पाकिस्तान का पांच टुकड़ों में बटंवारा होगा : जोईया

अनूपगढ़, 20 सितम्बर (एजेन्सी)। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के राष्ट्रीय गौ सेवा प्रकोष्ठ की आवश्यक बैठक अनूपगढ़ में आयोजित की गई। इस बैठक में मंच के राष्ट्रीय सह संयोजक एडवोकेट दादूखान जोईया ने विचार रखते हुए कहा कि हिन्दुस्तान से विभाजन होकर पैदा हुआ पाकिस्तान 1947 में अस्तित्व में आया था तब उसके बाद अलगाववादी ताकतों से त्रस्त पाकिस्तान का बटवांरा होकर बांग्लादेश का 1971 में जन्म हुआ था, लेकिन बांग्लादेश के विभाजन के बाद सांम्प्रदायिक व अलगाववादी ताकतों ने पाक को सुख की नींद नहीं सोने दिया। विभाजन से पहले पाक में बसे मुजाहिदिनों ने अपने आपको पाक नागरिक मान कर महाजिरों का दमन किया तथा दूसरे दर्जे का नागरिक माना। जोइया ने कहा कि अफगानिस्तान से सटे क्षेत्र पख्तूनिस्तान तथा बलूचिस्तान के लोग जनसंख्या की संरचना के बदलाव की शंका के चलते तथा भाषा व वैचारिक मतभेद के कारण मूल पाक से हटकर नए देशो की मांग सदियों से कर रहे हंै। उसी के चलते सिंध व कराची आदि क्षेत्र के लोग नया देश सिंधीस्तान की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत में हाल ही में जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा छीनकर धारा 370 व 35 अनुच्छेद हटाने जाने के बाद से चीन पाकिस्तान के अस्तित्व में रहने या न रहने का खतरा मान रहा है। पाकिस्तान के अन्दर उठ रही देश विभाजन की मांग पंजाबी पाकिस्तान, पूर्वी पाकिस्तान, सिन्धूस्तान, पख्तूनिस्तान तथा बलूचिस्तान अलग बनाओ के चलते आर्थिक दृष्टि से टूट चुका है, महंगाई के चलते पाक में उपद्रव हो रहे है एवं पाक भिखारी बनता जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में चर्चा है कि 5-6 वर्षों में पाकिस्तान दुनिया के मानचित्र से शायद गायब हो जाएगा। जोइया ने कहा कि पाक आतंकवाद की फैक्ट्री चलाकर भारत में अशांति फैलाना चाहता हैं यह मनसूबा उसके बस की बात नहीं हैं। अब पाकिस्तान भारत में मजहबी आतंकवाद को जन्म व संरक्षण नहीं दे सकेगा, क्योंकि राजनैतिक, धार्मिक, आर्थिक रोटियां सेकने वाला अध्यादेश 35 खत्म हो चुका है। अलगाववादी झण्डे जल चुके है। जोइया ने कहा कि भारत सरकार के प्रधानमंत्री तथा राष्ट्रपति महोदय से पत्र भेजकर मांग की जाएगी कि पाक अधिकृत कश्मीर को पाक से मुक्त कराया जाए तथा अन्र्तराष्ट्रीय स्तर पर संयुक्त राष्ट्र संघ में मांग उठाकर करतारपुर गुरूद्वारा पाकिस्तान से भारत में मिलवाया जाए, क्योंकि करतारपुर पहली पातसाही गुरूनानक देव जी की कर्म-स्थली है। उन्होंने बताया कि दिगी में 1 अक्टूबर को मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की बैठक फिर आयोजित होगी। आज की बैठक में जोइया के अलावा सैयदपीर अमीन शाह पूर्व सदस्य हज कमेटी, जुल्फ कार हिशामकी, टेकचंद नागपाल, अशोक गुलेरिया तथा इकबाल खां सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *