कोरोना का नया वर्जन पहले से ज्यादा खतरनाक, 70 प्रतिशत तेजी से फैलता है

मुख्यमंत्री गहलोत का अलर्ट
कोताही बरती तो भुगतने पड़ेंगे गंभीर परिणाम

जयपुर (कासं.)। दिसंबर में भले ही कोरोना संक्रमण के केस राजस्थान में कम आ रहे हो, लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसे हल्के में नहीं लेने के लिए चेताया है। उन्होंने प्रदेश की जनता को सोशल मीडिया के जरिए मैसेज देते हुए वायरस के नए वर्जन के प्रति सचेत रहने के लिए कहा है। हालांकि एक दिन पहले ही नीति आयोग के सदस्य ने वायरस नये वर्जन का कोई भी केस भारत मेें नहीं मिलने की बात कही थी।मुख्यमंत्री ने पोस्ट किए अपने मैसेज में बताया कि कोरोना वायरस का जो नया वर्जन वीयूआई पहले से 70 प्रतिशत ज्यादा तेजी से फैलता है। ब्रिटेन के बाद ये अब ऑस्ट्रिया, फ्रांस, बेल्जियम समेत यूरोप के कई देशों में फैल रहा है, जहां नए वायरस के कई केस मिले हैं। उन्होंने आमजन से सतर्क रहने और किसी भी तरह की कोताही नहीं बरतने के निर्देश देते हुए हमेशा मास्क पहनने के लिए कहा है। उन्होंने कोताही बरतने पर इसके गंभीर परिणाम आने की भी चेतावनी दी हैं।नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने एक दिन पहले ही कहा था कि ब्रिटेन में मिले वायरस के नये वर्जन का कोई भी केस भारत में अब तक नहीं मिला हैं। उन्होंने कहा कि हमें घबराने की जरूरत नहीं है केवल सतर्क रहना हैं। क्योंकि यूके में वायरस में जो बदलाव हुआ है वह बदलाव बीमारी की गंभीरता को प्रभावित नहीं करता है।प्रदेश की बात करें तो दिसंबर में जिस तरह की आंशका जताई जा रही थी कि कोरोना की दूसरी लहर का सामना करना पड़ सकता है वैसा नहीं हुआ। दिसंबर में पिछले 23 दिनों में लगातार कोरोना केसों की संख्या में कमी आई हैं। वहीं रिकवरी रेट भी राजस्थान में तेजी से बड़ी हैं। प्रदेश में अब तक 3 लाख से ऊपर कोरोना के केस आ चुके है, जिसमें से लगभग 2.87 लाख मरीज ठीक हो चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *