आम आदमी को लगेगा एक और झटका ट्रेनों का किराया बढ़ाने की तैयारी

नई दिल्ली, 26 दिसम्बर (एजेंसी)। पहले ही महंगाई, बेरोजगारी सहित कई समस्याओं का सामना कर रहे आम आदमी के लिए एक और बुरी खबर है। बमुश्किल अपनी रोजी-रोटी चला रहे लोगों को अब ट्रेन की यात्रा में भी जेब और ढीली करनी पड़ सकती है। सरकार ने रेल किराया बढ़ाने का फैसला कर लिया है। रेलवे मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट ने इस संबंध में मंजूरी दे दी है। बताया जा रहा है कि किराये में 10 प्रतिशत वृद्धि हो सकती है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने किराया बढ़ाने के प्रस्ताव पर बातचीत कर ली है। जल्द ही विभिन्न ट्रेनों का किराया बढ़ाने की घोषणा की जा सकती है। मंत्रालय ने पैसेंजर ट्रेनों में सभी श्रेणियों में किराया बढ़ाने का रोडमैप तैयार कर लिया है। हर कैटेगरी में यात्री किराया बढ़ाने की योजना है। एसी, स्लीपर और सामान्य श्रेणी का किराया तो बढ़ेगा ही, साथ ही मासिक रेलवे पास भी महंगा होगा। हालांकि सरकार किरायों को तर्कसंगत रखेगी। इस बीच, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने गुरुवार को कहा कि रेलवे यात्री और माल भाड़ा दरों को तर्कसंगत बनाने की प्रकिया में है। भारतीय रेल ने घटते राजस्व से निपटने के लिए कई कदम उठाए हैं। किराया बढ़ाना एक संवेदनशील मुद्दा है और अंतिम फैसला लेने से पहले इस पर लंबी चर्चा की जरूरत होगी। चूंकि माल-भाड़े का किराया पहले से ज्यादा है, हमारा लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा यातायात को सडक़ से रेलवे की ओर लाना है। आर्थिक नरमी से रेलवे की आय प्रभावित हुई है। आरटीआई में सामने आया था कि चालू वित्त वर्ष (2019-20) की दूसरी तिमाही में रेलवे की यात्री किराये से आमदनी वर्ष की पहली तिमाही के मुकाबले 155 करोड़ रुपए और माल ढुलाई से आय 3901 करोड़ रुपए कम रही।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *