सुशासन सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता: गहलोत

सागवाड़ा में दिगम्बर जैन कन्या छात्रावास का शिलान्यास समारोह

डूंगरपुर, 06 अक्टूबर(का.सं.)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश की जनता को सुशासन देना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसके लिए हर स्तर पर पारदर्शिता एवं जवाबदेही सुनिश्चित की जा रही है। गहलोत रविवार को डूंगरपुर जिले के सागवाड़ा में दषाहुमड दिगम्बर जैन कन्या छात्रावास के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने की दिशा में इस प्रयास को सराहनीय बताया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार बालिकाओं की उच्च शिक्षा को बढ़ावा दे रही है। हमने इस बजट में एक साथ 50 कॉलेज खोलने की घोषणा की है। जिनमें महिला महाविद्यालय भी शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी के आदर्श और सिद्धान्तों का अनुसरण करते हुए सामाजिक समरसता के साथ ही चहुंमुखी विकास संभव है। उन्होंने कहा कि सरकार हर वर्ग के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए लगातार जन कल्याणकारी फैसले लिए जा रहे हैं। गहलोत ने कहा कि पिछले कार्यकाल में हमने मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा एवं जांच योजना शुरू की थी, जो बेहद कामयाब रही। इतना ही नहीं हमने मूक पशुओं के लिए भी नि:शुल्क दवा योजना शुरू की थी। अब हम गौवंश के संरक्षण एवं संवद्र्धन के लिए प्रत्येक पंचायत समिति में नंदीशाला खोलेंगे। मुख्यमंत्री नेस्थानीय जनप्रतिनिधियों की मांग पर माही नदी पर एनीकट बनाने के लिए जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के माध्यम से ठोस प्रयास करने का आश्वासन दिया। विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा कि माही बांध ने पूरे वागड़ क्षेत्र की खुशहाली में बड़ा योगदान दिया है। साथ ही, मेडिकल कॉलेज एवं जनजाति विश्वविद्यालय जैसी योजनाओं से क्षेत्र का चहुंमुखी विकास हो रहा है। सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना ने कहा कि गांधीजी के आदर्श आज भी प्रासंगिक हैं। हमें इन्हें आत्मसात कर आगे बढऩा चाहिए। आयोजना राज्यमंत्री राजेंद्र यादव ने कहा कि राज्य सरकार सबको साथ लेकर वागड़ क्षेत्र के विकास को गति दे रही है। जनजाति क्षेत्रीय विकास राज्य मंत्री अर्जुन सिंह बामणिया ने कहा कि जनजाति क्षेत्र के विकास में सरकार किसी तरह की कमी नहीं आने देगी। विधायक महेन्द्रजीत सिंह मालवीया, पूर्व सांसद ताराचन्द भगोरा एवं समाजसेवी दिनेश खोडनिया ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। समारोह में जैन आचार्य सुनील सागर महाराज ने भी आशीर्वचन प्रदान किये और मुख्यमंत्री को अहिंसा गौरव अलंकरण से सम्मानित किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि, अधिकारी, गणमान्यजन एवं बड़ी संख्या में आमजन मौजूद थे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *