लॉकडाउन का 17वां दिन : संक्रमण रोकने के लिए राज्य में भीलवाड़ा मॉडल लागू होगा

अजमेर में अनाज-भोजन बांटते समय फोटो लेने पर रोक

जयपुर, 10 अप्रैल (एजेन्सी)। राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। शुक्रवार सुबह 26 नए पॉजिटिव केस आए। इनमें 12 बांसवाड़ा के हैं। यह सभी पहले संक्रमित पाए गए व्यक्ति के संपर्क में थे। वहीं, जैसलेमेर में 8 संक्रमित मिले हैं। इनके अलावा झालावाड़ में 3, जबकि अलवर, भरतपुर और कोटा में 1-1 केस सामने आया है। इसके साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 489 हो गई। संक्रमण की बिग?ती स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, चूरू, झुंझुनूं और बांसवाड़ा समेत अन्य जिलों में भीलवाड़ा मॉडल लागू करने का निर्देश दिया है। वहीं, अजमेर में जिला प्रशासन ने जरूरतमंदों को अनाज या भोजन बांटते समय फोटो-सेल्फी लेने पर रोक लगा दी है। क्या है भीलवाडा मॉडल? भीलवाडा कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने राज्य सरकार के किसी सरकारी आदेश का इंतजार किए बगैर ही जिले को 20 चेकपोस्ट बनाकर सील कर दिया। राशन सामग्री की सप्लाई सरकारी स्तर पर करने और जिले के हर व्यक्ति की स्क्रीनिंग का फैसला किया। शहर में संक्रमण बांगड़ हॉस्पिटल के डॉक्टर से फैला, इसलिए सबसे पहले यह पता किया कि यहां कहां-कहां से मरीज आए। सूची निकलवाई तो पता चला कि 4 राज्यों के 36 और राजस्थान के 15 जिलों के 498 मरीज थे। इन सभी जिलों के कलेक्टर को इन मरीजों की सूचना देकर स्क्रीनिंग करवाई गई। 6 पॉजिटिव केस मिलते ही भीलवाड़ा में कर्फ्यू लगा दिया, ताकि लोग घरों में रहें। बांगड़ अस्पताल में आने वाले मरीजों की स्क्रीनिंग शुरू की गई। 6 हजार टीमें बनाकर 25 लाख लोगों की स्क्रीनिंग शुरू करा दी गई। करीब 18 हजार लोग सर्दी-जुखाम से पीडित मिले। 1 हजार 215 लोगों को होम क्वारैंटाइन कर वहां कर्मचारी तैनात किए गए। करीब एक हजार संदिग्धों को 20 होटलों में क्वारैंटाइन किया गया। शहर के 55 वार्डों में 2-2 बार सैनिटाइजेशन करवाया गया, ताकि संक्रमण न फैले। लोगों को परेशानी नहीं हो, इसलिए सहकारी उपभोक्ता भंडार से खाने-पीने के सामान की सप्लाई शुरू की गई। रोडवेज की बसें बंद करवा दी गईं। दूध सप्लाई के लिए डेयरी को सुबह सिर्फ 2 घंटे खोला गया। हर वार्ड में होम डिलीवरी के लिए किराने की 2-3 दुकानों को लाइसेंस दिए गए। कृषि मंडी को सब्जियां और फल सप्लाई करने की जिम्मेदारी दी गई। गुरुवार को राज्य में 80 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई गुरुवार को राज्य में 80 नए संक्रमित मिले। इनमें से जयपुर में 39, जैसलमेर में 9 (4 ईरान से आए) और जोधपुर में 5 (2 ईरान से आए) मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं, झालावाड़, झुंझुनं और टोंक में 7-7 पॉजिटिव मिले। कोटा, बांसवाडा में 2-2, जबकि भीलवाडा और बाडमेर में 1-1 केस मिला। गुरुवार को संक्रमण से 2 मौत हुईं। जोधपुर में बुधवार देर रात 77 साल के बुजुर्ग ने दम तोडा। गुरुवार को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसी रात जयपुर के रामगंज की रहने वाली 65 साल की संक्रमित महिला की एसएमएस अस्पताल में मौत हो गई। राज्य में संक्रमण से अब तक 8 लोगों की जान जा चुकी है। पहला ऐसा संक्रमित मिला, जिसकी हिस्ट्री बांगड़ अस्पताल से नहीं भीलवाड़ा के बापूनगर में गुरुवार शाम को एक व्यक्ति की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। करीब 11 दिन में यहां संक्रमण का यह दूसरा मरीज मिला है। इस केस ने प्रशासन की चिंता बढा दी, क्योंकि शहर का यह पहला संक्रमित है जिसका शहर के बांगड़ अस्पताल से कोई संबंध नहीं है। यह अस्पताल यहां कोरोना का मुख्य केंद्र रहा है। शहर में पहले मिले 27 मरीज इस अस्पताल में आकर ही संक्रमित हुए थे। जयपुर: संक्रमितों की संख्या 170 पहुंची, अब कम्युनिटी संक्रमण का डर : जयपुर में गुरुवार को 39 नए मामले सामने आए। इनमें 4 साल की एक बच्ची भी है। शहर में अब संक्रमितों की संख्या 170 हो गई है। जयपुर में पहला कोरोना पॉजिटिव 2 मार्च को मिला था। यह इटली का नागरिक था। 25 मार्च तक जयपुर में कुल 8 रोगी ही थे। 9 अप्रैल तक यह आंकड़ा 170 तक पहुंच गया। अब यहां कम्युनिटी संक्रमण का खतरा है। जयपुर के संक्रमितों में 127 अकेले रामगंज के हैं। इसके पीछे 45 साल के ओमान से लौटे एक व्यक्ति को जिम्मेदार माना जा रहा है। उसे 14 दिन के लिए होम क्वारैंटाइन किया गया था, लेकिन वह परिवार वालों और रिश्तेदारों से मिलता रहा। बाद में पॉजिटिव पाया गया। 25 मार्च से रामगंज और उसके आसपास के इलाके को सील कर दिया गया है। 7 मार्च से इस इलाके में सख्ती और बडा दी है। n राजस्थान के 24 जिलों में कोरोना, 8 की मौत : राजस्थान के 33 में से 24 जिलों में कोरोना के केस मिल चुके हैं। सबसे ज्यादा 170 पॉजिटिव जयपुर में हैं। जोधपुर 72 (इसमें 38 ईरान से आए), जैसलमेर में 31 (इसमें 4 ईरान से आए), झुंझुनूं में 31, भीलवाडा में 28, टोंक में 27, बांसवाड़ा में 24, बीकानेर में 20, कोटा में 18, झालावाड़ में 12, चूरू में 11, भरतपुर में 9, अलवर-दौसा में 6-6, डूंगरपुर-अजमेर में 5-5, उदयपुर में 4, प्रतापगढ़-पाली और करौली में 2-2, जबकि बाड़मेर, नागौर, धौलपुर और सीकर में 1-1 संक्रमित मिला है। राज्य में कोरोना से 8 लोगों की मौत हुई है। इनमें जयपुर में 3, भीलवा?ा में 2, जबकि बीकानेर-जोधपुर और कोटा में 1-1 व्यक्ति की जान गई है। भीलवाडा में पहली मौत 73 साल के व्यक्ति की हुई थी। उन्हें कई गंभीर बीमारियां भी थीं। दूसरी मौत भी भीलवाडा में 60 साल के व्यक्ति की हुई। उनकी तबीयत पहले से ही ठीक नहीं थी। तीसरी मौत जयपुर में 85 साल के व्यक्ति की हुई। वे अलवर का रहने वाले थे। उन्हें पहले ब्रेनहैमरेज हो चुका था। चौथी मौत बीकानेर में 60 साल की महिला की हुई। पांचवी मौत जयपुर में 82 साल के बुजुर्ग की हुई। छठी मौत कोटा में 60 साल की महिला की हुई। उन्हें निमोनिया की शिकायत थी। सातवीं मौत जोधपुर में 77 साल के बुजुर्ग की हुई। इसके बाद आठवीं मौत जयपुर के रामगंज में रहने वाली 65 साल की महिला की हुई। उदयपुर : किडनी के मरीज तक पुलिस ने मदद पहुंचाई लॉकडाउन में प्रशासन की मुस्तैदी और मानवीय पहलू देखने को मिला। यहां किडनी के एक मरीज ने दवा खत्म होने पर पुलिस ने उनकी मदद की। मगा तलाई में रहने वाले वकार हुसैन को किडनी की समस्या है। कर्फ्यू के बीच दवा खत्म होने से वे काफी परेशान थे। यह बात एसपी कैलाश चंद्र विश्नोई को पता चली तो उन्होंने पुलिसकर्मियों को उनके घर भेजा और उन्हें दवा उपलब्ध कराई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *