बिल अँड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और टाटा ट्रस्ट्स के बीच साझेदारी

 

लखनऊ, 1 जुलाई (एजेन्सी)। बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और टाटा ट्रस्ट्स ने इंडिया एग्रीटेक इन्क्यूबेशन नेटवर्क की स्थापना और सोशल अल्फा क्वेस्ट फॉर एग्रीटेक इन्नोवशन्स की शुरुआत के लिए संगठित होकर काम करने का निर्णय लिया है। लघु किसानों में अभिनव विचार और प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए देश भर में विकास सहायकों के नेटवर्क के रूप में आईएआईएन का काम चलेगा। आईआईटी कानपूर के इनोवेशन एंड इन्क्यूबेशन सेंटर में आईएआईएन का पहला केंद्र होगा जो सोशल अल्फा, कलेक्टिव्ज फॉर इंटीग्रेटेड लाइवलीहुड इनिशिएटिव्ज (सीआईएनएल) और उत्तर प्रदेश प्रशासन के साथ मिलकर चलाया जाएगा। सोशल अल्फा क्वेस्ट फॉर एग्रीटेक इन्नोवशन्स की घोषणा प्रवर्तक और उद्यमिओं द्वारा किसानों के लिए विशेष तकनीकी सुविधाएं विकसित कर पाने के लिए अनुकूल परितंत्र निर्माण करने के उद्देश्य से की गई थी। लघु और सीमांत किसानों को उत्पादकता और मुनाफा बढ़ाने के लिए सक्षम करना इसका लक्ष्य होगा। इस क्वेस्ट में उन प्रवर्तकों और उद्यमिओं की खोज की जाएगी जिनके पास लघु किसानों की समस्याओं को दूर कर पाए ऐसी परिवर्तक प्रौद्योगिकी है। आईएआईएन के पहले दल में शामिल होने के लिए 12 इन्नोवशन्स को चुना जाएगा और उन्हें अगले 12 – 24 महीनों तक मूलभूत विकास सहायता प्रदान की जाएगी। क्वेस्ट में सहभागी होने के लिए सम्पूर्ण कृषि और पूरक मूल्य श्रृंखला के लिए अभिनव प्रद्योगिकी सुविधाओं को आमंत्रित किया गया है। इन सुविधाओं में पूरा ध्यान वाजिब दाम, आसान पहुँच, कार्यक्षमता और इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति को सबसे अच्छा अनुभव प्रदान करने पर केंद्रित होना आवश्यक है। उपज और कार्यक्षमता में सुधार लाना, फसल के बाद उसका नुकसान न हो इसलिए बेहतर प्रबंधन, मूल्य को बढ़ाना, बाजार में संबंधों में सुधार, आवश्यक बातों को खोज पाना आदि पर भी जोर दिया जाना चाहिए। बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की एशिया की कृषि विभाग की प्रमुख डॉ. पूर्वी मेहता ने बताया, लघु धारक किसानों के वित्तीय विकास को गति देने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करने के उत्तर प्रदेश प्रशासन के लक्ष्य की हम सराहना करते हैं। कृषि में व्यापक परिवर्तन लाने के लिए कृषि में अभिनव विचार, विकास सहायता और निवेश पारितंत्र को लघुधारक कृषि और पशुपालन उद्यमों की जरूरतों के अनुकूल बनाना जरुरी है। हम मानते हैं कि, सोशल अल्फ़ा, सीआईएनएल और आईआईटी कानपूर उन स्टार्टअप्स को सही परितंत्र और गहन मार्गदर्शन प्रदान करेंगे जिनके पास बड़े पैमाने पर चिरस्थाई परिणाम लाने की क्षमता है। हमें आशा है कि, आईएआईएन एक सहयोगपूर्ण और अनुकूल नेटवर्क के रूप में काम करेगा। इस नेटवर्क में उद्यमिओं को उनके व्यवसाय को बढ़ा पाने के लिए सहायक परितंत्र निर्माण करते हुए लघुधारकों द्वारा तकनीक के उपयोग पर विशेष जोर दिया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *