कंपनियों में हिस्सेदारी बेचने पर सरकार का जोर, रुढ्ढष्ट के आईपीओ की ये है तैयारी

नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष के अंत तक भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की शेयर बाजार में लिस्टिंग हो जाएगी। ये जानकारी वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी है। सरकार को एलआईसी को लिस्टेड करने के अलावा राज्य द्वारा संचालित कंपनियों से लाभांश के रूप में 500 अरब रुपए (6.72 अरब डॉलर) जुटाने की उम्मीद है।निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग के सचिव तुहिन कांता पांडे ने बताया कि सरकार को राज्य के स्वामित्व वाली रिफाइनर भारत पेट्रोलियम कॉर्प लिमिटेड और एयर इंडिया की बिक्री को पूरा करने की उम्मीद है। आपको बता दें कि एलआईसी देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है और इसका पूर्ण स्वामित्व सरकार के पास है। बीते फरवरी महीने में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एलआईसी के आईपीओ की जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 में सरकार ने 1.75 लाख करोड़ रुपए का विनिवेश लक्ष्य रखा है। बीते दिनों चीफ इकनॉमिक एडवाइजर केवी सुब्रमण्यन ने बताया था कि एलआईसी के प्रस्तावित आईपीओ से ही सरकार को एक लाख करोड़ रुपए मिल सकते हैं। एलआईसी के आईपीओ का रिटेल निवेशकों को भी इंतजार है। इस आईपीओ के जरिए मुनाफा कमाने का मौका मिल सकता है। आपको बता दें कि जब कंपनियां शेयर बाजार में लिस्टेड होने वाली होती हैं तो उससे पहले आईपीओ लेकर आती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *