुश्किल है, क्योंकि यह कभी मैंने प्लान नहीं किया था, लेकिन जब मौका मिला, तो मैंने इसे एक अडवेंचर की तरह लिया कि देखा जाएगा। सफलता न भी मिले, तो कम से कम मैंने कोशिश तो की। मेरे लिए वह ज्यादा जरूरी है। यही बात मैं अपने बेटे को भी कहती हूं कि कोशिश करना ज्यादा जरूरी है। सक्सेस मिले या न मिले, वह बाद की बात है।
आपके बेटे अरहान की डांस में रुचि है? वह क्या करना चाहते हैं?
वह इस वक्त काफी कंफ्यूज है कि उसको क्या करना है या क्या नहीं, इसलिए मैंने उससे कहा कि आप जो करना चाहते हैं, वह कीजिए। अगर आप फिल्म बनाना चाहते हैं, तो फिल्म स्कूल जाओ, फिल्ममेकिंग सीखो, असिस्ट करो। अगर आप कुछ और करना चाहते हो, तो वो सीखो। फिर तीन-चार साल बाद आप यह तय कर सकते हैं कि आप किस चीज में बेस्ट हैं और किस दिशा में जाना चाहते हैं।
काफी समय से आप डांस नंबर्स से दूर हैं। ऐसा क्यों?
ईमानदारी से कहूं तो अभी ऐसा कुछ नया है नहीं, जो मुझे एक्साइट करे। अगर कल को कुछ ऐसा होगा, जो लगे कि मैं करना चाहती हूं, तो मैं करूंगी, लेकिन अभी कुछ मुझे एक्साइटिंग ही नहीं लग रहा है। ऐसा नहीं है कि ऑफर्स नहीं आते, लेकिन मुझे ऐसा लगना चाहिए कि मैं यह गाना करना चाहती हूं। इसमें मजा आएगा।
दोबारा शादी की खबरें काफी आती रहती हैं। कितनी सच्चाई है?
अरे, जब कुछ होगा, तो मैं आपको पक्का बताऊंगी।
आप जिस तरह ट्रोल्स और दूसरों की बातों से बेपरवाह होकर अपनी शर्तों पर जिंदगी जीती हैं, वह आज की औरतों के लिए मिसाल है। चाहें वह आपकी ड्रेसिंग हो या आपका रिलेशनशिप, ऐसा कर पाना कितना आसान या मुश्किल है?
मेरे पास टाइम नहीं है इन चीजों पर ध्यान देने के लिए। मेरी और कई जिम्मेदारियां हैं जिंदगी में। मैं बैठकर यह टेंशन नहीं ले सकती कि दूसरे मेरे बारे में क्या कह रहे हैं या क्या सोच रहे हैं। मेरे पास खुश होने के लिए बहुत सी दूसरी चीजें हैं। मैं पॉजिटिव साइड देखना पसंद करती हूं। नेगेटिव चीजों के लिए मेरे पास वक्त नहीं है। ये जो ट्रोल करते हैं, उनके लिए मुझे बुरा महसूस होता है कि आपके पास 24 घंटे हैं, उसमें आप 18 से 20 घंटे बैठकर किसी को ट्रोल करें, तो यह दुख की ही बात है न। मुझे तो यह 24 घंटे कम लगते हैं। इतना कुछ करना है, सीखना है कि 24 घंटे भी काफी नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *