सहायता और शिकायत की झूठी सूचना देने पर की जाएगी कानूनी कार्रवाई

श्रीगंगानगर, 3 अप्रैल (का.सं.)। कोरोना वायरस संक्रमण लोक डाउन के चलते किसी भी प्रकार की सहायता की झूठी सूचना देने पर अथवा झूठी शिकायत करने वालों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी। सादुलशहर के उपखंड अधिकारी एवं आपदा प्रबंधन अधिकारी हवाई सिंह यादव ने विकास अधिकारी, तहसीलदार, अधिशाषी अधिकारी, समस्त पीईओ, आईएलआर, ग्राम विकास अधिकारी, पटवारी को आज पत्र लिखकर निर्देशित किया है कि कोई भी व्यक्ति सक्षम होते हुए भी यदि कोरोना वायरस जैसी आपदा के समय सरकार से किसी भी प्रकार से सहायता के लिए क्लेम करता है या शिकायत करता है । और बाद में शिकायत झूठी पाई गई तो शिकायत से संबंधित मौका पर्चा बना कर सूचित किया जावे ताकि ऐसे लोगों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 52 के तहत कार्यवाही अमल में लाई जा सके। उपखंड अधिकारी ने बताया कि ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ 2 वर्ष की सजा एवं जुर्माने का प्रावधान है, जिससे प्रशासन को आपदा के समय जरूरतमंदों की सहायता में कोई बाधा न हो और ऐसे समाज विरोधी तत्वों को उचित सजा दिलाई जा सके। श्री यादव ने धारा 52 राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के बारे में बताया कि जो कोई भी व्यक्ति जानबूझकर केंद्र अथवा राज्य सरकार से किसी सहायता, राहत, मरम्मत, पुनर्निर्माण या अन्य लाभ को प्राप्त करने के लिए दावा करता है । और वह जानता है कि यह झूठा है तो ऐसी स्थिति में केंद्र, राज्य अथवा जिला अथॉरिटी द्वारा जांच के पश्चात अपराध सिद्ध होने एवं दोषी पाए जाने पर उस व्यक्ति को अधिकतम 2 साल की जेल एवं जुर्माने से दंडित किया जा सकता है। यादव ने पत्र की प्रतिलिपि जिला कलक्टर श्रीगंगानगर, पुलिस वृत्ताधिकारी (ग्रामीण) थाना अधिकारी सादुलशहर एवं लालगढ़ पुलिस थाना को भी भेजी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *