सर्दी ने फिर ढहाया कहर: माउंट आबू में पारा गिरकर -2.4 डिग्री पहुंचा

जयपुर , 9 जनवरी (एजेंसी)। पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी के बाद राजस्थान में पारा एक बार फिर लुढ़क गया है। सर्द हवाओं ने आमजन को झकझोर कर रख दिया है। प्रदेश के एकमात्र हिल स्टेशन सिरोही जिले के माउंट आबू में पारा 5 डिग्री गिरकर -2.4 डिग्री पर पहुंच गया है। वहीं चूरू में पारा एक ही दिन में 8 डिग्री और कोटा में 7 डिग्री लुढ़क गया है। सर्दी में बढ़ोतरी के कारण कई जिलों में छोटे बच्चों की छुट्टियां कर दी गई हैं। राजधानी जयपुर में जबर्दस्त सर्दी के कारण 11 जनवरी तक अवकाश घोषित कर दिए गए हैं । माउंट आबू में बुधवार का तापमान 5 डिग्री पर था, लेकिन गुरुवार को सुबह यह लुढ़ककर -2.4 डिग्री पहुंच गया। तापमान में गिरावट के बाद कई इलाकों में बर्फ जम गई। लोग अलाव और चाय की चुस्कियों के साथ सर्दी को भगाने का जतन कर रहे हैं। जबर्दस्त सर्दी के कारण आमजन की दिनचर्या प्रभावित हो रही हैं। माउंट आबू के मैदानी इलाकों में घरों के बाहर खड़ी कारों की छत और बर्तनों में रखे पानी में बर्फ की परत जम गई। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में पारे में और भी गिरावट हो सकती है। चूरू में पारा 8 डिग्री गिरकर 2.6 डिग्री पर पहुंचा वहीं चूरू में भी एक बार फिर कड़ाके की सर्दी का दौर शुरू हो गया है। शीतलहर के कारण यहां एक ही दिन में पारा करीब 8 डिग्री तक गिर गया है। यहां बुधवार को यहां न्यूनतम तापमान 10.2 डिग्री दर्ज किया गया था, लेकिन उत्तरी सर्द हवाओं के कारण मौसम विभाग ने गुरुवार को न्यूनतम तापमान 2.6 डिग्री दर्ज किया है। यहां गुरुवार को सुबह की शुरूआत घने कोहरे के साथ हुई, जिससे यातायात प्रभावित हुआ। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो कोहरे ने गिरते तापमान को रोक दिया वरना पारा जमाव बिन्दू के करीब होता। आगामी दिनों में भी सर्दी से राहत मिलने के आसार नहीं है। यहां भी कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों का 11 जनवरी तक अवकाश घोषित कर दिया है। कोटा में भी सर्दी ने लोगों को ठिठुरा कर रख दिया है। बर्फीली हवाओं के कारण शीतलहर का प्रकोप तेज हो गया है। कोटा में गुरुवार को न्यूनतम तापमान 15.2 डिग्री दर्ज किया गया था, लेकिन इसमें 7 डिग्री की जबर्दस्त गिरावट आई है।पारा लुढ़ककर 8।2 डिग्री पर पहुंच गया। पारे के नीचे आ जाने से इलाके में हाड़ कंपा देने वाली सर्दी हो गई है। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार को कोहरे की वजह से विजिबिलिटी काफी कम रही।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *