वित्तीय समावेश बढ़ाने के लिए होम क्रेडिट ने एक साथ कई शहरों में शुरू किया अभियान

 

जयपुर, 27 जून (एजेन्सी)। भारत में वित्तीय समावेश बढ़ाने की दिशा में प्रतिबद्धता के साथ कंज्यूमर फाइनेंस लेंडिंग क्षेत्र की अग्रणी नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) होम क्रेडिट इंडिया ने देश में वित्तीय समावेश बढ़ाने और अपनी उपस्थिति मजबूत करने के लिए कई शहरों में अभियान (मल्टी सिटी ड्राइव) शुरू करने का एलान किया है। इसकी शुरुआत आज जयपुर से की गई। वल्र्ड बैंक की ओर से जारी ग्लोबल फिनडेक्स रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 19 करोड़ लोगों की बैंकों तक पहुंच नहीं है। इस मामले में चीन के बाद दूसरे स्थान पर है। होम क्रेडिट कम या बिना क्रेडिट हिस्ट्री वाले और पहली बार कर्ज ले रहे लोगों को गण मुहैया कराकर उनकी जरूरतों को पूरा करती है। होम क्रेडिट के ग्राहकों में करीब 50 प्रतिशत ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार कर्ज लिया है और जिनकी कोई क्रेडिट हिस्ट्री नहीं है और संभवत: बैंकिंग के लिहाज से वह कर्ज पाने के योग्य नहीं हैं। अपनी नई पहल के तहत कंपनी जयपुर, जोधपुर और कोटा पर विशेष ध्यान देते हुए राजस्थान के प्रमुख शहरों में अपनी सेवा को विस्तार देगी। बैंक से दूर चल रही राज्य की बड़ी आबादी को औपचारिक वित्तीय सेवा सेक्टर से जोड़ते हुए समावेश को बढ़ावा दिया जाएगा। इस मौके पर होम क्रेडिट इंडिया के चीफ सेल्स ऑफिसर एरटेम पोपोव ने कहा, होम क्रेडिट का मानना है कि रेस्पॉन्सिबल बोरोइंग के लिए कर्जदाता को भी जिम्मेदार बनना पड़ता है। अपने ग्राहकों के साथ हमारा परस्पर संबंध है, जो हमारे लिए मानक बन गया है। यह संबंध भरोसे, जागरूकता, आत्मविश्वास और लोगों को बेहतर जीवन देने व उनकी उम्मीदों को पूरा करने में मदद की भावना से बना है। कोई कर्जदार जिसकी कोई क्रेडिट हिस्ट्री नहीं है, वह हमेशा नुकसान में रहता है और हम भारत की इसी आबादी को सशक्त करना चाहते हैं, जो बैंकों से दूर है तथा वित्तीय समावेश बढ़ाना चाहते हैं। पिछले कुछ वर्षों में होम क्रेडिट ने राजस्थान में उल्लेखनीय उपस्थिति दर्ज कराई है। 60 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ राजस्थान में 10,000 रुपये के कंज्यूमर फाइनेंसिंग सेगमेंट में हम अग्रणी हैं। मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर, बाजार व ग्राहकों की गहरी समझ तथा लगातार इनोवेशन के दम पर हमें यह विकासक्रम बने रहने की उम्मीद है। गण बढ़ाते हुए और वित्तीय समावेश को गति देने के साथ ही होम क्रेडिट जिम्मेदारी से कर्ज देने को लेकर भी प्रतिबद्ध है। इसके लिए कंपनी ऐसे वित्तीय समाधान पेश करती है जो साधारण और पारदर्शी है तथा कंपनी के व्यापक नेटवर्क के जरिये सभी की पहुंच में है। अपने विस्तृत नेटवर्क के जरिये कंपनी कर्ज लेने वालों की वित्तीय स्थिति को समझने, उनकी कर्ज चुकाने की क्षमता का आकलन करने और उन्हें सही प्रकार से कर्ज चुकाने के लिए प्रेरित करने में सक्षम हो पाती है। अंडरराइटिंग कैपेबिलिटी, रिस्क असेसमेंट, नए बाजार में प्रवेश और ग्राहक केंद्रित प्रक्रिया के प्रमाणित ट्रैक रिकॉर्ड की मदद से कंपनी ने सुनिश्चित किया है कि लोन सही तरीके से और जिम्मेदारी से दिया जाए। साथ ही ग्राहकों को अपनी वित्तीय योजनाओं को सही तरीके से संचालित करने का सुझाव भी दिया जाता है। इन सभी कदमों ने होम क्रेडिट को लोगों की पसंद बनााया है और कंपनी बाजार में एक अलग मुकाम हासिल करने में सफल हुई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *