देश की पहली एमआरएनए वैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल की मंजूरी, पंजाब में नाइट कफ्र्यू 1 जनवरी तक बढ़ा

नई दिल्ली (एजेंसी)। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पुणे की जिनेवा कंपनी को ह्यूमन ट्रायल की मंजूरी दे दी है। ये देश की पहली वैक्सीन मैसेंजर-आरएनए यानी एमआरएनए टेक्नोलॉजी पर डेवलप की गई हैं। इस तरह के वैक्सीन मैसेंजर आरएनए का इस्तेमाल करते हैं, जो शरीर को बताते हैं कि किस तरह का प्रोटीन बनाना है। जिनेवा से पहले फाइजर और मॉडर्ना ने ह्यूमन ट्रायल्स पूरे कर लिए हैं। मॉडर्ना की वैक्सीन 94.5त्न तक इफेक्टिव है, जबकि फाइजर की वैक्सीन 90फीसद इफेक्टिव। यह दोनों भी वैक्सीन मैसेंजर- आरएनए यानी एमआरएनए बेस्ड टेक्नोलॉजी पर डेवलप की गई हैं। पंजाब में किसानों के बढ़ते प्रदर्शन के बीच चिंताजनक खबर सामने आई है। दूसरे सीरो सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य के 24.19फीसद लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। ये सर्वे 12 जिलों में हुआ था। खराब हालात को देखते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अफसरों संग बैठक की। नाइट कफ्र्यू को 1 जनवरी तक बढ़ाने का आदेश दे दिया। तब तक राज्य में बड़े जमावड़े भी नहीं हो सकेंगे। पुलिस को निगरानी रखने का आदेश दिया गया है। मेघालय के मुख्यमंत्री कोर्नाड संगमा कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर ये जानकारी दी। कोर्नाड ने लिखा कि मेरी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। फिलहाल होम आइसोलेशन में हूं और मुझे हल्के लक्षण हैं। पिछले पांच दिनों में मैं जिन लोगों के संपर्क में आया हूं उन सभी से अनुरोध है कि वे अपनी सेहत पर नजर रखें और जरूरी हो तो टेस्ट करवा लें। सुरक्षित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *