सौर ऊर्जा से रोशन होंगी प्रदेश की मण्डियां

जयपुर, 4 फरवरी (का.सं.)। प्रदेश की कृषि उपज मण्डियां तथा उप मण्डियां जल्द ही सौर ऊर्जा से रोशन होंगी। साथ ही, जयपुर में मुहाना स्थित फल सब्जी मंडी प्रांगण का भी कायाकल्प होगा और इसका प्रांगण साफ-सुथरा नजर आएगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए विभिन्न मण्डियों में सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने की योजना और मुहाना मंडी में कचरा संयंत्र स्थापित करने को स्वीकृति दे दी है।गहलोत द्वारा स्वीकृत कृषि विपणन विभाग के प्रस्ताव के अनुसार, जिन कृषि मण्डियों और उप मण्डियों के पास सोलर प्लांट की स्थापना के लिए पर्याप्त बजट उपलब्ध है, वहां केपेक्स मोड के माध्यम से संयंत्र लगाए जाएंगे। इस प्रक्रिया में विभिन्न बैंकों से संयंत्र की लागत राशि पर 70 से 80 प्रतिशत तक ऋण प्राप्त किया जा सकता है।प्रस्ताव के अनुसार जिन मण्डी समितियों के पास बजट उपलब्ध नहीं है, वहां सोलर प्लांट की स्थापना का काम रेस्को मोड से होगा। मुख्यमंत्री ने इन संयंत्रों की स्थापना के लिए 12.32 करोड़ रूपए के प्रस्ताव के लिए वित्तीय एवं प्रशासनिक स्वीकृति भी जारी की गई है। उल्लेखनीय है कि विभिन्न कृषि उपज मण्डी समितियां अपने प्रागंणो में सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए पहले ही प्रस्ताव भेज चुकी है। इस निर्णय से इन संयंत्रों की स्थापना जल्द होगी और मण्डियों में उपभोक्ताओं को सस्ती बिजली उपलब्ध हो सकेगी।मुख्यमंत्री ने मुहाना में ठोस कचरा प्रबन्धन के लिए 33.37 करोड़ रूपये की लागत से संयंत्र की स्थापना, संचालन और रखरखाव के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी है। इस संयंत्र के लिए यार्ड मद एवं सड़क मद में उपलब्ध बचत राशि का उपयोग कर सकेगी। इस संयंत्र की स्थापना के बाद में मुहाना मंडी में ही भारी मात्रा में उपलब्ध ठोस कचरे का निस्तारण कर कम्पोस्ट बनाया जा सकेगा और जिससे मंडी परिसर साफ-सुथरा रहेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *