स्थिति सुधारने के लिए गोएयर आईपीओ से 3,600 करोड़ जुटाएगी, कोरोना और लॉकडाउन से एविएशन सेक्टर पर बुरा असर

मुंबई। कोरोना महामारी के चलते एविएशन इंडस्ट्री को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। एयरलाइन कंपनियों को यात्रियों की संख्या से पिछले 14 महीने से मुश्किल हो रही है। नतीजा यह है कि भारत में गोएयर अब प्राइमरी मार्केट में हिस्सेदारी बेचकर 3,600 करोड़ रुपए की फंड जुटाएगी। वाडिया ग्रुप की एयरलाइन कंपनी गोएयर ने IPO लॉन्चिंग के लिए मार्केट रेगुलेटर सेबी के पास आवेदन जमा कर दिया है। इससे पहले 13 मई को रीब्रांडिंग करते हुए कंपनी का नाम गोफर्स्ट किया था। मार्केट एक्सपर्ट्स मानते हैं कि एयरलाइन कंपनी की रीब्रांडिंग IPO  लाने की तैयारी का ही एक हिस्सा है। कंपनी के ष्टश्वह्र कौशिक कोहना ने कहा कि एयरलाइन पिछले 15 महीनों के मुश्किल समय से गुजर रही है। गोफर्स्ट आगे के अवसरों को देखता है। यह रिब्रांडिंग कल के पॉजिटिव कॉन्फिडेंस को दर्शाता है। IPO के लिए ICICI सिक्योरिटीज, सिटी ग्रुप ग्लोबल मार्केट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, मॉर्गन स्टैनली इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को ग्लोबल को-ऑर्डिनेट और बुक रनिंग लीड मैनेजर अपॉइंट किया गया है। IPO  के बाद शेयर BSE और NSE  दोनो एक्सचेंज पर लिस्ट होगा। एयरलाइन कंपनी IPO से मिले फंड का इस्तेमाल कर्ज भुगतान और सामान्य कॉर्पोरेट के लिए करेगी। हालांकि, गोएयर के ढ्ढक्कह्र की चर्चा इसी साल मार्च से हो रही थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *