हरियाणा के कुख्यात गिरोह के 3 हार्डकोर अपराधी पुलिस के हत्थे चढ़े

श्रीगंगानगर,13 सितंबर (का.सं.)। हरियाणा के एक कुख्यात अपराधी गिरोह के तीन हार्डकोर क्रिमिनल आज सुबह राजस्थान के श्रीगंगानगर और बीकानेर जिलों की सीमाओं पर पुलिस व ग्रामीणों द्वारा घेराबंदी कर ले जाने पर कर लिए जाने पर पकड़े गए। पकड़ में आए तीनों कुख्यात अपराधियों पर हत्याएं, लूटपाट डकैती जैसे संगीन अपराधों के न केवल बड़ी संख्या में मुकदमे दर्ज हैं बल्कि इन पर भारी भारी इनाम राशि भी है। इनके कब्जे से तीन विदेशी कीमती पिस्टल और 86 कारतूसबरामद हुए हैं। पकड़े जाने से बचने के लिए इन अपराधियों ने ग्रामीणों पर 40 से अधिक गोलियां चलाईं, जिससे एक ग्रामीण गोली घायल हो गया। इससे पहले इन अपराधियों ने श्रीगंगानगर जिले के सूरतगढ़ कस्बे के समीप कल रात को वाहन को साइड ने दिए जाने की बात को लेकर भी एक युवक पर गोलियां चला दीं। यह युवकश्रीगंगानगर के एक हॉस्पिटल में उपचाराधीन है। पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों ने खुलासा करते हुए बताया कि आज सुबह करीब 6 बजे श्रीगंगानगर और बीकानेर जिलों की सीमाओं पर नेशनल हाईवे 62 पर अर्जुनसर-असरासर गांवों के बीच ग्रामीणों ने तीन संदिग्ध युवकों को देखा जो किसी किसी साधन से बीकानेर जाने का इंतजार कर रहे थे। गांव वालों को इनकीबोलचाल से संदेह हुआ। उन्होंने जब युवकों को घेरना शुरू किया तो उन्होंने पिस्तौलें निकाल लीं। ग्रामीणों को दूर भगाने के लिए एक के बाद एक उन्होंने फायर करने शुरू कर दिए। श्रीगंगानगर जिले में सूरतगढ़ व राजियासर और बीकानेर जिले में महाजन लूणकरनसर आदि थानों की पुलिस कल रात से ही तीन संदिग्ध युवकोंकी तलाश में भागदौड़ कर रही थी। सुबह असरासर गांव में लोगों द्वारा घर लेने पर
तीन युवकों के फायरिंग करने का जैसे ही पता चला राजियासर व महाजन थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। तब तक गांव वालों ने इन युवकों को घेर लिया था औरउनकी पिटाई शुरू कर दी थी। इस दौरान एक युवक द्वारा चलाई गई गोली से भूराराम सारण नामक व्यक्ति घायल हो गया जो वहां से ट्रैक्टर पर जा रहा था। आक्रोशितग्रामीणों से पुलिस इन तीन युवकों को बड़ी मुश्किल से बचाया। तीनों को आनन-फानन में महाजन थाना ले जाया गया। मारपीट से एक युवक को चोटें आई।पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि पूछताछ करने पर खुलासा हुआ कि यहतीनों हरियाणा के कुख्यात अपराधी हैं, जिन पर भारी-भरकम इनाम राशि है। पकड़े गए अपराधियों में सुनील खीरा पुत्र राजकुमार निवासी कर विहार कॉलोनी करनाल, अंकुश पुत्र राजकुमार निवासी कमालपुर थाना बुटाना जिला करनाल और अंकित पंडित उर्फ पुत्र ओमप्रकाश निवासी दमाका थाना और जिला पलवल हरियाणा शामिल हैं। इनके कब्जे से 3 विदेशी पिस्टल और 86 कारतूस बरामद हुए हैं। पुलिस के अनुसार सुबह ग्रामीणों के साथ हुई झड़प के दौरान इनके कुछ कारतूस गिरगए जिसे लोग उठा ले गए।पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि अंकुश कमालपुर पर 30 अपराधिक मुकदमे हरियाणा व अन्य राज्यों के थानों में दर्ज हैं। अंकित पंडित पर कत्ल के साथ प्रकरण है और 11 अन्य मुकदमे भी चल रहे हैं। सुनील खीरा पर भी दो कत्ल के मामलों सहित अनेक संगीत मुकदमे दर्ज हैं। पूछताछ में सुनील ने खुद ही बताया कि उस पर दो लाख का इनाम घोषित है। हरियाणा पुलिस से इसकी पुष्टि की जा रही है। अंकित पंडित पर पचास हजार और अंकुश पर एक लाख का इनाम घोषित है। इनका एक चौथा साथी कल देर रात सूरतगढ़ इलाके में गाड़ी सहित पकड़ा गया है। यह व्यक्ति हनुमानगढ़ जिले में पीलीबंगा थाना क्षेत्र के गांव लिखमीसर का सुरेंद्रपालसिंह है। उससे सूरतगढ़ पुलिस पूछताछ कर रही है। पकड़े गए इन अपराधियों के खिलाफ सूरतगढ़ और महाजन थानों में हत्या के प्रयास और अवैध हथियार रखने के 2 मुकदमे दर्ज किए गए हैं।यह हुआ घटनाक्रम श्रीगंगानगर और बीकानेर जिला पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि हरियाणा के यह तीनों खतरनाक अपराधी कल देर शाम को हनुमानगढ़ जिले के पीलीबंगा कस्बे से बीकानेर को रवाना हुए थे। इनकी गाड़ी को सुरेंद्रपालसिंह चला रहा था। रात लगभग 9 बजे सूरतगढ़ में इंदिरा सर्किल के पास इनकी गाड़ी (आरजे 50-जीए 2925) के आगे एक और गाड़ी जारी थी। इस गाड़ी द्वारा साइड नहीं दिए जाने पर इंदिरा सर्किल के समीप इनकी मामूली झड़प हो गयी। पुलिस के अनुसार इन अपराधियों की गाड़ी पर कथित रूप से साइड में देने वाली गाड़ी में सवार सूरतगढ़ क्षेत्र के युवक दयालराम जाखड़ व उसके साथी ने उठाकर ईंट दे मारी, जिससे उसका एक शीशा टूट गया। सुरेंद्रपालसिंह, दयालराम की गाड़ी को साइड से हल्की सी टक्कर मारते हुए आगे निकल गया। दयालराम जाखड ने गाड़ी में टक्कर लगी तो गुस्से में आकर ने सुरेंद्रपालसिंह गाड़ी का पीछा किया। नेशनल हाईवे पर कमल होटल के नजदीक उसने ओवरटेक कर गाड़ी को रोक लिया। गाड़ी के रुकते ही उसमें से उतरे दो ने लोगों ने पिस्तौल से दयाल के पैरों के नजदीक एक फायर किये। फिर उस पर दो गोलियां दाग दीं एक गोली उसके एक पांव में घुटने के पास और दूसरी गोली जांघ के पास लगी। गोलियां चलने पर दयाल का साथी भाग गया। बाद में सुरेंद्रपाल तीनों बदमाशों को लेकर बीकानेर की तरफ गाड़ी भगा ले गया। इस वारदात की सूचना मिलते ही सूरतगढ़ सिटी पुलिस ने हाईवे पर आगे राजियासर और महाजन थानों की पुलिस को सतर्क कर दिया। घायल दयालराम को सूरतगढ़ के ट्रॉमा सेंटर में पहुंचाया गया। देर रात को उसे श्रीगंगानगर रेफर कर दिया गया।उधर, राजियासर थाना क्षेत्र में इंदिरा गांधी नहर की बुर्जी संख्या 330 के पास सुरेंद्रपाल से गाड़ी रुकवा कर तीनों बदमाश उत्तर गए। पैदल खेतों की तरफ भाग गई। सूरतगढ़ सिटी पुलिस ने सुरेंद्रपालसिंह को उसकी गाड़ी सहित पकड़ लिया। तब पता चला कि भागने वाले तीनों खतरनाक बदमाश है। पुलिस सुरेंद्रपालसिंह के अपराधिक रिकॉर्ड और उसके ऐसे खतरनाक अपराधियों के साथ संबंध होने की जांच कर रही है।रात भर दौड़ती रही पुलिस सुरेंद्रपालसिंह से जब पता चला कि उसकी गाड़ी से उतर कर फरार हुए बदमाशों के पास खतरनाक हथियार हैं,तो इस पूरे इलाके में पुलिस की हथियारबंद नाकेबंदी कर दी गई। सूरतगढ़ सिटी, सूरतगढ़ सदर, जैतसर, राजियासर,श्रीविजयनगर, अनूपगढ़, घड़साना, महाजन, लूणकरणसर, कालू, पल्लू और जामसर सहित श्रीगंगानगर,बीकानेर में हनुमानगढ़ जिले के एक दर्जन थाना क्षेत्रों में पुलिस की लगातार गाडिय़ां इनकी तलाश में दौड़ती रहीं। आज सुबह 6 बजे सूरतगढ़-बीकानेर नेशनल हाईवे पर महाजन थाना क्षेत्र में असरासर गांव के पास इन तीनों बदमाशों की गांव वालों के साथ झड़प हो गई।जिसके बाद यह पकड़े गए। सूरतगढ़ सिटी पुलिस ने दयाल जाखड़ के बयान के आधार पर और महाजन थाना पुलिस ने किसान भूराराम सारण के फायरिंग में घायल होने पर हत्या के प्रयास व अवैध हथियार रखने के दो मुकदमे इन अपराधियों के खिलाफ दर्ज किए हैं।
कई दिनों से घूम रहे थे अपराधी
हरियाणा के यह तीनों कुख्यात अपराधी कई दिनों से बीकानेर, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर जिलों में घूम रहे थे। इनको अनेक स्थानों पर शरण मिली हुई थी। अब पकड़ में आने पर की गई पूछताछ में खुलासा हुआ कि इनके संबंध कुख्यात अंतर्राज्यीय गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के खास गुर्गे रहे अंकित भादू संपत नेहरा से थे। इन दिनों इनका संपर्क अमेरिका में रह रहे वीरेंद्रसिंह नामक संदिग्ध व्यक्ति से बना हुआ था, जो इनको इन तीनों जिलों में शरण मुहैया करवा रहा था। जोधपुर जेल में बंद हनुमानगढ़ जिले का एक अपराधी भैरूसिंह भी इनके साथ व्हाट्सएप कॉल के जरिए संपर्क बनाए हुए था। पुलिस के उच्च सूत्रों ने बताया कि कत्ल के एक मामले में भैरूसिंह जोधपुर जेल में बंद है। वह जेल से ही मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर इस गिरोह को की मदद कर रहा था। उसी ने ही सुरेंद्रपालसिंहको फोन पर इन्हें बीकानेर छोड़ आने के निर्देश दिए थे। यह तीनों अपराधी दो-तीन दिन पहले ही बीकानेर से पीलीबंगा क्षेत्र में आए थे। अब बीकानेर में चार-पांच दिन रुक कर वापिस हरियाणा जाकर कोई वारदात करने वाले थे। इन अपराधियों का संबंध लॉरेंस बिश्नोई के खास गुर्गों अंकित भादू व संपत नेहरा से भी रहा है। उल्लेखनीय है कि अंकित भादू को लगभग 6 महीने पहले चंडीगढ़ के पास पंजाब पुलिस ने एक एनकाउंटर में मार गिराया था। संपत नेहरा फिलहाल जेल में है। भादू-नेहरा के गिरोह ने पिछले वर्ष श्रीगंगानगर में एक हिस्ट्रीशीटर जॉर्डन उर्फ विनोदचौधरी की हत्या की थी। इस हत्याकांड के कई मुलजिम अभी भी फरार हैं।
8 लाख की एक पिस्टल
हरियाणा के इन तीनों खतरनाक अपराधियों सुनील, अंकुश और अंकित से बरामद किए गए 3 पिस्टल में से एक पिस्टल अमेरिका की नामी हथियार कंपनी बेरेटा की है। भारत में बेरेटा की की एक पिस्टल की कीमत वैसे पांच लाख है लेकिन बिना लाइसेंस के दो नंबर में इसकी कीमत करीब 8 लाख रुपये है। पुलिस सूत्रों के अनुसार यह पिस्टल काफी अति आधुनिक है। इस तरह की पिस्तौले पुलिस के पास भी नहीं हैं। दोअन्य पिस्तौले भी विदेशी हैं। यह भी काफी कीमती हैं। इनके पास से मोबाइल फोन भी मिले हैं।पुलिस सूत्रों का कहना है कि मोबाइल फोन से इन आपराधिक गिरोहों के बारे में बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारियां मिलने की संभावना है। खास बात यह है कि यह अपराधी फोन से डायरेक्ट कॉल नहीं करते थे बल्कि व्हाट्सएप कॉल के जरिए आपस में संपर्क बनाए रखते थे।
पपला गिरोह की चर्चा
हरियाणा के इन तीन अपराधियों के पकड़े जाने के बाद आज दिन भर इस इलाके में बड़ी चर्चा रही कि अलवर जिले के बहरोड़ पुलिस थाना पर हमला कर छुड़वाए गए खतरनाक अपराधी पपला को उसके साथियों सहित गिरफ्तार कर लिया गया है।देर शाम को पुलिस के अधिकृत सूत्रों ने पुष्टि की कि पकड़े गए इन तीन अपराधियों का पपला गिरोह से कोई संबंध नहीं है। यह हरियाणा का अलग गिरोह है। यह गिरोह सुपारी लेकर हत्याएं करने और फिरौती वसूलने की वारदातें करता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *