स्कूलों में गांधी साहित्य उपलब्ध कराया जाएगा-डोटासरा

 

महात्मा गांधी के 150वीं जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में रवीन्द्र रंगमंच सभागार में संगोष्ठी एवं समापन समारोह

जयपुर, 4 अक्टूबर (का.सं.)। शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश की सभी सरकारी विद्यालयों में महात्मा गांधी से संबंधित साहित्य उपलब्ध कराएगी ताकि स्कूली बच्चे उनके जीवन मूल्यों को जान सके और उसे अपने जीवन में उतारकर उनके बताए मार्ग पर चल सके । डोटासरा शुक्रवार को महात्मा गांधी के 150वीं जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में रवीन्द्र रंगमंच सभागार में संगोष्ठी एवं समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। शिक्षा राज्य मंत्री डोटासरा ने स्कूली बच्चों से रूबरू होते हुए कहा कि जिस प्रकार माता-पिता अपने बच्चों का जीवन संवारने के लिए सर्वस्व न्यौछावर कर देते हैं, उसी प्रकार महात्मा गांधी ने अपना पूरा जीवन समर्पित कर देश को आजादी दिलवाई, विकास का मार्ग दिखाया और राष्ट्रपिता कहलाए। उन्होंने कहा कि गांधीजी के जीवन से हमें ऐसी शक्ति मिलती है जिससे हर समस्या का समाधान संभव है। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में गांधीजी की प्रासंगिकता और ज्यादा बढ़ गई है। हमें समाज में सत्य, अहिंसा और सर्वजन समभाव का माहौल बनाना होगा। इसके लिए शिक्षा विभाग ने गांधीजी के जीवन मूल्यों से जुड़ी 28 लाख रुपए की पुस्तकें स्कूलों में वितरित करवाई है। अब प्रदेश के सभी राजकीय विद्यालयों में पर्याप्त गांधी साहित्य उपलब्ध करवाया जाएगा। सचेतक महेन्द्र चौधरी ने कहा कि युवा गांधीजी के साहित्य को पढ़ें, समझें और उसे अपने जीवन में उतारें। उन्होंने महात्मा गांधी के जीवन मार्ग पर चलकर आगे बढऩे का आग्रह किया। जिला कलक्टर जगरूपसिंह यादव ने कहा कि महात्मा गांधी का विचार कालजयी है। वह समय और देश की सीमाओं से परे है। उन्होंने महात्मा बुद्ध और महावीर स्वामी के सत्य-अहिंसा के विचार को पहली बार हथियार बनाकर देश को आजाद कराया। उन्होंने बताया कि जयपुर जिला कलक्टे्रट में गांधी दर्शन केन्द्र स्थापित किया गया है जहां गांधीजी के जीवन से संबंधित साहित्य उपलब्ध है। गांधीवादी विचारक सुदर्शन आयंगर ने कहा कि महात्मा गांधी का जीवन हमें दुनिया के कल्याण का संदेश देता है। राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य विजेन्द्र सिंह ने कहा कि गांधीजी ने सत्य-अहिंसा के रास्ते पर चलकर आजादी का अधिकार हासिल किया, उसी मार्ग पर चलकर बच्चे अपने अधिकार प्राप्त कर सकते हैं।राजकीय बालिका विद्यालय गांधी नगर की शिक्षिकाओं ने महात्मा गांधी के प्रिय भजनों की प्रस्तुति दी। राजस्थान विश्वविद्यालय नाट्य विभाग के छात्र-छात्राओं ने ‘गांधी अभी जिंदा है… की जीवंत नाट्य प्रस्तुति देकर गांधीजी की वर्तमान प्रासंगिकता का अहसास कराया। ललित शर्मा ने महात्मा गांधी की लाइव पेंटिंग बनाई। इमरान डागर ने अतिथियों को डागर घराने का आर्काइव भेंट किया। महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति के जिला संयोजक सवाई सिंह एवं सह संयोजक विचार व्यास ने संबोधित करते हुए तीन दिवसीय कार्यक्रम की महता से अवगत कराया। इस अवसर पर कलानेरी आर्ट संस्थान की निदेशक सौम्या शर्मा ने भी विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य शैलेन्द्र पाण्डे, महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति के राज्य संयोजक मनीष शर्मा, पूर्व एडवोकेट जनरल जीएस बापना सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *