वर्क फ्रॉम होम करने वाले कर्मचारियों की मौज समाप्त! गूगल सैलरी पेमेंट को लेकर ले सकता है बड़ा फैसला

नई दिल्ली। जब से कोरोना महामारी ने दुनिया को अपने गिरफ्त में लिया है उसके बाद से काम करने के तौर-तरीकों में बहुत बदलाव आया है। ऑफिस जाकर काम करने की परंपरा अब काफी पुरानी हो गई है। बड़ी संख्या में लोग अपने घर से काम कर रहे हैं। इसका फायदा कंपनियों के साथ-साथ कर्मचारियों को भी हुआ है। लेकिन वर्क फ्रॉम होम लम्बा खिंचता देख कुछ कंपनियां नियमों में बदलाव भी कर रही हैं। समाचार एजेंसी रायटर्स के अनुसार बहुत जल्द गूगल अपने ऐसे कर्मचारियों की सैलरी में 10 प्रतिशत की कटौती करेगी जो कि पर्मोनेन्ट वर्क फ्रॉम होम करना चाहते हैं। बता दें, कोरोना महामारी की वजह से गूगल कर्मचारियों के पास विकल्प है कि वह आजीवन अपने घर से काम कर सकते हैं। कंपनी इस फैसले पर क्या बोली-इस पूरे मसले पर गूगल के प्रवक्ता ने कहा, हमारा पैकेज हमेशा से ही लोकेशन पर निर्भर करता आ रहा है।’ उन्होंने कहा कि शहर दर शहर के हिसाब से पेमेंट करते हैं। गूगल के इस फैसले के बाद छोटी कंपनियां भी नई हायरिंग के वक्त लोकेशन का ध्यान रखकर ही पेमेंट करने की योजना बना रही हैं। इसके अलावा फेसुबक और ट्विटर भी ऐसे कर्मचारी की सैलरी में कटौती करेगी जोकि किसी कम खर्चीले शहर में रहना शुरू कर दिए हैं। कंपनी कर्मचारी की एक सैलरी स्लिप देखने के बाद न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने पाया कि एक ऐसी कर्मचारी जो कि न्यूयॉर्क से एक घंटे की ट्रेन की दूरी पर है। अगर वह घर से काम करती हैं तो उन्हें न्यूयार्क में रहने वाले अपने साथी की तुलना में 15त्न कम सैलरी मिलेगी। इसके अलावा अगर गूगल कर्मचारी किसी कम खर्चीले शहर में रहना शुरू करते हैं तो उनकी सैलरी में 25त्न तक की कटौती संभव है। कर्मचारियों की क्या है राय-गूगल में कार्यरत एक कर्मचारी ने नाम ना छापने की शर्त पर समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि जून में लोकशन टूल जारी किया गया है। जिसके अनुसार अगर आप घर से काम करते हैं तो आपकी सैलरी में 10त्न की कटौती होगी। कर्मचारी ने कहा, जितनी मेहनत प्रमोट होने के लिए नहीं की थी, उससे ज्यादा मेहनत सैलरी बचाने के लिए कर रहा हूं। सेंट लुईस में वाशिंगटन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जेक रोसनफेल्ड बताते हैं कि गूगल का यह फैसला अलार्म है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *