उदयपुर से शुरू हुए इन्दिरा आईवीएफ के अब देश के विभिन्न हिस्सों में 93 केंद्र

नई दिल्ली, 15 दिसम्बर (एजेन्सी)। देश के 21 राज्यों में पहुंच और 93 प्रभावी केंद्रों के माध्यम से इन्दिरा आईवीएफ भारत में सबसे बड़ी फर्टिलिटी क्लीनिक श्रृंखला है। अपने संवदेनात्मक मूल्यों के साथ मरीजों के पेरेन्टहुड के सपने को समझने वाले संकल्पित चिकित्सकों की मदद से संस्थान ने 70,000 से अधिक दम्पतियों को संतान पैदा करने में मदद की है। हालांकि, इन्दिरा आईवीएफ के पूरे देश में एक जाना-माना नाम बनने से पहले इसकी शुरूआत उदयपुर में नि:संतानता के लिए एकल जाँच एवं निदान क्लिनिक के रूप में हुई थी।डॉ. अजय मुर्डिया ने 1988 में इन्दिरा इनफर्टिलिटी क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर की स्थापना की और दम्पतियों द्वारा गर्भधारण में असमर्थ होने का एक प्रमुख कारण पुरुष नि:संतानता को बताया। उन्होंने भारत का पहला शुक्राणु बैंक भी खोला। 23 साल बाद 2011 में उदयपुर में पहले इन्दिरा आईवीएफ में प्रजनन उपचार प्रदान करने के लिए इनके दो बेटे नितिज मुर्डिया और डॉ. क्षितिज मुर्डिया भी साथ में जुड़ गये। यह होमग्रोन संस्थान सफल क्लिनिकल परिणाम देने के अपने निरंतर प्रयासों से गर्भधारण के लिए संघर्ष कर रहे दम्पतियों में राजस्थान के बाद पूरे भारत में एक विश्वसनीय नाम बन गया।
अपनी यात्रा पर प्रकाश डालते हुए, इन्दिरा आईवीएफ के संस्थापक और चेयरमैन डॉ. अजय मुर्डिया ने कहा, हमने ऐसे समय में शुरुआत की जब नि:संतानता से जुड़ा सबसे बड़ा मिथक था कि यह एक महिला-केंद्रित स्थिति है। तब से, इसको लेकर धारणाएं विकसित हुई हैं और यह बहुत संतुष्टिदायक है कि हम राजस्थान में उस विषय की नींव रखने में सक्षम हुए। हमने विज्ञान को आगे रखते हुए जागरूकता फैलाने और गलतधारणाओं को समाप्त करने के लिए अपने तरीके से काम किया। इन्दिरा आईवीएफ के सह-संस्थापक और सीईओ डॉ. क्षितिज मुर्डिया ने कहा, हम 2011 में एक स्टैंड-अलोन आईवीएफ अस्पताल के रूप में थे, और इन्दिरा आईवीएफ में सहायक प्रजनन तकनीक से जन्मी पहली बच्ची नव्या 25 नवंबर को दस साल की हो गई। पहली सफलता की कहानी से लेकर अधिक जोड़ों की मदद करने के संकल्प तक, हमारे काम की न केवल राजस्थान में बल्कि देश के बाकी हिस्सों में भी तारीफ हुई । जैसा कि भारत के विभिन्न हिस्सों से कई लोग हमारे पास इलाज के लिए आए, हमने महसूस किया कि उपचार की आवश्यकता वाले प्रत्येक दम्पती के लिए यह आसान और अफोर्डेबल होना चाहिए । तभी हमने राजस्थान के बाहर विस्तार करने का फैसला किया और दस साल में भारत में हमारे 93 केंद्र हैं, और हम एक लाख से अधिक आईवीएफ साइकिल्स कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *