आयकर विभाग की चेतावनी, बिटक्वाइन खरीदे हैं तो रिटर्न में जरूर दिखाएं

कानपुर। आरबीआई और जीएसटी से लेकर आयकर विभाग तक की नजरों पर चढ़े बिटक्वाइन की चौतरफा निगरानी का दायरा बढ़ता जा रहा है। अगर किसी ने बिटक्वाइन में निवेश किया है तो उसका जिक्र आयकर रिटर्न में जरूर कीजिए। इसे लेकर आयकर विभाग ने चेतावनी जारी की है। बिटक्वाइन से हुई कमाई को आयकर विभाग बिजनेस आय मानेगा और टैक्स लगेगा।बिटक्वाइन में बड़ी मात्रा में कालाधन खपाए जाने की खबरों के बीच एक जीएसटी खुफिया महानिदेशालय ने एक तरफ जीएसटी लगाने का प्रस्ताव भेजा है तो दूसरी तरफ आयकर रिटर्न में इसके उल्लेख को जरूरी बनाने की कवायद की जा रही है। आयकर रिटर्न फॉर्म आईटीआर-2 और आईटीआर-3 में इसकी जानकारी देनी होगी। छिपाने पर सीधे-सीधे विभाग की कार्रवाई की जद में आ जाएंगे।आयकर विभाग के मुताबिक क्रिप्टोकरंसी से मिलने वाले लाभ को कैपिटल गेन या बिजनेस इनकम की श्रेणी में रखा जाएगा। अगर किसी के पास बिटक्वाइन है और आय 50 लाख रुपये से ज्यादा है तो रिटर्न में उसे संपत्ति के दौर पर दिखाना होगा, जब बिटक्वाइन की खरीद या बिक्री की जाएगी तब इसे कैपिटल गेन के रूप में दिखाना होगा।बिटक्वाइन बनाने पर अलग और बिटक्वाइन खरीदने पर अलग टैक्स देना होगा। एक श्रेणी माइनर की है और दूसरी निवेशक की है। माइनिंग से पैदा किए गए बिटक्वाइन कैपिटल गेन्स टैक्स नहीं लगेगा। अगर किसी ने बिटक्वाइन को पैसा देकर खरीदा है तो खरीदने और बेचने की कीमत के अंतर पर टैक्स देना होगा। इसे आय माना जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *