रबी सीजन को देखते हुए यूरिया की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करें- मुख्यमंत्री

जयपुर, 25 सितम्बर (का.सं.)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रबी के सीजन में ज्यादा बुवाई की संभावना को देखते हुए किसानों को पर्याप्त मात्रा में यूरिया उपलब्ध कराने के लिए पहले से ही तैयारियां करने के निर्देश दिए हैं। गहलोत ने कहा कि प्रदेश में किसानों को फर्टिलाइजर उपलब्ध करवाने में किसी तरह की कमी नहीं रखी जाए। गहलोत बुधवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में कृषि विभाग की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस मानसून में हुई अच्छी वर्षा को देखते हुए रबी के सीजन में बुवाई बढ़ेगी, ऐसे में यूरिया का पर्याप्त स्टॉक रखा जाए। उन्होंने कहा कि इसके लिए अभी से ही तैयारी रखी जाए और केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर अतिरिक्त यूरिया की मांग की जाए ताकि बुवाई के सीजन में किसानों की तरफ से आने वाली मांग को पूरा किया जा सके। अधिकारियों ने बताया कि पिछले माह केन्द्र को पत्र लिखकर 50 हजार मीट्रिक टन यूरिया अतिरिक्त मंगवाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 सितम्बर से शुरू हुई गिरदावरी में विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं से फसलों को हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है। इसमें हाल ही में अतिवृष्टि एवं बाढ़ से प्रदेश में फसलों को हुए नुकसान का सर्वे कर उसके आधार पर किसानों को मुआवजा दिया जाएगा। प्रदेश में टिड्डी प्रकोप के बाद की स्थिति की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि किसानों को फसलों पर छिड़काव के लिए अनुदान पर कीटनाशक उपलब्ध कराने में कोई कमी नहीं रखी जाए। उन्होंने कहा कि जो किसान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत कवर नहीं हो रहे हैं उनकी फसलों को टिड्डी दलों द्वारा पहुंचाए गए नुकसान का मुआवजा एनडीआरएफ के प्रावधानों के अनुसार दिया जाए। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि इस साल 21 मई एवं 30 अगस्त को पाकिस्तान की ओर से आये टिड्डियों के दलों पर नियंत्रण कर लिया गया। टिड्डी नियंत्रण के लिए भारत सरकार के टिड्डी चेतावनी संगठन एवं राज्य सरकार द्वारा प्रभावी तरीके से कार्य किया जा रहा है। टिड्डी नियंत्रण के लिए 54 वाहन दवा के छिड़काव के लिए लगाये गये हैं। अभी तक 1 लाख 69 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में कीटनाशक का छिड़काव किया गया है। हवा के रूख में बदलाव के कारण फिलहाल पाकिस्तान की तरफ से टिड्डियों का आना बंद हो गया है। अधिकारियों ने बताया कि किसानों को अनुदानित दरों पर पौध संरक्षण रसायन उपलब्ध करवाया जा रहा है। बैठक में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, कृषि राज्यमंत्री भजनलाल जाटव एवं कृषि विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *