विवादों के बीच आईसीआईसीआई की हेड चंदा कोचर ने राष्ट्रपति के कार्यक्रम से किया किनारा

नई दिल्ली। वीडियोकॉन समूह को दिए गए कर्ज में गड़बड़ी के आरोपों का सामना कर रही आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर ने इसी सप्ताह यहां उद्योग जगत के एक कार्यक्रम से अपने को अगल कर लिया है। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद आएंगे। आयोजकों के अनुसार कोचर ने फिक्की लेडीज आर्गेनाइजेशन (एफएलओ) के वार्षिक सत्र में शामिल नहीं होने होने का फैसला किया है। इसी कार्यक्रम में राष्ट्रपति कोविंद के हाथों चंदा को सम्मानित कराया जाना था। कार्यक्रम के बारे में पहले जारी प्रचार सामग्री के अनुसार कोचर पांच अप्रैल को होने वाले कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि थीं। पिछले महीने इस बारे में जो सूचना भेजी गई थी उसमें कोचर का नाम था। हालांकि, आज जो संशोधित सूचना भेजी गई है उसमें उनका नाम नहीं है। एफएलओ की कार्यकारी निदेशक रश्मि सरिता ने कहा, ” वह विशिष्ट अतिथि थीं। लेकिन अब उन्होंने अपना नाम वापस ले लिया है। वह अब इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो रही हैं। एफएलओ फिक्की की महिला इकाई है। सीबीआई ने आईसीआईसीआई बैंक द्वारा वीडियोकॉन को 2012 में दिए गए 3,250 करोड़ रुपये के कर्ज मामले की शुरुआती जांच शुरू की है।इस मामले में कोचर के पति दीपक कोचर की भूमिका की भी जांच हो रही है। खबरों में आरोप लगाया गया है कि वीडियोकॉन के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत ने आईसीआईसीआई सहित बैंकों के गठजोड़ से कर्ज मिलने के बाद न्यू पावर रिन्यूएबल में 64 करोड़ रुपये का निवेश किया था। यह कंपनी दीपक कोचर की है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *