जरूरत पडऩे पर 10-20 साल बाद भाजपा वाले गांधीजी की तरह नेहरू को भी अपना लेंगे

सीएम गहलोत ने साधा आरएसएस- भाजपा पर निशाना कहा …

जयपुर (कासं.)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देश के मौजूदा हालात को लेकर आरएसएस और भाजपा पर निशाना साधा है। गहलोत ने कहा कि आरएसएस और भाजपा ने अब गांधीजी को अपना लिया है। 10-20 साल बाद जब इन्हें जरूरत पड़ेगी और सूट करेगा तो पंडित नेहरू को भी अपना लेंगे। आरएसएस और भाजपा के लोग पंडित नेहरू के बारे में न जाने क्या-क्या कहते रहते हैं। गहलोत मंगलवार को दांडी मार्च की वर्तमान में प्रासंगिकता मुद्दे पर आयोजित वर्चुअल सेमिनार और हनुमानगढ़ में गांधीजी की प्रतिमा के वर्चुअल लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे। गहलोत ने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि गांधी अपने वक्त से ज्यादा आज प्रासंगिक हैं। वर्तमानप में देश के हालात शब्दों में बयां नहीं किए जा सकते। फोन पर बात नहीं कर सकते, लोग फोन पर बात करने से डरते हैं, और कहते हैं कि फेसटाइम पर या व्हाट्सएप पर बात करो। ईडी, सीबीआई, आईटी का दुरुपयोग सरकारें गिराने और बनाने में हो रहा है। चुनाव के चार दिन पहले नेताओं के परिवारों पर छापे पड़ रहे हैंं। उन्हें अहसास नहीं है कि जनता समझती भी है और समय आने पर जवाब भी देती है। भगवान इन्हें सद्बुद्धि दें। हमारे रास्ते अलग हैं, दुश्मन नहीं हैं। सरकार से मिलने वाली हर तरह की स्कॉलरशिप के लिए सर्वोदय विचार परीक्षा पास करनी होगी। इसे पास किए बिना स्कॉलरशिप नहीं मिलेगी। गहलोत ने कहा, राजस्थान में सब जगह सर्वोदय विचार परीक्षा चलेगी। बचपन में मैंने भी दी थी। छात्रवृत्ति और मेरिट आधारित सुविधाएं तभी मिलेंगी। जब यह परीक्षा पास करेंगे। सर्वोदय परीक्षा पास करना अनिवार्य होगा। इसकी किताबें सरकार देगी। गहलोत ने कहा, 2019 में गांधी दर्शन म्यूजियम बनाने की घोषणा की गई थी। वह पूरी नहीं हो सकी। खादी भंडार की जिस जमीन पर यह म्यूजियम बनना था। वह खादी आयोग मुंबई के यहां गिरवी रखी हुई थी। अब सेंट्रल पार्क में गांधी म्यूजियम बनाने के लिए जगह तय कर दी गई है। सेंट्रल पार्क में गांधी दर्शन म्यूजियम बनेगा। अफसरों ने साफ सफाई शुरू कर दी है। सभी गांधीवादियों को बुलाकर इसकी शुरुआत की जाएगी। गहलोत ने राजस्थान में युवा शांति सेना बनाने का सुझाव दिया। गहलोत ने कहा कि गैर सरकारी क्षेत्र में युवा शांति सेना बनाई जाए, सरकार इसमें पूरा सहयोग करेगी। शांति सेना के जरिए युवाओं को गांधीजी के जीवन और उनके विचारों से प्रेरित करवाया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *