इंडियन बैंक-इलाहाबाद बैंक का विलय 31 मार्च तक, शाखाएं बंद नहीं होंगी, कर्मचारियों की छंटनी से भी इनकार

 

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन बैंक को उम्मीद है कि इलाहाबाद बैंक के साथ उसका विलय चालू वित्त वर्ष के अंत तक यानी 31 मार्च, 2020 तक पूरा हो जाएगा। इंडियन बैंक की प्रबंध निदेशक पद्मजा चुंदरू ने यह जानकारी दी।सरकार ने पिछले सप्ताह सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों के एकीकरण के जरिये चार बैंक बनाने की घोषणा की थी। इसी घोषणा के तहत इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक के साथ विलय होना है।चुंदरू ने कहा, पहले हमें बोर्ड में जाना होगा। एक प्रक्रिया का पालन करना होगा। अगले कुछ माह के दौरान दोनों बैंकों के निदेशक मंडल प्रक्रिया को पूरा करेंगे। मुझे लगता है कि यह प्रक्रिया 31 मार्च तक पूरी हो जाएगी।यह पूछे जाने पर कि विलय के लिए बैठक कब होगी, उन्होंने कहा कि यह जल्द होगी। इस बारे में बैठक इसी सप्ताह या अगले सप्ताह के शुरू में हो सकती है। उन्होंने इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक के विलय से ऐसा बैंक अस्तित्व में आएगा जिसकी अखिल भारतीय स्तर पर उपस्थिति होगी। मुनाफा बढ़ाने को प्राथमिकता-अभी इंडियन बैंक की दक्षिण भारत में मजबूत उपस्थिति है, जबकि इलाहाबाद बैंक की मौजूदगी उत्तरी और पूर्वी भारत में है। चुंदरू ने कहा, ‘विलय के बाद हमारी प्राथमिकता कारोबार और मुनाफा बढ़ाने के अलावा कर्मचारी प्रबंधन और कल्याण होगी। उन्होंने शाखाओं को बंद करने और कर्मचारियों की छंटनी से इनकार किया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *