बजट सत्र के दौरान कभी भी मंत्रिमंडल विस्तार नहीं होता

अजय माकन ने मंत्रिमंडल विस्तार के कयासों पर लगाया विराम कहा…

जयपुर(कासं.)। कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने गहलोत सरकार के जल्द मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों पर विराम लगा दिया है। बुधवार को अजय माकन ने साफ कहा है कि बजट सत्र से पहले मंत्रिमंडल विस्तार नहीं होगा। वहीं प्रदेश में राजनीतिक नियुक्तियों के बारे में माकन ने कहा कि सीएम से इस बारे में चर्चा हुई है। प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक के बाद कांग्रेस मुख्यालय में माकन ने मीडिया से बातचीत की। हालांकि, मंत्रिमंडल विस्तार कब होगा? इस सवाल के जवाब में माकन ने कहा कि बजट सत्र बुला लिया गया है। सेशन के बीच में नियुक्तियां, मंत्रिमंडल विस्तार कभी नहीं होता है। मुझे इस तरह के आकलन और खबरें सुनकर हैरानी हो रही थी। बजट के दौरान तो मंत्रिमंडल विस्तार या मंत्रिमंडल नहीं बनता हैं। जब बजट आ रहा है तो नए मंत्री कैसे आ सकते हैं। मंत्रियों को प्रश्नों की तैयारी करनी रहती है। इन सारी चीजों को देखते हुए जो कभी नहीं हुआ वह अब कैसे होगा? माकन ने कहा कि सभी पार्टी पदाधिकारियों से जिला स्तर की राजनीतिक नियुक्तियों के लिए नाम मांगे गए हैं। 10 फरवरी तक सभी पदाधिकारियों से सूची देने को कहा है। इसके लिए सभी पदाधिकारियों को एक प्रोफार्मा भी दिया है। माकन ने 15 फरवरी तक छोटी राजनीतिक नियुक्तियां करने का दावा किया। हालांकि, माकन ने पहले 31 जनवरी तक राजनीतिक नियुक्तियों का काम पूरा करने का बयान दिया था लेकिन अब उस बयान से यू-टर्न ले लिया है। अजय माकन के बयान से यह साफ है कि बजट सत्र तक तो मंत्रिमंडल विस्तार टल गया है। आगे भी कब होगा इसकी पुख्ता समय सीमा नहीं है। सचिन पायलट गुट जल्द मंत्रिमंडल विस्तार का दबाव बना रहा है। लेकिन गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार के मूड में नहीं बताए जा रहे हैं। मंत्रिमंडल विस्तार लंबा खिंचने की संभावना इसलिए भी है कि बजट सत्र खत्म होने से पहले 4 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा हो जाएगी। इसके बाद अप्रैल के आसपास केरल विधानसभा के चुनाव हैं। इसमें गहलोत ऑर्ब्जवर हैं, ऐसे में केरल चुनाव पूरे होने के बाद तक मंत्रिमंडल विस्तार टलने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *