शादी में अज्ञात व्यक्ति बाराती बन ले उड़ा लाखों के गहने और नकदी

गहनों-नगदी की संदूकची ईंटों से भरी नहर में मिलीं

श्रीगंगानगर , 17 दिसम्बर (का.सं.)। हनुमानगढ़ जिले में खुईयां कस्बे में एक विवाह समारोह के दौरान अज्ञात व्यक्ति बाराती बनकर समुठनी रस्म के सोने चांदी के जेवरात और नगदी लेकर गायब हो गया। जिस लोहे की छोटी सी संदूकची में गहने और नगदी थी, वह गांव से काफी दूर एक नहर में मिली जिसमें ईंट भरी हुई थीं। पुलिस ने मामला दर्ज कर इस अज्ञात व्यक्ति की तलाश शुरू कर दी है।खुईयां थाना पुलिस के मुताबिक खुइयां में शीशपाल जाट की पुत्री का विगत 7-8 दिसंबर को विवाह था।भादरा तहसील क्षेत्र के गांव कुंजी से बारात 7 दिसंबर की देर शाम को पहुंची।रात को विवाह की रस्में बड़े हर्षोल्लास पूर्वक संपन्न हुई। इसी दौरान वर पक्ष के लोगों ने समुठनी के लिए एक संदूकची में कुछ गहने और नगद राशि वधू पक्ष को यह कहते हुए सुपुर्दगी की सुबह बारात वापसी के समय वापस दे देना। पुलिस के अनुसार फेरे होने के पश्चात काफी बाराती वापस चले गए लेकिन 15-20 लोग रुक गए। सुबह करीब 5 बजे एक व्यक्ति शीशपाल के घर आया और खुद को वर का रिश्तेदार बताकर समुठनी के गहने-नगदी देने के लिए कहा। शीशपाल की पुत्री कमरे में रखी यह संदूकची देने लगी तो बड़ी बहन ने देने से रोक दिया। बड़ी बहन ने इस शख्स से कहा कि वर पक्ष के जिसने यह संदूकची मंगवाई है, पहले उसे बुलाकर लाओ। यह शख्स उसे बुलाने जाने का कहकर वापस चला गया। उधर, दोनों बहने किसी और काम में व्यस्त हो गईं।इसके बाद यह व्यक्ति चुपके से वापस आया और कमरे में रखी संदूकची लेकर पार हो गया। उसमें 70 ग्राम सोने की हसली, 3 ग्राम सोने की बालियां और 78 ग्राम चांदी की पायजेब जोड़ी के अलावा 87 हजार रूपए नगद थे। संदूकची के गायब हो जाने का तब पता चला, जब सभी बाराती वापिस कुंजी पहुंचे। शादी में आए सामान को चेक किया गया तो समुठनी ने की रस्म में दी गई संदूकची नहीं मिली। इस पर दोनों परिवारों में हड़कंप मच गया। तीन-चार दिन तक अपने स्तर पर पता करने का प्रयास करते रहे कि यह संदूकची किसी रिश्तेदार के सामान में तो नहीं चली गई है। पुलिस के अनुसार 3 दिन पूर्व चैनपुरा गांव के एक व्यक्ति ने कुंजी गांव के एक स्वर्णकार को फोन कर बताया कि उसे नहर में एक संदूकची उसकी मिली है, जिस पर उसका स्टीकर लगा है। स्वर्णकार ने बताया कि यह संदूकची तो उसने गहनों के साथ कुंजी के एक अध्यापक को दी थी। इसी अध्यापक के पुत्र की खुईयां में शीशपाल जाट की पुत्री के साथ शादी समारोह में यह संदूकची गायब हुई थी। स्वर्णकार से पता चलने पर अध्यापक के परिवार वाले चैनपुरा पहुंचे तो उन्होंने संदूकची को पहचान लिया। इसमें ईंटे भरी हुई थी। पुलिस के अनुसार चैनपुरा,खुईयां और कुंजी के रास्ते पर ही पड़ता है। अनुमान है कि जिस व्यक्ति ने यह संदूकची उडाई वह गहने और नकदी निकाल कर चैनपुरा के पास नहर में फेंक गया। शीशपाल जाट द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ अब मामला दर्ज किया गया है।विवाह समारोह की वीडियोग्राफी और फोटो देखने पर भी संदूकची ले जाने वाला शख्स कहीं दिखाई नहीं दिया। पुलिस ने कहा कि इस व्यक्ति की तलाश के प्रयास जारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *