सर्वे के अनुसार भारत में 10 में से 8 बच्चे ओरल हैल्थ समस्याओं से पीडि़त है

मुंबई। कोलगेट पामोलिव (इंडिया) लिमिटेड के लिए कांतर आईएमआरबी द्वारा किए गए नए राष्ट्रीय अध्ययन में सामने आया है कि भारत में 10 में से 8 बच्चों को ओरल हैल्थ की समस्या है, यानि इस पर तत्काल ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है। इनमें से कुछ प्रमुख ओरल हैल्थ की समस्याओं में प्लाक का जमना, दांतों पर सफेद धब्बे, विजिबल केयरीज़, मसूढ़ों का सूजना, सांस में बदबू और मसूढ़ों से खून आना शामिल है। सर्वे में सामने आया कि 3 में से 2 बच्चों को कैविटी है या कैविटी उत्पन्न होने की आशंका है। अध्ययन में यह भी सामने आया कि 10 में से 9 व्यस्कों को एक प्रमुख ओरल हैल्थ समस्या है।सर्वे में एक बात और सामने आई कि बच्चों के डेंटल हैल्थ की वास्तविकता एवं उनके माता-पिता द्वारा उनके डेंटल हैल्थ के बारे मे बनाई धारणाओं के बीच बहुत बड़ा अंतर था। यह स्पष्ट असमानता ज्यादातर कम जागरूकता से प्रेरित है की ओरल हैल्थ उनके बच्चों के लिए कितना महत्वपूर्ण है। अध्ययन में यह खुलासा भी हुआ कि भारत में ज्यादातर बच्चे ओरल केयर की जरूरी विधियों, जैसे दिन में दो बार ब्रश करने और नियमित तौर पर डेंटल चेकअप का पालन नहीं करते। सर्वे में शामिल 70 प्रतिशत से ज्यादा बच्चे दिन में दो बार ब्रश नहीं करते और उनमें से 60 प्रतिशत पिछले एक साल में डेंटिस्ट के पास नहीं गए। इसके अलावा सर्वे में यह भी सामने आया कि प्रतिदिन मिठाई खाने वाले 10 में से 8 बच्चों को ओरल हैल्थ की समस्या है। सर्वे में शामिल लगभग 44 प्रतिशत बच्चों को दांतों के बड़े इलाज, जैसे रिस्टोरेशन, रूट कैनाल या एक्स्ट्रैक्शन कराने की जरूरत है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *